विदेशों के लिए वैक्सीन की बहार और राज्य मांगे तो हाहाकार: मनीष सिसोदिया

  • झूठ और प्रोपोगेंडा की राजनीति कर रही है केंद्र की भाजपा सरकार, 1.34 करोड़ वैक्सीन आर्डर करने पर दिल्ली को दिया सिर्फ़ 3.5 लाख वैक्सीन: मनीष सिसोदिया
  • संकट से बचने के लिए देश को वैक्सीन की जरूरत न कि भाजपा के झूठ और प्रोपोगेंडा की: मनीष सिसोदिया
  • विदेशों में वैक्सीन बेच देश का बेड़ा गर्क कर रही है केंद्र की भाजपा सरकार, जघन्य अपराध है ये: मनीष सिसोदिया
  • आखिर किस मजबूरी में अपने लोगों को मरता छोड़ विदेशों को वैक्सीन बेच रही केंद्र सरकार: मनीष सिसोदिया

नई दिल्ली 10 मई 2021
उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने सोमवार को बीजेपी के झूठ और प्रोपेगेंडा की धज्जियां उड़ा दी। एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के माध्यम से उन्होंने वैक्सीन को लेकर केंद्र सरकार के लचर रवैए पर कई सवाल खड़े किए। उन्होंने देश में पर्याप्त मात्रा में वैक्सीन उपलब्ध न करवा, अपने नागरिकों को मरता छोड़ विदेशों में वैक्सीन बेचने पर केंद्र सरकार पर गंभीर सवाल उठाए।
उपमुख्यमंत्री ने कहा कि जिस समय देश में कोरोना से हाहाकार मचा हुआ था उस समय केंद्र की भारतीय जनता पार्टी की सरकार ने अपने देश के युवाओं, बच्चों के जान की अनदेखी करते हुए 6.5 करोड़ वैक्सीन विदेशों में बेच दी। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने आज बेहद बेशर्मी के साथ दिल्ली सरकार पर झूठा आरोप लगाते हुए कहा है कि दिल्ली सरकार ने केंद्र से केवल 5.5 लाख वैक्सीन की मांग की थी।

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App


उपमुख्यमंत्री ने बीजेपी के झूठ को एक्सपोज करते हुए दिल्ली सरकार द्वारा वैक्सीन कंपनियों को भेजे गए पत्र और केंद्र सरकार से प्राप्त पत्रों को सामने रखा। उन्होंने कहा कि जब अप्रैल में केंद्र सरकार ने तय किया था कि वैक्सीन कंपनियां राज्यों को सीधे वैक्सीन बेच सकती है तब दिल्ली सरकार ने वैक्सीन कंपनी को 1.34 करोड़ वैक्सीन का आर्डर दिया जो 18-45 वर्ष के लोगों को लगाया जाना था। लेकिन वैक्सीन मिलने के बजाय केंद्र सरकार का पत्र मिला जिसमें साफ लिखा हुआ था कि दिल्ली को केवल 3.59 लाख वैक्सीन ही मिलेंगी। जिसमें 92 हजार 840 कोवैक्सीन और 2 लाख 67 हजार 690 कोविशील्ड वैक्सीन होंगे।
उपमुख्यमंत्री ने कहा कि बीजेपी झूठ बोल रही है। और पता नहीं बीजेपी के सामने ऐसी कौन सी मजबूरी है कि उसे झूठ बोलना पड़ रहा है। केंद्र सरकार ही यह तय कर रही है कि विदेशों को कितना वैक्सीन बेचना है और देश में राज्यों को कितना वैक्सीन देना है। उन्होंने कहा कि ये सभी पत्र सबूत है कि केंद्र सरकार राज्यों की वैक्सीन को रोक कर अपने लोगों को मरता छोड़ कर विदेशों को वैक्सीन बेच रही थी। न जाने केंद्र की भाजपा सरकार ने किस लालच में ऐसा किया।उपमुख्यमंत्री ने कहा कि यदि ये 6.5 करोड़ वैक्सीन अपने देश के लोगों को लगाई जाती तो पिछले दो महीनों में अपने देश में लाखों की संख्या में जान बचती।
केंद्र की भाजपा सरकार पर हमलावर रवैया दिखाते हुए उपमुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार की दिलचस्पी केवल विदेशों को वैक्सीन बेचने में है। उन्होंने भाजपा को नसीहत देते हुए कहा कि अपने झूठ की राजनीति और प्रोपोगेंडा को बंद करे और समझे कि देश संकट में है। उन्होंने कहा कि अब केंद्र की भाजपा सरकार को अपनी आंखें खोलनी चाहिए और देखना चाहिए कि देश में लोग मर रहे हैं, बिलख रहे है।
उपमुख्यमंत्री ने भाजपा पर आरोप लगाते हुए कहा कि जिस समय देश में लोग मर रहे थे, केंद्र सरकार ने बंगाल में चुनाव करवाये ओर लोगों को कोरोना में झोंक दिया। ऐसा ही केंद्र सरकार ने कुम्भ का आयोजन करके किया। और जब अपने लोगों की जान को बचाने का समय आया तो केंद्र सरकार ने वैक्सीन विदेशों में बेच दी। ये जघन्य अपराध है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार अब अपनी आंखें खोले और देश में वैक्सीन उपलब्ध करवाए न कि झूठी प्रोपोगेंडा की राजनीति कर देश का बेड़ा गर्क करे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here