उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया की इच्छा है कि दिल्ली के हर विधानसभा क्षेत्र में अधिक से अधिक उर्दू लर्निग सेंटर खोले जाएँ: ताज मोहम्मद

  • विशेष अतिथि अभिनंदिता माथुर ने कहा कि उर्दू हमारी तहज़ीब का हिस्सा है, दिल्ली सरकार उर्दू को बढ़ावा देने के लिए बहुत से कार्य कर रही है

नई दिल्ली
उर्दू अकादमी दिल्ली के वाइस चेयरमैन हाजी ताज मोहम्मद के आह्वान पर मंगलवार को उर्दू लर्निंग सेंटर के इंस्ट्रक्टर के एक विशेष कार्यक्रम का आयोजन अकादमी के ऑडिटेरियम में किया गया। इस कार्यक्रम में अकादमी के गवर्निंग काउंसिल के सदस्य अब्दुल माजिद निज़ामी, जावेद रहमानी, ज़ियाउल्लाह, इसरार क़ुरैशी, शबाना बानो, निकहत परवीन, क्सलीम चौधरी, शकील मलिक, शैख़ जावेद, सलीम सिद्दीक़ी और मुस्तक़ीम ख़ान शामिल हुए। विशेष अतिथि के रूप में दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया की ओएसडी अभिनंदिता माथुर शामिल हुईं।


इस अवसर पर वाइस चेयरमैन ने अपने सम्बोधन में कहा कि हालात अनुकूल होते ही तमाम सेंटर शुरू किये जायेंगे। इसलिये आप लोग पूरी तरह तैयार रहें और हर सेंटर के ज़िम्मेदार लोग अपने-अपने छात्रों की सूची तैयार कर लें। उन्होंने बताया उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया की इच्छा है कि दिल्ली के हर विधानसभा क्षेत्र में अधिक से अधिक लर्निग सेंटर खोलने की तैयारी की जाए। यदि 500 सेंटर भी खोलने पड़ें तो खोले जाएँ।

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App


हाजी ताज मोहम्मद ने कार्यक्रम की विशेष अतिथि अभिनंदिता माथुर को सम्बोधित करते हुये कहा कि उर्दू अकादमी दिल्ली में जो कर्मचारियों की कमी है, उसे दूर किया जाए और जो लोग अरसे से अनुबन्ध के आधार पर काम कर रहे हैं,उनके मामलों पर ग़ौर किया जाए। उन्होंने कहा कि हालात सही होते ही उर्दू अकादमी के नियमित कार्यक्रम जैसे नए पुराने चिराग़, सेमिनार और मुशायरे इत्यादि करने की अनुमति भी दी जाए।
विशेष अतिथि अभिनंदिता माथुर ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि उर्दू हमारी तहज़ीब का हिस्सा है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के नेतृत्व में उर्दू को बढ़ावा देने के लिए बहुत से काम किये जा रहे हैं। आप सब सेंटर के ज़िम्मेदार लोग भी हमारी टीम का हिस्सा हैं। उन्होंने बताया कि मनीष सिसोदिया ने कहा है आप लोग एक व्हाट्सएप्प ग्रुप बनाएं और उन्हें भी उस ग्रुप में शामिल करें। ताकि उर्दू के कार्यक्रमों की तमाम जानकारी सबके पास पहुँच सके।


अब्दुल माजिद निज़ामी ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि उर्दू की तरक़्क़ी और बढ़ावे को लेकर जो सेंटर चलाए जाते हैं, वो किसी भी भाषा का आधार होते हैं और एक बुनियादी हैसियत रखते हैं। इसलिये उर्दू के सेंटरों के लिए हमारे प्रयास जारी हैं। आप तमाम लोग भी कोशिश करें कि दूसरे लोग भी उर्दू से जुड़ें और नई पीढ़ी को भी उर्दू से जोड़ें। दूसरे देश जैसे फ़्रांस, चीन, ईरान आदि अपनी राष्ट्रीय भाषा के आधार पर तरक़्क़ी कर रहे हैं। इसलिये अपनी राष्ट्रीय भाषा को बढ़ावा दें। इसलिये भी कि उर्दू हमारे समाज की सभ्यता की प्रतीक है। मुख्यमंत्री एवं उपमुख्यमंत्री द्वारा हाजी ताज मोहम्मद को वाइस चेयरमैन चुना जाना उर्दू के बढ़ावे के लिए फायदेमंद है।
इसरार कुरैशी ने अपने विचार व्यक्त करते हुये कहा कि दिल्ली में वही हुकूमत काम करेगी,जो लोगों के काम आएगी। उर्दू की 917 भर्तियां निकालना इस बात का सबूत है कि दिल्ली सरकार उर्दू को लेकर गम्भीर है। उन्होंने सेंटरों के जिम्मेदारों से कहा कि आप उर्दू के बढ़ावे के लिए बढ़ चढ़ कर हिस्सा लें।


जावेद रहमानी ने कहा कि उर्दू लर्निंग सेंटर में बढ़ोत्तरी की जाए। जो सेंटर चल रहे हैं वो चलते रहेंगे। जिन क्षेत्रों में उर्दू न जानने वाले रहते हैं,उन क्षेत्रों में विशेष रूप से सेंटर खोले जाएंगे। क्योंकि उर्दू किसी विशेष धर्म की भाषा नही है,बल्कि हिंदुस्तानी संस्कृति की भाषा है।
मुस्तक़ीम ख़ान ने कहा कि इस दौर में जहाँ सब कुछ बन्द है,वहाँ सूचना मिलने के कम समय में ही सेंटर के लोगों का कार्यक्रम में शामिल होना बड़ी ख़ुशी की बात है। उन नई कॉलोनियों में भी उर्दू लर्निंग सेंटर खुलने चाहिएं,जहाँ उर्दू बोलने बोलने बड़ी संख्या में रहते हैं।
इस अवसर पर सामाजिक कार्यकर्ता रिज़वान और इशरत ख़ान भी उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here