Urdu

Epaper Urdu

YouTube

Facebook

Twitter

Mobile App

Home चर्चा में लव जिहाद के नाम पर जो कुछ किया जा रहा है, वह...

लव जिहाद के नाम पर जो कुछ किया जा रहा है, वह आपराधिक और अस्वीकार्य है।

कृष्णकांत

उत्तर प्रदेश के बिजनौर में एक लड़का और लड़की एक बर्थडे पार्टी से लौट रहे थे। उन्हें कुछ लोगों ने घेर लिया, उन्हें परेशान किया गया और फिर लड़के को पुलिस ले गई। उसके खिलाफ धर्मांतरण-रोधी कानून के तहत ‘लव जिहाद’ के आरोप में केस दर्ज करके जेल भेज दिया गया। वह एक हफ्ते से जेल में बंद है। लड़का और लड़की दोनों ही नाबालिग हैं। लड़के पर आरोप है कि उसने 16 साल की हिंदू लड़की पर धर्म परिवर्तन के लिए जबरदस्ती की। जबकि लड़की और उसकी मां दोनों का कहना है कि ये मामला लव जिहाद का नहीं है।

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

पुलिस का दावा है कि शिकायत लड़की के पिता ने की थी। पिता का कथित रूप से दावा है कि लड़के ने लड़की के सामने खुद को हिंदू बताया और उसे अपने साथ भागने और फिर धर्म परिवर्तन करने को मजबूर कर रहा था। लड़की ने मीडिया से कहा कि यह मामला ‘लव जिहाद’ का नहीं है।  लड़की ने कहा, ‘रात के करीब 11।30 बजे हमें कुछ लोगों ने पकड़ लिया। गांववालों ने हमें पीटा और हम पर चोरी का आरोप लगाया। उन्होंने किसी एक लड़के को पकड़ लिया, मुझे नहीं पता वो कौन है और उन्होंने मुझे भी पकड़ लिया। मुझे नहीं पता वो लड़का कौन था। और यह बात गलत है कि वो मुझे धर्म परिवर्तन के लिए मजबूर कर रहा था।’

लड़की की मां ने उसके बयान का समर्थन करते हुए कहा, ‘वो एक बर्थडे पार्टी से वापस आ रही थी। उस लड़के ने कहा कि वो उसे छोड़ देगा। तभी गांव वालों ने उन्हें पकड़ लिया। उसने उन्हें बताया कि वो बर्थडे पार्टी से आ रही है, लेकिन किसी ने उनकी नहीं सुनी। हमें न्याय चाहिए।’ पुलिस का कहना है कि कुछ दिनों से लड़की लापता चल रही थी और उसे लड़के ने ही किडनैप किया था, लेकिन वो ‘भागने में कामयाब रही।’

गांव के प्रधान और मुखिया पुलिस का कहना है, ‘लग रहा है कि पुलिस ने अपने मन से कोई मामला गढ़ लिया है, इसमें कोई लव जिहाद का केस नहीं है। लड़की के माता-पिता ने हमें बताया कि वो बर्थडे पार्टी में गई थी। वो और वो लड़का एक-दूसरे को जानते हैं।’ अब बिजनौर पुलिस को ये कैसे पता है कि ये मामला लव जिहाद का है?  बिजनौर पुलिस ने ट्वीट किया, ‘केस लड़की के पिता की शिकायत के बाद दर्ज किया गया था। लड़की का बयान मजिस्ट्रेट के सामने रिकॉर्ड कराया गया है। आरोपी को कुछ अन्य सबूतों के आधार पर भी गिरफ्तार किया गया है।’ अगर लड़की, उसकी मां और गांव का प्रधान सभी मना कर रहे हैं कि ये लव जिहाद का केस नहीं है तो पुलिस और गांव वालों को ये हक किसने दिया है कि वे किसी को भी पीटें और जेल भेज दें?

(लेखक युवा पत्रकार हैं, ये उनके निजी विचार हैं)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

भुखमरी में यूपी योगीराज में नम्बर एक पर गिना जाने लगा : अखिलेश यादव

लखनऊ (यूपी) : समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा है कि बुनियादी मुद्दों से भटकाने में भाजपा सरकार का...

पेट्रोल-डीजल के दामों में बढ़ोत्तरी को लेकर सीएम ठाकरे ने साधा मोदी सरकार पर निशाना, कही ये बड़ी बात

नई दिल्ली : ईंधन की बढ़ती कीमतों पर सीएम ठाकरे कहा कि पहले हम लोग क्रिकेट में सचिन तेंदुलकर और विराट कोहली...

जम्मू-कश्मीर : बोले फारूक अब्दुल्ला- कांग्रेस की ओर देख रही जनता, एकजुट और मजबूत हो पार्टी

जम्मू कश्मीर : पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि जनता एक मजबूत कांग्रेस देखना चाहती है, उन्होंने कहा कि कांग्रेस को...

रवीश का लेख : रक्षित सिंह ने इस्तीफ़ा एक चैनल से नहीं गोदी मीडिया के वातावरण से दिया है

ABP न्यूज़ चैनल के रक्षित सिंह के इस्तीफ़े को लेकर कल से लगातार सोच रहा हूं। रक्षित मेरठ में हो रही किसान...