Urdu

Epaper Urdu

YouTube

Facebook

Twitter

Mobile App

Home दिल्ली CM केजरीवाल द्वारा डीजल की कीमतों में कटौती एक निर्जीव अर्थव्यवस्था को...

CM केजरीवाल द्वारा डीजल की कीमतों में कटौती एक निर्जीव अर्थव्यवस्था को पुनर्जीवित करने में “संजीवनी बूटी” के रूप में कार्य करेगी : राघव चड्ढा

नई दिल्ली : आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता और विधायक राघव चड्ढा ने गुरुवार को दिल्ली में डीजल की कीमतें 8.36 रुपये प्रति लीटर कम करने के दिल्ली कैबिनेट के फैसले का स्वागत किया, उन्होंने कहा कि गुरुवार को दिल्ली कैबिनेट द्वारा आयोजित बैठक में लिए गए निर्णय के अनुसार, डीजल पर वैट 30% से घटाकर 16.75% किया जाएगा, जिससे डीजल की कीमत 82 रुपये से घटकर 73.64 रुपये प्रति लीटर हो जाएगी, राघव चड्ढा ने कहा कि यह कदम न केवल दिल्ली के लोगों के लिए एक बड़ी राहत लाएगा, बल्कि राष्ट्रीय राजधानी में आर्थिक पुनरुत्थान को बढ़ाने के लिए भी एक बड़ा कदम होगा, उन्होंने कहा कि भाजपा को इससे सीख लेनी चाहिए और भारत में ईंधन की कीमत तुरंत कम करनी चाहिए, श्री चड्ढा ने कहा कि पार्टी की मांग है कि भाजपा पेट्रोल की कीमत में 24 रुपये / लीटर और डीजल की कीमत में 28 रुपये की कमी करे, उन्होंने कहा कि अगर बीजेपी ईंधनों की बढ़ी हुई कीमत को वापस नहीं लेती है तो यह साबित हो जाएगा कि बीजेपी एक हृदयहीन, गैर-साम्राज्यवादी और क्रूर राजनीतिक पार्टी है.

राघव चड्ढा ने कहा, “आम आदमी पार्टी डीजल की कीमत कम करने के लिए मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व में दिल्ली मंत्रिमंडल के व्यावहारिक निर्णय का स्वागत करती है, यह राखी के त्योहार से पहले दिल्ली के नागरिकों को उनका उपहार है, निर्णय के अनुसार गुरुवार को दिल्ली कैबिनेट की बैठक में डीजल पर वैट 30% से घटाकर 16.75% किया जाएगा, जिससे डीजल की कीमत 82 रुपये से घटकर 73.64 रुपये प्रति लीटर हो जाएगी, इस कदम से न केवल दिल्ली के लोगों को बड़ी राहत मिलेगी बल्कि राष्ट्रीय राजधानी में आर्थिक पुनरुत्थान को बढ़ाने के लिए भी एक बड़ा कदम होगा, वास्तव में, सीएम केजरीवाल द्वारा डीजल की कीमतों में कमी एक अचेतन अर्थव्यवस्था को पुनर्जीवित करने में “संजीवनी बूटी” के रूप में कार्य करेगी.

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

उन्होंने कहा, “डीजल भारतीय अर्थव्यवस्था का जीवन, रक्त और चालक है, केवल एक साक्षर और ईमानदार राजनीतिक नेता भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए डीजल के मूल्य को समझ सकता है, अरविंद केजरीवाल ने यह निर्णय अर्थव्यवस्था को फिर से शुरू करने और आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए लिया है, इससे उद्योग को शुरू करने में मदद मिलेगी और आर्थिक स्थिति में सुधार होगा, यह निर्णय अर्थव्यवस्था की स्थिति को पुनर्जीवित करने के मील के पत्थर के रूप में साबित होगा.

राघव चड्ढा ने कहा, “7 जून से 29 जून तक भाजपा सरकार ने 22 दिनों के तक, हर दिन 22 बार डीजल की कीमत में वृद्धि की है और भारत के इतिहास में पहली बार डीजल की कीमत पेट्रोल की तुलना में अधिक हो गई है,” जून के महीने में, भारतीय जनता पार्टी ने डीजल की कीमत में 11 रुपये की बढ़ोतरी की और पेट्रोल के लिए यह कीमत 9 रुपए थी, यदि हम भाजपा द्वारा शासित राज्य सरकारों को देखें तो आप देखेंगे कि उन्होंने लोगों पर अत्यधिक वैट लगाया है उन राज्यों में आम आदमी पार्टी की मांग है कि भाजपा की अगुवाई वाली केंद्र सरकार को डीजल की बढ़ी हुई कीमत वापस लेनी चाहिए, उन्हें लोगों के बारे में सोचना चाहिए और जून के महीने में उन फैसलों को वापस लेना चाहिए जहां उन्होंने डीजल की कीमत 22 बार बढ़ाई है, उन्हें केजरीवाल सर्कार से सीख लेनी  चाहिए और ईंधन की कीमत घटानी चाहिए.

उन्होंने कहा, “अगर भाजपा की अगुवाई वाली केंद्र सरकार चाहती है तो वे कीमतों को कम कर सकते हैं और कीमतों को वैसा ही बना सकते हैं जैसा कि वर्ष 2014 में था, हमें याद रखना चाहिए कि भारत में डीजल की कीमत, अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत पर निर्भर करती है,  जब श्री नरेंद्र मोदी जी सत्ता में आए थे, तब अंतर्राष्ट्रीय बाजार में डीजल की कीमत 112 डॉलर / बैरल थी, आज यह लगभग 4o डॉलर / बैरल हो गई है, 2014 में जब श्री मोदी सत्ता में आए थे, तब भारत में  डीजल की कीमत 55 / लीटर थी, आज यह 80 रु/ लीटर हो गया है जो 25 रूपए की वृद्धि है, यदि भाजपा सरकार 2014 के स्तर पर ईंधन  के मूल्य कम करना चाहती है, तो उत्पाद शुल्क में पेट्रोल के लिए  24 रुपये की कमी और डीजल के लिए 28 रुपये / लीटर काम होना चाहिए, हम मांग करते हैं कि भाजपा को पेट्रोल की कीमत 24 रुपये / लीटर और डीजल की कीमत 28 रुपये / लीटर कम करनी चाहिए.

राघव ने आगे कहा, “इस भाजपा शासित केंद्र सरकार ने हमें वैश्विक बाजार में तेल की घटती कीमत का लाभ नहीं दिया है, आज हम नवंबर 2004 की कीमतों पर कच्चा तेल खरीद रहे हैं, भाजपा सरकार के तहत, केंद्र सरकार ने उत्पाद शुल्क में वृद्धि की है,” पिछले 6 वर्षों में लगभग 3 दर्जन बार और इस तरह से उन्होंने 20 लाख करोड़ रुपये की कमाई की है.

राघव चड्ढा ने कहा, “प्रतिशत के मामले में भाजपा सरकार ने 2014 से पेट्रोल पर उत्पाद शुल्क 260% पेट्रोल और डीजल की कीमत 820% तक बढ़ा दिया है, इसके द्वारा, भाजपा सरकार ने 20 लाख करोड़ रुपये अधिशेष अर्जित किया है, यह समय है जब  उन्हें  अपने खजाने को खोल देना चाहिए  और भारत के लोगों को यह पैसा वापस कर देना चाहिए, सीएम केजरीवाल जी के विकास मॉडल से एक सीख लेते हुए , भाजपा को कीमत वापस करनी चाहिए,  हम सभी इस कदम का स्वागत करेंगे, लेकिन अगर भाजपा ऐसा नहीं करती है तो यह होगा कि यह सरकार एक हृदयहीन, गैर-साम्राज्यवादी और क्रूर है, अब यह उनका फैसला है कि क्या वे क्रूर सरकार बनाना चाहते हैं या वह ऐसी सरकार बनाना चाहते हैं जो लोगों के कल्याण के लिए काम करे.

रिपोर्ट सोर्स, पीटीआई

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

राम मंदिर : भूमिपूजन से पहले बोले लालकृष्ण आडवाणी- ‘पूरा हो रहा मेरे दिल का सपना’

नई दिल्ली : अयोध्या में बुधवार को होने वाले राम मंदिर के भूमिपूजन से पहले लालकृष्ण आडवाणी ने वीडियो संदेश जारी किया...

मुझे खुशी है कि दिल्ली मॉडल को दुनिया भर में पहचाना जा रहा है : सीएम केजरीवाल

नई दिल्ली : दक्षिण कोरिया के राजदूत एच.ई. शिन बोंग-किल ने मंगलवार को कोविड महामारी से निपटने के लिए दिल्ली मॉडल की...

दिल्ली : नगर निगम के चुनाव के मद्देनजर आप अपने संगठन का पुनर्गठन करेगी : गोपाल राय

नई दिल्ली : आम आदमी पार्टी के दिल्ली प्रदेश संयोजक गोपाल राय ने एक बयान जारी करते हुए बताया कि आगामी दिल्ली...

दिल्ली दंगा: प्रोफेसर अपूर्वानंद से स्पेशल सेल ने पांच घंटे की पूछताछ, फोन भी जब्त

नई दिल्लीः दिल्ली विश्वविद्यालय के प्रोफेसर और विचारक अपूर्वानंद से सोमवार को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने पांच घंटे लंबी पूछताछ की....

वोट के लिए दलितों को ठगने वाली BJP क्या राम मन्दिर निर्माण मंच पर भी उन्हें जगह देगी: कुँवर दानिश अली

शमशाद रज़ा अंसारी श्रीराम जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण का शुभारम्भ 5 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भूमि पूजन के...