नई दिल्‍ली : IPL के इस सीजन में दिल्‍ली कैपिटल्‍स के प्रदर्शन की समीक्षा करते हुए आकाश चोपड़ा ने कहा कि टीम ने काफी शानदार प्रदर्शन किया, मगर दो खिलाड़ी उम्‍मीद पर खरे नहीं उतरे.

चोपड़ा ने कहा पृथ्‍वी शॉ और ऋषभ पंत पर ही टीम को सबसे ज्‍यादा उम्‍मीद थी और दोनों ने ही काफी निराश किया, दिल्‍ली ने दोनों को ध्‍यान में रखते हुए रणनीति बनाई थी कि शॉ आतिशी शुरुआत दिलाएंगे और अंतिम ओवर्स में पंत चौके छक्‍कों से कोहराम मचाएंगे, मगर ऐसा नहीं हो पाया.

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

शॉ के प्रदर्शन पर आकाश चोपड़ा ने अपने यूट्यूब चैनल पर कहा कि युवा खिलाड़ी ने टूर्नामेंट में आगाज तो बेहतरीन किया था, मगर बाद में वह अपने प्रदर्शन को नियमित नहीं रख पाए.

शॉ को पहले चरण में टीम में अनुभवी बल्‍लेबाज अजिंक्‍य रहाणे की जगह दी गई थी, मगर वो इसका फायदा उठाने में नाकाम रहे, ज्‍यादातर मौकों पर शॉ जल्‍दी विकेट गंवा बैठे.

आकाश चोपड़ा ने शॉ के रवैये की आलोचना करते हुए कहा कि शॉ ज्‍यादातर बार एक ही तरह से आउट हुए और उसके बावजूद वह अपनी इस गलती से नहीं सीख रहे थे, चोपड़ा ने तो यहां तक भी कह दिया कि शॉ को आउट होने से ज्‍यादा फर्क नहीं पड़ रहा था.

चोपड़ा ने कहा कि शॉ काफी युवा खिलाड़ी हैं, ऐसे में हर कोई निरंतरता की उम्‍मीद करता है, ऐसा हो सकता है कि किसी एक दिन आपका स्‍ट्राइक रेट अच्‍छा न हो, मगर जब आप अपने रवैये में ही बदलाव नहीं करता चाहते हों तो परेशानी बढ़ जाती है.

उन्‍होंने कहा कि शॉ बार बार एक ही तरह से आउट हुए, उन्‍होंने यह भी कहा कि अगर शॉ ऐसा ही करते रहे तो टीम को उन्हें बाहर करने में कोई परेशानी नहीं होगी.

टूर्नामेंट के पहले चरण में शॉ ने केकेआर के खिलाफ 66 रन, आरसीबी के खिलाफ 42 रन बनाए थे, उन्‍होंने 13 मैचों में महज 228 रन ही बनाए थे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here