नई दिल्ली : दिल्ली विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता रामवीर सिंह बिधूड़ी ने कहा है कि प्रधानमंत्री मोदी जी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार, “जहां झुग्गी, वहां मकान“ योजना के तहत दिल्ली के प्रत्येक झुग्गी वाले को बिजली, पानी, स्कूल, डिस्पेंसरी, पार्क आदि तमाम नागरिक सुविधाओं के साथ पक्के मकान बनाकर देगी।

बिधूड़ी ने कहा कि आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक तथा मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का विजन यह है कि झुग्गी वाले झुग्गियों में ही रहें और नारकीय जीवन जीते रहें जबकि प्रधानमंत्री मोदी जी के नेतृत्व में भाजपा का विजन यह कि झुग्गी-झोंपड़ियों में रहने वालों को न केवल पक्के मकान मिलें, बल्कि हर जरूरी सुविधायें भी मिलें। इसी सोच के तहत बीते छह साल में केंद्र सरकार के तहत आने वाले डीडीए ने कालका जी में झुग्गी वालों के लिए 3000 मकान बनाकर तैयार कर दिए हैं जबकि कठपुतली कालोनी में 2800 फ्लैट तथा जेलरवाला बाग, अशोक विहार में 1775 फ्लैट बनकर तैयार होने वाले हैं। इन सभी स्थानों पर बिजली, पानी, स्कूल, डिस्पेंसरी, पार्क, बारात घर आदि तमाम सुविधाओं का भी इंतजाम किया गया है। 

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

बिधूड़ी ने कहा कि बहुत जल्द ही प्रदेश भाजपा अध्यक्ष  आदेश गुप्ता के नेतृत्व में दिल्ली भाजपा केंद्रीय आवास व शहरी मामलों के मंत्री हरदीप पुरी से यह आग्रह करेगी कि प्रधानमंत्री मोदी जी के हाथों ये पक्के मकान झुग्गी वालों को आवंटित कराए जाएं। वाजपेयी के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार के कार्यकाल में बदरपुर की गौतमपुरी पुनर्वास बस्ती और ओखला की मदनपुर खादर पुनर्वास बस्ती में 20 हजार झुग्गी वालों का पुनर्वास किया गया। उन्होंने आम आदमी पार्टी के नेताओं से पूछा कि बीते छह साल के शासनकाल में उनकी सरकार ने कितने झुग्गी वालों को पक्के मकान बनाकर दिए हैं।

बिधूड़ी ने कहा कि दिल्ली के अलग-अलग इलाकों में झुग्गी-झोंपड़ी वालों के लिए 52000 मकान बनकर तैयार हैं। इन मकानों के निर्माण का 50 फीसद खर्च केंद्र सरकार ने दिया है। उन्होंने कहा कि रेलवे की जमीन पर बसे 48000 झुग्गी-झोंपडी परिवारों को दिल्ली की केजरीवाल सरकार भले ही इन फ्लैटों में नहीं बसा रही हो लेकिन भाजपा इन फ्लैटों में रेलवे पटरी के किनारे बसे हजारों झुग्गी वालों को जरूर बसायेगी क्योंकि दिल्ली में हजारों फ्लैट इन्हीं झुग्गी वालों के लिए बनाए गए हैं और इन पक्के मकानों को बनाने में केंद्र सरकार ने भी 50 प्रतिशत खर्च दिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here