नई दिल्ली : मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज अपने विधानसभा क्षेत्र नई दिल्ली का दौरा किया। इस दौरान मुख्यमंत्री ने क्षेत्र के लोगों की समस्याएं सुनी और एनडीएमसी अधिकारियों को उसके तत्काल निवारण के आदेश दिए। साथ ही सीएम अरविंद केजरीवाल ने गोल मार्केट के सेक्टर-4 में स्थापित एनडीएमसी के कंपोस्ट प्लांट का दौरा भी किया। यहां लोगों ने शिकायत की कि प्लांट से बदबू आती है और मच्छर व मक्खियों से वे परेशान हैं। सीएम अरविंद केजरीवाल ने स्थानीय लोगों से इस समस्या का शीघ्र निस्तारण का आश्वासन दिया। मुख्यमंत्री ने स्थानीय लोगों की इस समस्या के निवारण के लिए एनडीएमसी के अधिकारियों को 10 दिन का समय दिया है। मुख्यमंत्री ने आश्वासन दिया है कि यदि 20 अगस्त तक समस्या खत्म नहीं होती है, तो इस प्लांट को बंद कर देंगे।

अपने नई दिल्ली विधानसभा क्षेत्र का दौरा करने के बाद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा, ‘‘आज अपने नई दिल्ली विधानसभा क्षेत्र के गोल मार्केट इलाके का दौरा किया। क्षेत्रवासियों की समस्याओं पर अफसरों को तुरंत कार्रवाई करने के आदेश दिए।’’

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

दरअसल, एनडीएमसी ने करीब एक साल पहले भारती पब्लिक स्कूल के पीछे नर्सरी में कंपोस्ट प्लांट लगाया है। इस प्लांट में कीचन के गीले कूड़े को लाया जाता है और उससे कंपोस्ट खाद बनाई जाती है, जो बाद में पौधों में देने के काम आती है। स्थानीय लोगों का कहना है कि इस प्लांट की बदबू से गोल मार्केट स्थित सेक्टर-4 के ब्लाॅक संख्या 39 से 69 के लोग सबसे अधिक प्रभावित हैं। जब भी हवा चलती है, तो उनके घर के अंदर तक बदबू आती है। साथ ही इस प्लांट की वजह से मक्खियां और मच्छरों का प्रकोप भी बढ़ गया है। इस प्लांट से बदबू दूर करने या हटाने के लिए अधिकारियों से कई बार शिकायत की गई थी, लेकिन कार्रवाई नहीं हो पाई। उन्होंने आज मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के सामने अपनी समस्या रखी। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने स्थानीय लोगों की समस्या को तत्काल गंभीरता से लिया और एनडीएमसी के अधिकारियों को प्लांट से बदबू दूर करने के लिए 20 अगस्त तक का समय दिया है। अन्यथा प्लांट को बंद किया जाएगा।

गोल मार्केट के सेक्टर-4 में आयोजित एक अन्य कार्यक्रम में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने एक पार्क में औषधीय पौधा लगाया और उस क्षेत्र की सभी आरडब्ल्यूए पदाधिकारियों की समस्याएं सुनी। इस दौरान आरडब्ल्यूए ने पेयजल की कमी, बिजली कटौती और पेड़ों की छटाई नहीं होने की समस्या रखी। मुख्यमंत्री ने तीनों समस्याओं को संबंधित अधिकारियों को शीघ्र निस्तारित करने का निर्देश दिया है।

दौरा के बाद मीडिया से बातचीत के दौरान मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि एनडीएमसी के अधिकारियों ने 10 दिन (20 अगस्त तक) का समय मांगा है। अधिकारी 20 अगस्त तक जो भी कदम उठाएंगे, उससे अगर बदबू का आना बंद हो जाती है, तो ठीक है, अन्यथा इस प्लांट को बंद कराएंगे। स्थानीय निवासियों के साथ यहां पर घूमा हूं। स्थानीय लोगों ने सफाई समेत कई अन्य समस्याएं बताई है। मैने इसे ठीक करने के लिए एनडीएमसी के अधिकारियों को आदेश दिए हैं।


  • हमारे ब्लाॅक संख्या 39 से 69 तक टाइप-1 और टाइप-2 मकान हैं। टाइप-1 के बिल्कुल पास ही आर्गैनिक खाद बनाने का प्लांट लगाया गया है। यहां पर कीचन के गीले कूड़े से खाद बनाई जाती है, जिससे यहां बदबू अधिक आती है। आज माननीय मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल जी ने हमारे क्षेत्र में आकर हमारी समस्याएं सुनी और उसे तुरंत अधिकारियों को निस्तारित करने का निर्देश दिया है। माननीय मुख्यमंत्री जी ने आश्वासन दिया है कि बदबू नहीं खत्म होती है, तो इसे बंद करा देंगे। स्थानीय निवासी मुख्यमंत्री जी के दौरे से काफी खुश हैं। हमें पूरा उम्मीद है कि मुख्यमंत्री जी हमारी समस्या का शीघ्र निवारण करा देंगे।

सतीश कुमार यादव, सेक्रेटरी, गोल मार्केट सेक्टर-4, टाइप-2 आरडब्ल्यूए

  • हमारे क्षेत्र के लोग काफी समय से कंपोस्ट प्लांट से आने वाली बदबू से परेशान हैं। हम स्थानीय अधिकारियों से कई बार शिकायत भी कर चुके हैं। हम लोगों ने माननीय मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल जी से इस समस्या के समाधान का अनुरोध किया था। हमारे अनुरोध पर माननीय मुख्यमंत्री जी प्लांट देखने आए और उन्होंने भी कहा कि बदबू आ रही है। मुख्यमंत्री जी ने अधिकारियों से इस बात की नाराजगी जताई और समस्या को शीघ्र दूर करने को निर्देश दिए। एनडीएमसी के अधिकारियों ने समय मांगा है। मुख्यमंत्री जी ने हमारी और भी कई समस्याएं सुनी है और उसके निस्तारण का आश्वासन दिया है। हम माननीय मुख्यमंत्री जी के अभारी हैं कि वो हमारे क्षेत्र में आए और हमारी समस्याएं सुनी। इसके लिए क्षेत्र के सभी लोग मुख्यमंत्री जी को धन्यवाद देते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here