नई दिल्ली : आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता दुर्गेश पाठक ने कहा कि भाजपा शासित एसडीएमसी ने विकास शुल्क खाली प्लॉट में कार्यक्रम करने पर शुल्क लगाने का निर्णय लिया है, जिससे व्यापारियों और अनाधिकृत कॉलोनियों में रहने वाले लोग प्रभावित होंगे। भारतीय जनता पार्टी ने पिछले 14 वर्षों में जमकर भ्रष्टाचार करके दिल्ली एमसीडी को पूरी तरह से बर्बाद कर दिया है। भाजपा ने भ्रष्टाचार और अपनी विफलताओं को छिपाने के लिए टैक्स में वृद्धि की है। आम आदमी पार्टी टैक्स में वृद्धि के खिलाफ अपना विरोध जारी रखेगी। उन्होंने दिल्ली के भाजपा प्रमुख अदेश गुप्ता और महापौरों से इस मामले में हस्तक्षेप करने और इस अमानवीय टैक्स वृद्धि के निर्णय को वापस लेने की मांग की है।

आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता दुर्गेश पाठक ने पार्टी मुख्यालय में आयोजित एक प्रेस वार्ता के दौरान कहा कि इस कोरोना महामारी के समय में जहां लोगों के रोजगार बंद हो गए हैं, कारोबार ठप हो गए हैं। ऐसे विपदा के समय में जनता की सहायता करने के बजाय भाजपा शासित नगर निगम ने जनता को एक अतिरिक्त दुख देने का सिलसिला शुरू कर दिया है। उन्होंने कहा कि बीते कुछ दिनों में भाजपा शासित नगर निगम अलग-अलग प्रकार से दिल्ली की जनता पर भिन्न-भिन्न प्रकार के अतिरिक्त टैक्स थोपकर दिल्ली की जनता की कमर तोड़ने की कोशिश में लगी हुई है।

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

पिछले 14 साल के नगर निगम के शासन काल में भारतीय जनता पार्टी ने दिल्ली नगर निगम को इतना लूटा है, नगर निगम में इतना भ्रष्टाचार किया है कि आज दिल्ली नगर निगम अप्रत्यक्ष रूप से खुद को दिवालिया घोषित कर चुका है। अपने इस भ्रष्टाचार को छुपाने के लिए और भ्रष्टाचार के कारण पूरे नगर निगम में जो अव्यवस्था हुई है उसको सुधारने के लिए भारतीय जनता पार्टी दिल्ली की जनता पर अलग-अलग प्रकार के टैक्स थोप रही है। उन्होंने कहा कि अभी कुछ दिन पहले ही दक्षिणी नगर निगम में भाजपा ने 4 नए प्रकार के टैक्स दिल्ली की जनता पर थोप दिए। उसके बाद यही टैक्स उत्तरी नगर निगम और पूर्वी नगर निगम में भी लागू करने की कोशिश की गई। परंतु आम आदमी पार्टी के निगम पार्षदों के पुरजोर विरोध के बाद सदन में वह प्रस्ताव पास नहीं हो सका और भाजपा को वह प्रस्ताव वापस लेने पड़े।

दुर्गेश पाठक ने बताया कि आज दक्षिणी दिल्ली नगर निगम की स्टैंडिंग कमेटी की बैठक है। आज इस बैठक में भाजपा कुछ और नए प्रकार के टैक्स दिल्ली की जनता पर जबरदस्ती थोपने की साजिश करने वाली है। आने वाले प्रस्ताव के संबंध में कुछ जानकारी देते हुए दुर्गेश पाठक ने बताया कि कुछ नए प्रकार के डेवलपमेंट चार्जेस दक्षिण दिल्ली नगर निगम दिल्ली की जनता पर थोपने जा रहा है। इन नए प्रकार के चार्जेस के अनुसार दक्षिणी दिल्ली नगर निगम के अधीन आने वाले क्षेत्र में यदि कोई भी व्यक्ति 50 गज का मकान बनाता है तो उसको पहले के मुकाबले 38000 रुपए, 100 गज का मकान बनाता है  तो 1,30,000 रुपए और यदि 150 गज का मकान बनाता है तो 2,00,000 रुपए अधिक देना होगा। इसी प्रकार यदि कोई व्यक्ति औद्योगिक क्षेत्र में 50 गज की जमीन पर निर्माण कार्य करता है, तो उसे 80,000 रुपए, 100 गज की जमीन पर निर्माण करने के लिए 2,70,000 रुपए और 150 गज की जमीन पर निर्माण कार्य करने के लिए 4,00, 000 रुपए अतिरिक्त देने होंगे। वाणिज्यिक क्षेत्र में निर्माण कार्य के लिए लगभग 100 गज जमीन पर 3,85,000 रुपए अतिरिक्त देने होंगे। इसी प्रकार यदि आप एग्रीकल्चर लैंड पर कोई निर्माण कार्य करते हैं, तो उसके लिए लगभग 12,00,000 रुपए अतिरिक्त देना होगा।

भाजपा शासित नगर निगम द्वारा लाए जा रहे एक अतिरिक्त टैक्स पर बात करते हुए दुर्गेश पाठक ने कहा कि हम सभी जानते हैं कि दिल्ली की अनाधिकृत कॉलोनियों में ज्यादातर उत्तर प्रदेश, बिहार और देश के अन्य राज्यों से आए हुए गरीब और मजदूर प्रवृत्ति के लोग रहते हैं। जब कभी ऐसे किसी गरीब के घर में बहन बेटी की शादी होती है या कोई अन्य प्रोग्राम होता है, तो उनके पास इतना धन नहीं होता कि वह किसी कम्युनिटी हॉल को जाकर बुक करें। यह गरीब लोग आसपास में पड़े खाली प्लॉटों में अपना शामियाना अपना टेंट लगाकर अपनी बहन बेटी की शादियां करते हैं। भाजपा शासित नगर निगम इतनी बेशर्म हो गई है कि दक्षिणी दिल्ली नगर निगम ने कहा है कि हम इन खाली प्लॉट पर भी यूपी और बिहार से आए इन गरीब लोगों से टैक्स वसूलेंगे। उन्होंने बताया कि नगर निगम के प्रस्ताव के मुताबिक यदि 500 गज का कोई खाली प्लॉट है, तो उससे प्रत्येक कार्यक्रम के 15,000 रुपए वसूला जाएगा, 501 से 1000 गज के बीच कोई प्लॉट है तो उससे प्रत्येक कार्यक्रम के 25,000 रुपए वसूले जाएंगे, 1001 से 5000 गज के बीच कोई प्लॉट है तो उससे 50,000 रुपए वसूले जाएंगे और उससे अधिक बड़ा कोई प्लॉट है, तो उससे प्रत्येक कार्यक्रम के 1,00,000 रुपए वसूले जाएंगे।

दुर्गेश पाठक ने कहा कि हमने इतिहास में पढ़ा था कि जब कोई राजा निरंकुश हो जाता था तो जनता के ऊपर अनाप-शनाप टैक्स लगाया करता था। आज भारतीय जनता पार्टी भी भ्रष्टाचार में और अपने अहंकार में पूरी तरह से पागल हो चुकी है। उन्होंने कहा कि भाजपा की निरंकुशता इतनी ज्यादा बढ़ गई है, कि हमारे निगम पार्षदों ने जब इस जबरदस्ती बढ़ाए जा रहे टैक्स के खिलाफ सदन में आवाज उठाई, तो भाजपा ने हमारे समस्त निगम पार्षदों को और हमारे नेता विपक्ष प्रेम सिंह चैहान को निलंबित कर दिया। भाजपा के लोग हमारे निगम पार्षदों की आवाज दबाने की कोशिश करते हैं, सदन में उन्हें बोलने नहीं देते, उन्हें धमकाया जाता है, उन्हें कहा जाता है कि आप जनता की आवाज मत उठाओ शांत बैठो हम बताएंगे कि सदन किस प्रकार से चलाया जाएगा। मीडिया के माध्यम से दुर्गेश पाठक ने भाजपा के नेताओं से अपील करी, कि इस प्रकार के अमानवीय काम मत कीजिए। पहले ही दिल्ली की जनता कोरोना की महामारी से पीड़ित है, लोगों के कारोबार ठप हो गए हैं, लोग बर्बाद हो गए हैं, लोगों के सब्र का इम्तिहान मत लीजिए। यदि यह सब्र का बांध टूटा तो भाजपा का भ्रष्टाचार और पूरी भारतीय जनता पार्टी का अस्तित्व समाप्त हो जाएगा। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी डेवलपमेंट चार्जेस के नाम पर दिल्ली की जनता को लूटने का एक और नया फार्मूला लेकर आ रही है।

ब्यूरो रिपोर्ट, दिल्ली

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here