पहला रोज़ा रख कर बोली अनाबिया, अल्लाह से कोविड के ख़ात्मे की दुआ करूंगी

शमशाद रज़ा अंसारी
रामपुर
रमज़ान माह गर्मियों में आने के बावजूद बड़ी उम्र के लोगों के साथ-साथ छोटी उम्र के बच्चे भी रोज़ा रखने को लेकर उत्साहित हैं। चिलचिलाती धूप व तेज गर्मी के बाद भी बच्चे रोजे रखने में पीछे नहीं रह रहे हैं। रामपुर के घेर पीपल वाला में रहने वाले रानू खाँ की सात वर्षीय पुत्री अनाबिया ने शुक्रवार को पहला रोजा रखा। रोजा रखने के साथ ही उसने वालिदा के साथ इबादत भी की।
अनाबिया ने कहा कि इफ्तार के समय सबकी दुआ क़ुबूल होती है। मैं अल्लाह से दुआ करुँगी कि कोविड जैसी बीमारी को जल्द से जल्द ख़त्म कर दे।
होनहार अनाबिया रामपुर पब्लिक स्कूल में कक्षा दो की छात्रा है। वह दीनी पढ़ाई के साथ-साथ अपनी कक्षा में भी अव्वल है। अनाबिया के पिता रानू खाँ ने बताया कि अनाबिया कई दिन से रोजा रखने की जिद कर रही थी। बेटी की जिद को पूरी करते हुए शुक्रवार को उसका पहला रोज़ा रखवा दिया।
रानू खाँ ने बताया कि अनाबिया ने दोपहर में जौहर की नमाज अदा की तथा कुरआन शरीफ की तिलावत की। शाम के समय प्यास व भूख की शिद्दत के बावजूद असर की नमाज अदा करने के बाद उसने घर में इफ्तारी बनाने में हाथ बंटाया। अनाबिया के पहला रोजा रखने से परिवार के लोगों में खुशी का माहौल है।
अनाबिया के ताऊ उजैर खाँ ने कहा कि अनाबिया द्वारा पहला रोज़ा रखने से हम सब बहुत ख़ुश हैं। हमारे परिवार में सभी बच्चे कम उम्र में ही रोज़ा रखना शुरू कर देते हैं। अनाबिया ने भी इस परम्परा को आगे बढ़ाते हुए केवल सात वर्ष की उम्र में ही रोज़ा रखा।

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here