एमसीडी स्वीकृत 60 लाख रुपए से 734 दुकानें बना गरीब लोगों की मदद की जाए- सौरभ भारद्वाज

  • शास्त्री पार्क फर्नीचर मार्केट में एमसीडी की 272 दुकानों में लगी भीषण आग के बाद भाजपा शासित एमसीडी के किसी प्रतिनिधि ने अभी तक प्रभावितों की सुध नहीं ली- सौरभ भारद्वाज
  • कोर्ट के आदेश के बाद भाजपा शासित एमसीडी को दुकानें बनाने के लिए 60 लाख रुपए स्वीकृत किया था, लेकिन दुकानें नहीं बनाई गई- सौरभ भारद्वाज
  • भाजपा ने स्वीकारा कि करोड़ों रुपए का टेंडर लेने वाली कंपनी ब्लैक लिस्टेड है, लेकिन टेंडर रद्द करने और जिम्मेदार अधिकारियों पर कार्रवाई की बात नहीं कह रही- सौरभ भारद्वाज
  • अपने पार्षद संजय ठाकुर पर जालसाजी और फर्जीवाड़े की पुलिस में की गई कई शिकायतों पर भी भाजपा ने मौन धारण कर रखा है- सौरभ भारद्वाज

नई दिल्ली, 13 अप्रैल, 2021
आम आदमी पार्टी ने शास्त्री पार्क फर्नीचर मार्केट में एमसीडी की 272 दुकानों में लगी भीषण आग से प्रभावित गरीब लोगों की मदद करने की मांग की है। ‘आप’ के मुख्य प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने कहा कि दुकानों में आग लगने के बाद भाजपा शासित एमसीडी के किसी प्रतिनिधि ने अभी तक वहां जाकर गरीबों की नहीं सुध ली है। कोर्ट के आदेश के बाद भाजपा शासित एमसीडी को दुकानें बनाने के लिए 60 लाख रुपए स्वीकृत किया था, लेकिन दुकानें नहीं बनाई गईं। हम मांग करते हैं कि एमसीडी स्वीकृत 60 लाख रुपए से 734 दुकानें बनाकर प्रभावित गरीब लोगों की मदद की जाए। सौरभ भारद्वाज ने कहा कि एमसीडी से करोड़ों रुपए का टेंडर लेने वाली कंपनी को ब्लैक लिस्टेड होने की बात भाजपा ने स्वीकार कर ली है, लेकिन टेंडर रद्द करने और जिम्मेदार अधिकारियों व नेताओं पर कार्रवाई की बात नहीं कह रही है। साथ ही, अपने पार्षद संजय ठाकुर पर जालसाजी और फर्जीवाड़े की पुलिस में की गई कई शिकायतों पर भी भाजपा ने मौन धारण कर रखा है।
आम आदमी पार्टी के मुख्य प्रवक्ता एवं विधायक सौरभ भारद्वाज ने पार्टी मुख्यालय में प्रेस वार्ता कर कहा कि हमने कल बताया था कि कैसे एक सिक्योरिटी एजेंसी, जिसको गड़बड़ी और भ्रष्टाचार करने के कारण स्वयं एमसीडी ने ब्लैक लिस्ट किया था, उसी ब्लैक लिस्टेड कंपनी को करोड़ों रूपए का एक बड़ा टेंडर एमसीडी ने दिया है। मुझे बहुत खुशी हुई कि कल भाजपा ने जो जवाब दिया, उसमें उन्होंने यह मान लिया है कि उनको जानकारी है कि यह कंपनी ब्लैक लिस्टेड है, लेकिन उनको यह नहीं जानकारी है कि इस कंपनी को ठेका दिया गया है। शर्म की बात यह है कि उन्होंने यह नहीं कहा कि अब इसका ठेका हम रद्द कर देंगे या जिस अधिकारी और जिन नेताओं ने यह गड़बड़ी की है, उनके ऊपर कार्रवाई करेंगे। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता की तरफ से ऐसा कोई आश्वासन नहीं आया है।
सौरभ भारद्वाज ने कहा कि भाजपा के पार्षद संजय ठाकुर के ऊपर जो आरोप लगे, जो वीडियो हमने दिखाई, जो जालसाजी और फर्जीवाड़े की शिकायत उनके ऊपर पुलिस में कई बार की जा चुकी है। बिजली चोरी तक के लिए 3.50 लाख रुपए तक का जुर्माना पार्षद की पत्नी के ऊपर लगा है। उसके ऊपर भी भाजपा ने मौन धारण कर रखा है यानि कि भाजपा जानती है और मानती है कि उनके यहां भ्रष्टाचारी पार्षद हैं, मगर अपनी मजबूरियों के कारण उनके ऊपर कोई कार्रवाई करने की बात नहीं कर रहे हैं।
सौरभ भारद्वाज ने एमसीडी के एक और मामले का खुलासा किया। उन्होंने कहा कि यह मामला शास्त्री पार्क के फर्नीचर मार्केट का है। कुछ दिनों पहले यहां पर एमसीडी के दुकानों में आग लग गई थी। यह आग करीब 272 दुकानों में लगी थी। मगर एमसीडी की तरफ से उनका कोई नेता, कोई मेयर, कोई स्टैंडिंग कमेटी का सदस्य या कमिश्नर इन लोगों की सुध लेने नहीं पहुंचा है। यह बता दें कि 734 दुकानें तहबाजारी के अनुसार यहां पर कोर्ट के आदेश के बाद दिए गए थे। इनको जामा मस्जिद और मीना बाजार से हटा कर यहां बसाया गया था। यह दुकानें कोर्ट में लंबी लड़ाई के बाद इन लोगों को मिले थे। एमसीडी को 60 लाख रुपए खर्च कर इन्हें दुकानें बना कर देने थे। यह स्कीम भी एमसीडी ने स्वीकृत की थी, लेकिन अभी तक किसी आदमी को एमसीडी ने दुकान बनाकर नहीं दिया था। इसका अलाॅटमेंट एमसीडी की तरफ से था। लेकिन आग लगने के बाद एनसीडी की तरफ से कोई भी मदद नहीं दी जा रही है। हम एमसीडी से मांग करेंगे कि 60 लाख रुपए जो स्वीकृत किया गया था। अब उस 60 लाख रुपए का इन गरीब लोगों को 734 दुकानें बनाकर इनकी मदद की जाए और जिन लोग की दुकानों में आग लगी है, उनकी भी एमसीडी थोड़ी सुध ले। कल हमारे एमसीडी नेता विपक्ष और पार्षद वहां गए थे। वहां पर लोगों ने उनको बताया है कि एमसीडी ने वहां पर न तो सड़क बनाई है और न तो टाॅयलेट बनाया है। हम उन से अनुरोध करते हैं कि एमसीडी इस व्यवस्था को ठीक करें।

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here