हिंडन श्मशान घाट पर कुत्ते द्वारा शव को नोचने पर परिजनों ने किया हंगामा

शमशाद रज़ा अंसारी

ग़ाज़ियाबाद
कोरोना महामारी के कारण हो रही मौतों के कारण श्मशान घाट पर शवों की संख्या बढ़ गयी है। जिस तरह से अचानक अंतिम संस्कार करने के लिए लोगों की भीड़ बढ़ने शुरू हुई है, उस हिसाब से यहाँ पर नगर निगम द्वारा शवों की सुरक्षा के लिए उचित प्रबन्ध नहीं किए गए हैं। जानवरों से शवों को बचाने के लिए किसी प्रकार की तारबन्दी तक निगम नही की है। जिसका नतीजा यह सामने आ रहा है कि यहाँ आने वाले शव को कुत्ते नोच रहे हैं।
गाजियाबाद के हिंडन नदी तट पर बने श्मशान घाट पर उस समय हंगामा हो गया जब अंतिम संस्कार के लिए लाए गए शव को कुत्ते ने नोचना शुरु कर दिया। हालांकि जैसे ही इसकी जानकारी उनके परिजनों को मिली तो आनन-फानन में वहाँ से शव हटाया गया। परिजनों ने नगर निगम के खिलाफ जोरदार हंगामा भी किया। अंतिम संस्कार में आए लोगों ने हंगामा कर रहे लोगों को समझा कर शांत किया। तमाम हंगामे के बाद भी शव के अंतिम संस्कार के लिए 9 घन्टे का इंतज़ार करना पड़ा
मामले की जानकारी देते हुए मृतक के पड़ोसी एवं साथी कर्मचारी त्रिलोक ने बताया कि मूल रूप से अल्मोड़ा के रहने वाले 51 वर्षीय मोती दत्त जोशी गाजियाबाद की सिविल कोर्ट में फोर्थ क्लास के कर्मचारी थे। वह अपने परिवार के साथ गाजियाबाद के गोविंदपुरम इलाके की शताब्दीपुरम सोसायटी के 101 नंबर मकान में रह रहे थे। 23 अप्रैल को मोती दत्त जोशी कोरोना संक्रमित हो गए। उन्हें उपचार के लिए शुरुआती दौर में जिला अस्पताल ले जाया गया, जहाँ उनकी स्थिति बिगड़ने पर उन्हें संतोष अस्पताल में बनाए गए कोविड-19 भर्ती किया गया। लेकिन 26 अप्रैल को उन्होंने दम तोड़ दिया। जिसके बाद मोती दत्त जोशी के शव को पाउच में बंद कर अंतिम संस्कार के लिए परिजनों को सौंप दिया गया। मोती दत्त जोशी का शव अंतिम संस्कार के लिए हिंडन नदी ले जाया गया। वहाँ पर लंबी लाइन लगी हुई थी। इसलिए शव को एक तरफ रख कर परिजन कुछ दूरी पर इंतजार करने लगे। तभी एक कुत्ते ने शव के पाउच को फाड़ना शुरू कर दिया। जैसे ही इसकी जानकारी परिजनों को मिली तो उन्होंने कुत्ते को वहाँ से भगा कर शव को वहाँ से हटा दिया।
शवों की इस प्रकार हो रही दुर्गति के कारण लोगों में निगम के प्रति रोष है।

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here