नई दिल्ली : आम आदमी पार्टी के मुख्य प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने दिल्ली की जनता से इस बार नगर निगम की जिम्मेदारी आम आदमी पार्टी को सौंपने की अपील की। उन्होंने कहा कि पिछली बार दिल्ली की जनता से गलती हुई थी कि जनता ने दिल्ली की सफाई की जिम्मेदारी भारतीय जनता पार्टी के हाथों में सौंप दी थी और उसका खामियाजा दिल्ली की जनता भुगत रही है। सौरभ भारद्वाज ने कहा कि हम दिल्ली की जनता से अपील करते हैं कि इस बार नगर निगम की जिम्मेदारी दिल्ली के लोकप्रिय मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक श्री अरविंद केजरीवाल जी के हाथों में सौंप कर देखिए, हम दिल्ली की जनता से वादा करते हैं कि जिस प्रकार से आज पूरे देश में दिल्ली के शिक्षा मॉडल और चिकित्सा मॉडल की चर्चा हो रही है, उसी प्रकार से दिल्ली के सफाई के मॉडल की भी पूरे देश में चर्चा होगी।

पार्टी मुख्यालय में आयोजित प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने कहा कि 2014 में जब नरेंद्र मोदी जी देश के प्रधानमंत्री बने, तो उन्होंने स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत की। इस अभियान के तहत पिछले 6 सालों से लगातार हर साल देश के हर राज्य और हर शहर का एक सर्वेक्षण किया जाता है। उस सर्वे में सभी राज्यों को अंक दिए जाते हैं और उन अंकों के आधार पर राज्यों की और उन राज्यों में स्थित शहरों की रेटिंग की जाती है। इस बार के सर्वे के नतीजे जब कल आए तो पूरी दिल्ली को शर्मसार कर देने वाले आंकड़े सामने आए। हम सभी का सर शर्म से झुक जाता है, जब हम देखते हैं कि मात्र 47 शहरों के इस सर्वेक्षण में दिल्ली की तीनों नगर निगम 31वें, 43वें और 46वें  पायदान पर आई है। अर्थात सबसे गंदे शहरों की फेहरिस्त में दिल्ली का नाम शुमार होता है।

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

इस सर्वेक्षण से जुड़ी कुछ बेहद ही चैंकाने वाली बातें मीडिया के समक्ष प्रस्तुत करते हुए सौरभ भारद्वाज ने बताया, क्योंकि मैं एक विधायक हूं तो अपने विधानसभा क्षेत्र में यदि किसी प्रकार की नई गतिविधियां होती हैं, तो उसकी जानकारी मिल जाती है। उन्होंने कहा कि कुछ दिन पहले अचानक से जितने भी नगर निगम के शौचालय हमारी विधानसभा में थे, वह सभी साफ हो गए और उसमें लोग खड़े हुए नजर आए। वह शौचालय जो पूरे साल बंद पड़े रहते थे, वह अचानक से 1 हफ्ते के लिए खोल दिए गए। उन्होंने बताया कि जब मैंने नगर निगम के अधिकारियों से पूछा, तो अधिकारियों ने बताया कि एक सर्वेक्षण हो रहा है, उसी के चलते यह सभी शौचालय खोले गए हैं। भाजपा शासित नगर निगम का निकम्मापन और नाकामयाबी का यह साक्ष्य है कि अपनी ही केंद्र सरकार के सर्वे में भी धोखाधड़ी कर रहे हैं। धोखाधड़ी करने के बावजूद पूर्वी दिल्ली नगर निगम आखरी से पहले पायदान पर आया है यदि यह चीटिंग नहीं की होती तो सोचिए कि लिस्ट में नाम कहां होता।

उन्होंने कहा कि इस से भी बड़े आश्चर्य की बात यह है कि जो शौचालय सर्वे की खातिर मात्र 1 हफ्ते के लिए खोले गए थे, आज वह दोबारा से बंद कर दिए गए हैं। मीडिया के समक्ष दिल्ली के भिन्न-भिन्न क्षेत्रों से लिए गए कुछ शौचालयों के चित्र दिखाते हुए सौरभ भारद्वाज ने बताया कि यह वही शौचालय हैं, जो अभी कुछ दिन पहले सर्वेक्षण के लिए खोले गए थे, साफ सफाई की गई थी और लोग अंदर खड़े नजर आ रहे थे, आज इन शौचालयों पर फिर से ताला लगा हुआ है। उन्होंने कहा कि इन शौचालयों की यह हालत है, जो हमारे और आपके द्वारा दिए गए टैक्स के करोड़ों रुपए खर्च करके बनाए गए थे। यह टैक्स का रुपया दिल्ली नगर निगम को केंद्र सरकार से और दिल्ली सरकार से प्राप्त हुआ। नगर निगम ने शौचालय तो बना दिए, परंतु इनके रखरखाव के लिए एक व्यक्ति की भी नियुक्ति नहीं की गई, जिसका परिणाम यह है कि आज यह सभी टॉयलेट बंद पड़े हुए हैं।

केंद्र सरकार की ही पिछले वर्ष की एक रिपोर्ट का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि इसमें खुद केंद्र सरकार ने लिखा है कि 55 प्रतिशत शौचालय बेहद ही गंदे और उपयोग करने के लायक नहीं है।

रिपोर्ट सोर्स, पीटीआई

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here