अयोध्या में प्रस्तावित धन्नीपुर मस्जिद में दान करने पर मिलेगी छूट,मिला 80 जी सर्टिफिकेट

लखनऊ
सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर अयोध्या में मिली पांच एकड़ भूमि पर प्रस्तावित धन्नीपुर मस्जिद के लिए आसानी से दान मिलने का रास्ता खुल गया है। अब इस मस्जिद के लिए दान देने वालों को इनकम टैक्स में छूट मिलेगी। इंडो इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन को इनकम टैक्स एक्ट की धारा-80 जी के तहत दान में टैक्स से छूट मिल गई है। अभी तक 80 जी का सर्टिफिकेट न मिलने के कारण इंडो इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन को दान नही मिल पा रहा था। सामाजिक सहयोग से धन्नीपुर मस्जिद प्रोजेक्ट पूरा करने के लिए ट्रस्ट ने बैंक में खाता खोला है।

क्या है धारा-80 जी

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

आयकर कानून की धारा-80जी के तहत कर कटौती यानी डिडक्शन का लाभ मिलता है। सेक्शन के तहत कुछ फंड्स और संस्थान निर्धारित किए गये हैं। इनमें दान देने पर टैक्स से छूट मिलती है। दान की रकम कुल टैक्स योग्य आय से कट जाती है।

इंडो इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन ट्रस्ट

आपको बता दें कि नौ नवंबर 2019 को सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या भूमि विवाद में एक बड़ा फैसला सुनाते हुए विवादित भूमि को रामलला का जन्मस्थान मानते हुए उस पूरी भूमि को रामलला ट्रस्ट को सौंप दिया था। इसके साथ ही मामले में दूसरे पक्ष को राम जन्मभूमि से करीब 25 किलोमीटर दूर रौनाही के धन्नीपुर में मस्जिद बनाने के लिए भी पांच एकड़ जमीन दी गई थी, जिस पर अब मस्जिद का निर्माण शुरू होगा। सुन्नी वक़्फ़ बोर्ड ने मस्जिद के निर्माण के लिए इंडो इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन का गठन किया है।

नही चलेगा दान के लिए अभियान

इंडो इस्लामिक कल्चर फाउंडेशन ट्रस्ट के सचिव एवं प्रवक्ता अतहर हुसैन ने बताया कि दान दाताओं को 80 जी का इंतजार था। इसके मिलने से धन्नीपुर मस्जिद प्रोजेक्ट में तेजी आ जाएगी। उन्होंने यह भी कहा कि हम लोग दान लेने के लिए कोई अभियान नहीं चलाएंगे। हम घर घर जाकर चंदा नहीं लेंगे। नकद चंदा भी ट्रस्ट नहीं लेगा। मस्जिद व अस्पताल के लिए चंदा केवल बैंक खाते के माध्यम से लिया जाएगा। ग़ौरतलब है कि राम मंदिर के लिए चंदा लेने का अभियान चलाया गया था। जिसके तहत घर-घर जाकर चंदा लिया गया था। इसमें हेराफेरी की काफ़ी शिकायतें मिली थीं।

मानवता को समर्पित रहेगा प्रोजेक्ट

ट्रस्ट के सचिव अतहर हुसैन ने बताया कि हम धन्नीपुर मस्जिद प्रोजेक्ट को मानवता को समर्पित कर रहे हैं। लगभग 100 करोड़ रूपये की लागत से यहां बनने वाले 200 बेड के सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल का सबसे अधिक लाभ स्थानीय लोगों को होगा। उन्हें अपने गांव के पास ही बेहद सस्ता और अच्छा इलाज मिल जाएगा। यहां प्रस्तावित कम्युनिटी किचन से हर दिन आस-पास की करीब दो हजार गरीब महिलाओं व बच्चों को मुफ्त खाना वितरित किया जाएगा। हम अच्छी नीयत से समाज के लिए यह प्रोजेक्ट लेकर आ रहे हैं अल्लाह ही इसे पूरा करने में हमारी मदद करेगा। उन्होंने बताया कि अस्पताल के अलावा मस्जिद, म्यूजियम, लाइब्रेरी, कम्युनिटी किचन, इंडो इस्लामिक कल्चरल रिसर्च सेंटर बनाने में करीब 20 करोड़ रुपये की धनराशि खर्च होगी।

प्रोजेक्ट में यह होगा खास

भूतल

कुल क्षेत्रफल : 1717.6 वर्ग मीटर।

सभा स्थल : 622.16 वर्ग मीटर।

नमाज पढ़ने का स्थल : 734.83 वर्ग मीटर।

कुल क्षमता : 550 व्यक्ति।

प्रथम तल

कुल क्षेत्रफल : 1143.46 वर्ग मीटर।

सभा स्थल { 543.62 वर्ग मीटर।

नमाज पढ़ने का स्थल : 548 वर्ग मीटर।

कुल क्षमता : 450 व्यक्ति।

अस्पताल

कुल क्षेत्रफल : 24150 वर्ग मीटर।

बेसमेंट : 9000 वर्ग मीटर।

कुल तल : पांच।

भूतल : ओपीडी, इमरजेंसी वार्ड, फार्मेसी, डायगनोस्टिक सेंटर, वेटिंग एरिया।

प्रथम तल : मैटरनिटी वार्ड, ऑपरेशन थियेटर, स्टाॅफ जोन, वेटिंग एरिया, नर्स स्टेशन, आइसीयू, एनआइसीयू।

द्वितीय तल : फार्मेसी, नर्स स्टेशन, जनरल वार्ड, शेयर्ड वार्ड, स्पेशल वार्ड, स्टॉफ एरिया, कैफेटेरिया, प्रतीक्षालय।

तृतीय तल : फार्मेसी, नर्स स्टेशन, जनरल वार्ड, शेयर्ड वार्ड, स्पेशल वार्ड, स्टॉफ एरिया, कैफेटेरिया, वेटिंग एरिया।

चतुर्थ तल : फार्मेसी, नर्स स्टेशन, जनरल वार्ड, शेयर्ड वार्ड, स्पेशल वार्ड, स्टॉफ एरिया, कैफेटेरिया, वेटिंग एरिया।

म्यूजियम

कुल क्षेत्रफल : 500 वर्ग मीटर।

पुस्तकालय : 118.4 वर्ग मीटर।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here