Urdu

Epaper Urdu

YouTube

Facebook

Twitter

Mobile App

Home भारत बिहार: घूस न देने पर शौचालय में रहने को मजबूर दादी-पोती

बिहार: घूस न देने पर शौचालय में रहने को मजबूर दादी-पोती

बिहार: घूस न देने पर शौचालय में रहने को मजबूर दादी-पोती

बिहार
रिश्वत वो दीमक है जो हमारे देश को खोखला कर रही है। घूसखोरी इस कदर बढ़ गयी है कि भारत में कोई भी छोटा काम करवाना हो तो सरकारी अफसर को घूस देनी पड़ती है। जो लोग घूस दे देते हैं उनका काम झट से हो जाता है और जो न दें उन्हें सरकारी दफ्तरों के चक्कर काटने पड़ते हैं। घूसखोर न किसी की मजबूरी को देखते हैं और न किसी के दर्द का उन्हें अहसास होता है। बच्चे से लेकर बूढ़े तक घूसखोरों की कार्यशैली का शिकार बनते हैं। ऐसे ही घूसखोरों के ज़ुल्म की शिकार बिहार में एक दादी-पोती हो रही हैं। घूस न देने पर दादी-पोती शौचालय में रहने पर मजबूर हैं। उस पर शर्मनाक बात यह है कि मामला बिहार के उस जिले का है जिस जिले को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार मॉडल के रूप में पेश करते हैं तथा अपनी नई योजना की शुरुआत यहीं से करते हैं।


मामला बिहार के नालंदा जिले का है। यहाँ के करायपरसुराय प्रखंड में 75 साल की एक बुजुर्ग महिला कौशल्या देवी और उनकी 10 साल की पोती सपना कुमारी मकान के लिए परेशान है। सपना के माता-पिता का निधन हो गया है, जिसके बाद से ही वह अपनी दादी के साथ इस तपती गर्मी में सार्वजनिक शौचालय में जीवन यापन कर रही है।
दोनों दादी-पोती भीख मांगकर पेट भरती हैं और धूप-बारिश से बचने के लिए शौचालय में रहती हैं। उनके पास न तो कोई घर है और न ही कोई रहने का दूसरा ठिकाना। उनकी देखभाल करने वाला भी कोई नहीं और ऊपर से उन्हें सरकारी योजना का लाभ भी नहीं मिल पा रहा है।

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App


प्राप्त जानकारी के अनुसार साल 2017 में आवास योजना के तहद कौशल्या देवी को घर मिलना था। लेकिन इसके एवज में उनसे पैसे की डिमांड की गई और जब वह पैसे ना दे पाईं तो उनका नाम काट दिया गया। गांव के पूर्व मुखिया रबीश कुमार ने कहा कि उन्होंने कई बार प्रखंड में कौशल्या देवी का मुद्दा उठाया लेकिन अधिकारियों ने कोई मदद नहीं की।
जहां एक तरफ सरकार प्रशासन वृद्ध महिलाओं के विकास को लेकर दम भरती है। वहीं कौशल्या और उनकी पोती सरकारी योजना के लाभ से अब तक वंचित हैं। दोनों ने सरपंच व विधायक से कई बार मदद मांगी, लेकिन सरकार व गांव का सरपंच कोई भी इनकी सुध लेने नहीं पहुंचा। ऐसे में इन्हें देखकर सिस्टम पर सवाल उठना लाजमी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

संजय सिंह ने राम मन्दिर निर्माण ट्रस्ट पर लगाया ज़मीन खरीद में करोड़ो के घोटाले का आरोप

संजय सिंह ने राम मन्दिर निर्माण ट्रस्ट पर लगाया ज़मीन खरीद में करोड़ो के घोटाले का आरोप

मानवता की मिसाल बनी रिहाना शैख़ ने गोद लिए 50 बच्चे,पति कहते हैं ‘मदर टेरेसा’

मानवता की मिसाल बनी रिहाना शैख़ ने गोद लिए 50 बच्चे,पति कहते हैं 'मदर टेरेसा'

बुज़ुर्ग दम्पत्ति हत्याकांड: जिसे बनना था बुढ़ापे का सहारा,वही बन गया हत्यारा

बुज़ुर्ग दम्पत्ति हत्याकांड: जिसे बनना था बुढ़ापे का सहारा,वही बन गया हत्यारा ग़ाज़ियाबादगाजियाबाद के...

मुन्ना खान को जबरन धर्मान्तरण में फंसाने वाली को हाईकोर्ट ने लगाई फटकार,कहा “अध्यादेश पास होते ही कैसे हो गयी जागरूक”

मुन्ना खान को जबरन धर्मान्तरण में फंसाने वाली को हाईकोर्ट ने लगाई फटकार,कहा "अध्यादेश पास होते ही...

लड़कियों को शिक्षित और आत्मनिर्भर बनाना हमारा लक्ष्य: अली ज़ाकिर

लड़कियों को शिक्षित और आत्मनिर्भर बनाना हमारा लक्ष्य: अली ज़ाकिर शिक्षा के क्षेत्र में...