सीमापुरी विधानसभा में डीडीए की जमीनों को अतिक्रमण और गंदगी मुक्त किया जाएगा: राजेन्द्र पाल गौतम

  • दिल्ली सरकार के कैबिनेट मंत्री और सीमापुरी विधायक राजेंद्र पाल गौतम ने सीमापुरी में डीडीए की पांच साइटों का अधिकारियों के साथ निरीक्षण किया
  • लापरवाही और रखरखाव के अभाव के कारण सीमापुरी में डीडीए की जमीनों पर हो रहे कब्जे – राजेंद्र पाल गौतम
  • जमीनों को अतिक्रमण, अवैध कब्जों, गंदगी और अवैध गतिविधियों से सुरक्षित रखना डीडीए की प्राथमिक जिम्मेदारी है- राजेंद्र पाल गौतम

नई दिल्ली
दिल्ली सरकार के समाज कल्याण मंत्री राजेंद्र पाल गौतम ने अपनी सीमापुरी विधानसभा में शुक्रवार को डीडीए के पांच प्लॉटों का अधिकारियों के साथ निरीक्षण किया। सीमापुरी विधानसभा क्षेत्र में डीडीए की खाली पड़ी जमीनों पर हो रहे अतिक्रमण, अवैध कब्जे और कूड़े के ढेर पर राजेंद्र पाल गौतम ने कड़ा एतराज जताते हुए डीडीए अधिकारियों को समस्या का स्थायी समाधान निकालने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि सीमापुरी विधानसभा में डीडीए की खाली पड़ी जमीनों पर हो रहे अवैध कब्जे और अतिक्रमण को हटाकर जन उपयोगी योजनाओं को शुरू किया जाएगा।

डीडीए अधिकारियों के साथ 8 अप्रैल को सचिवालय में हुई बैठक में निर्णय हुआ था कि जमीन पर स्थिति को समझने के लिए सभी पांच डीडीए साइटों का निरीक्षण किया जाएगा। इसके बाद शुक्रवार को मंत्री राजेंद्र पाल गौतम ने डीडीए के हॉर्टिकल्चर, प्लानिंग, इंजीनियरिंग एवं अन्य संबंधित अधिकारी के साथ पांचों डीडीए साइट का दौरा किया। ताहिरपुर स्थित वाटर बॉडी लैंड, एफ वन ब्लॉक स्थित गुरुद्वारे वाली ज़मीन, ईदगाह मैदान के नाम से मशहूर सुंदर नगरी ओ ब्लॉक, काछिपुरा तिकोना पार्क और ए ब्लॉक स्थित डीडीए अंबेडकर पार्क के निरीक्षण में अतिक्रमण, गंदगी, अवैध कब्जा और कूड़ा जलाने जैसी दिक्कतें सामने निकल कर आयी।

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

मंत्री राजेंद्र पाल गौतम ने अधिकारियों से पूछा कि यह काम कितने समय में पूरे हो जाएंगे।

टीएलएम हॉस्पिटल के निकट राजीव गांधी सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल के सामने ताहिर पुर वॉटरबॉडी की 9 एकड़ जमीन का जिक्र करते हुए मंत्री राजेंद्र पाल गौतम ने कहा कि जितने हिस्से पर कोर्ट केस चल रहा है उसे छोड़कर बाकी जमीन का विकास किया जाए। राजेंद्र पाल गौतम ने बताया कि यहां वाटर बॉडी के चारों तरफ वॉकिंग ट्रेक बनाया गया था जो आज जर्जर हालत में है। अधिकारियों ने बताया कि डीडीए के नक्शे में यह ग्रीन एरिया है ऐसे में यहां पार्क का विकास किया जा सकता है। मंत्री ने निर्देश दिए कि इस जमीन को सुरक्षित करने के लिए इसका डिमार्केशन किया जाए। उन्होंने कहा कि न्यायालय में लंबित इस मामले को जल्द निस्तारण के लिए प्रयास तेज़ करने होंगे। अधिकारियों ने आश्वस्त दिया कि इस जमीन के डिमार्केशन का काम 15 दिनों में पूरा हो जाएगा और न्यायालय में लंबित मामले की जानकारी एक हफ्ते में दे दी जाएगी।

सुंदर नगरी F1 ब्लॉक स्थित डीडीए लैंड पर सभी अतिक्रमण और अवैध कब्जे को हटाकर वहां जनता के उपयोग के लिए कम्युनिटी सेंटर और बारात घर बनाने का प्रस्ताव रखा गया। गौतम ने बताया कि इस संबंध में चिट्ठी पहले ही डीडीए को भेजी जा चुकी है लेकिन उस पर कोई कार्रवाई नहीं हुई। उन्होंने कहा कि जन उपयोगी योजना से डीडीए कि यह जमीन भी सुरक्षित रहेगी और उसको आमदनी भी होगी। यदि डीडीए अपनी जमीन पर बरात घर बनाने में सक्षम नहीं तो वह औपचारिकताओं को पूरा करके यह जमीन डूसिब या नगर निगम को सौंप दें। इनके जरिए बारात घर का यहां निर्माण करवाया जा सकता है। अधिकारियों ने अवगत कराया कि यह जमीन खाली पड़ी जमीन की सूची में दर्ज है और इसका लैंड यूज़ रेजिडेंशियल है। ऐसे में यहां बरात घर बनाया जा सकता है। राजेंद्र पाल गौतम ने अधिकारियों को निर्देशित किया कि वह कब्जा हो चुकी जमीन के चारों तरफ फैसिंग कर बाकी बची जमीन को बचाने का प्रयास करे।

ईदगाह मैदान के नाम से मशहूर सुंदर नगरी ओ ब्लॉक स्थित डीडीए लैंड पर गंदगी और कूड़े के अंबार नजर आए। गौतम ने बताया कि यहां गाड़ियों के स्क्रैप का अवैध कारोबार होता है और टायर एवं अन्य प्लास्टिक के समान को जलाकर उसमें से लोहा निकाला जाता है। जिससे स्थानीय नागरिकों को खासी दिक्कत होती है। सीमापुरी विधायक राजेंद्र पाल गौतम ने अधिकारियों को अवगत कराते हुए बताया कि इस जमीन की दीवार के दूसरी तरफ उत्तर प्रदेश है। यहां दीवार के उस पार से कूड़ा फेंका जाता है। अधिकारियों ने आश्वस्त किया कि यहां पत्थर की जगह आरसीसी की मजबूत दीवार खड़ी की जाएगी। 1 हफ्ते के अंदर ही हर प्रकार के गंदगी और कूड़े को साफ कर यहां सिक्योरिटी गार्ड नियुक्त किए जाएंगे।

सीमापुरी के काचीपुरा डीडीए तिकोना पार्क पहुंच कर मंत्री राजेंद्र पाल गौतम ने अधिकारियों को इस पार्क की दयनीय हालत से अवगत कराया। उन्होंने कहा कि पानी का कोई प्रबंध ना होने की वजह से यहां पेड़ पौधे सूख चुके हैं। डीडीए के पार्क से हर प्रकार का कूड़ा उठाया जाए और यह सुनिश्चित किया जाए कि सीवर का पानी इस पार्क में ना प्रवेश कर सके। डिप्टी डायरेक्टर हॉर्टिकल्चर ने आश्वस्त किया की इस पार्क को अंबेडकर पार्क पहुंचकर गौतम ने बताया कि पानी ना होने की वजह से इस पार्क में बिल्कुल हरियाली नहीं है। पूरे पार्क का दौरा करके उन्होंने अधिकारियों का जगह जगह हो रही टूट-फूट और गंदगी के अंबार की तरफ ध्यान आकर्षित किया। स्थानीय निवासियों ने बताया कि ना ही इस पार्क में कोई चौकीदार है और ना ही कोई माली। सिविल विभाग के जेई ने आश्वस्त किया की एक महीने के अंदर पार्क को पूरी तरह से साफ करके यहां पानी की व्यवस्था की जाएगी और जगह-जगह टूट चुकी चारदीवारी की दीवार को पत्थरों की जगह आरसीसी से बनाया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here