पटना (बिहार) : बिहार में विधानसभा में काउंटिंग को लेकर पैदा हुए विवाद के बीच अब महागठबंधन के करीब दो दर्जन उम्मीदवारो ने कोर्ट का रुख करने का फैसला किया है, तेजस्वी यादव पहले ही पोस्टल बैलेट की काउंटिंग को लेकर सवाल उठा चुके हैं अब करीब 21 सीटों पर बेहद कम मार्जिन से हारे महागठबंधन के उम्मीदवार जल्द ही रिकाउंटिंग की मांग को लेकर कोर्ट का दरवाजा खटखटायेंगे.

राजद सूत्रों के मुताबिक महागठबंधन के जो उम्मीदवार कोर्ट में मतगणना को चुनौती देंगे उनमे सर्वाधिक 14 उम्मीदवर राष्ट्रीय जनता दल के हैं, जबकि सीपीआई माले के 3, सीपीआई के 1 और 3 उम्मीदवार कांग्रेस के हैं.

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

RJD और कांग्रेस ने मतगणना के दौरान ही हेरफेर के आरोप लगाए थे और देर रात महागठंधन के नेताओं ने चुनाव आयोग में जाकर शिकायत भी दर्ज कराई थी, महागठबंधन का आरोप है कि जिन उम्मीदवारों को विजयी घोषित किया गया था उन्हें प्रशासन ने निर्वाचन प्रमाणपत्र देने से इंकार करते हुए हारा हुआ घोषित कर दिया.

राजद सूत्रों के मुताबिक करीब 21 सीटें ऐसी हैं जहाँ पोस्टल बैलेट की गिनती में उलटफेर हुआ और महागठबंधन उम्मीदवार कम मार्जिन से हारे हैं, इन सीटों पर महागठबंधन के उम्मीदवार अब कोर्ट में रिकाउंटिंग के लिए याचिका दायर करेंगे, सूत्रों ने कहा कि रिकाउंटिंग की मांग चुनाव आयोग से भी की गई थी लेकिन चुनाव आयोग की तरफ से कोई सकारात्मक जबाव नहीं मिलने के कारण महागठबंधन पास कोर्ट जाने का एक मात्र विकल्प बचा है.

महागठबंधन का कहना है कि जिन सीटों पर हारजीत का अंतर् एक हज़ार से कम वोट का है, उन सीटों पर रिकाउंटिंग होनी चाहिए, कई सीटें ऐसी हैं जिन पर पांच सौ वोटों से भी कम मार्जिन से हारजीत हुई है, जिन सीटों को लेकर विवाद है उनमे हिलसा विधानसभा सीट, जहां राजद उम्मीदवार शक्ति सिंह यादव मात्र 12 वोटों से हार गए, भोरे विधानसभा सीट पर माले उम्मीदवार जितेंद्र पासवान 462 वोट से पराजित हुए.

इसके अलावा बेगूसराय की बछवाड़ा विधानसभा सीट जहां सीपीआई के अवधेश कुमार राय 484 मतों से, चकाई विधानसभा सीट पर राजद उम्मीदवार सावित्री देवी को 581 मतों से हारी हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here