देश को दुखद हालत में छोड़कर प्रधानमंत्री और गृहमंत्री लापता-संजय सिंह

  • पूरा देश कोरोना से कराह रहा है, प्रधानमंत्री और गृहमंत्री को जनता से ज़्यादा चुनावों की फिक्र सता रही – संजय सिंह
  • यूपी की जनता अस्पतालों में दम तोड़ रही, परिजन इलाज के लिए दर-दर की ठोकरें खा रहे हैं -संजय सिंह
  • संजय सिंह ने कोरोना को लेकर मोदी-शाह को दिखाया आईना, उत्तर प्रदेश की स्थिति पर केंद्र से हस्तक्षेप की अपील

लखनऊ
आम आदमी पार्टी के उत्तर प्रदेश प्रभारी और राज्यसभा सदस्य संजय सिंह ने कोरोना से मुक़ाबले को लेकर यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार के साथ-साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह पर जमकर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि पूरा देश कोरोना से कराह रहा है और लोगों को दुखद हालात में छोड़कर प्रधानमंत्री और गृहमंत्री लापता हैं। दोनों को जनता से ज़्यादा चुनावों की फिक्र सता रही है। यूपी की स्थिति तो सबसे ज्यादा विकट है। मरीज़ों के लिए अस्पतालों में कोई जगह नहीं है। उनके परिजन ऑक्सीजन, बेड और दवाई के लिए दर-दर की ठोकरें खा रहे हैं। इलाज के बिना मरीज़ दम तोड़ रहे हैं, लेकिन योगी सरकार व्यवस्था सुधारने की जगह श्मशान में सच छिपाने में जुटी हुई है। कोरोना से मुक़ाबले को लेकर योगी सरकार पूरी तरह से विफल हो चुकी है।प्रदेश की स्थिति पर केंद्र सरकार को तत्काल हस्तक्षेप करना चाहिए।
आप सांसद संजय सिंह शनिवार को यहां पार्टी कार्यालय पर प्रेस से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने महामारी में जारी चुनावी रैलियों पर मोदी और शाह को आड़े हाथों लिया। कहा कि यूपी की जिस जनता ने लाइन लगाकर मोदी जी की सरकार बनाई, आज वो श्मशानों में लाइन लगाने को मजबूर है। ऐसे हालात में जनता की जान की चिंता करने की जगह देश के प्रधानमंत्री और गृहमंत्री को चुनाव की फिक्र सता रही है। श्मशान में लोगों को अपनों के शवदाह के लिए घंटों इंतजार करना पड़ रहा है। जिस बनारस में मोदी जी ने कहा था ‘मुझे गंगा मैया ने बुलाया है’, वहां हरिश्चंद्र घाट पर शुक्रवार को 125 लाशें जलाई गईं। मोदी जी आज उसी बनारस को अनाथ छोड़कर चुनाव प्रचार में व्यस्त हैं। उन्होंने यूपी के हालात बताते हुए जिलों में कोरोना जांच नहीं हो पाने की समस्या उठाई।अम्बेडकरनगर के एक मामले का जिक्र किया, जिसमें फेफड़ा फेल होने के बाद भी मरीज को मेडिकल कॉलेज में वेंटिलेटर नहीं मिल पाया। उन्होंने कहा कि तमाम जिलों से अस्पतालों में बेड, ऑक्सीजन, वेंटिलेटर न मिलने की खबरें आ रही हैं। गुजरात का सूरत हो या बनारस चाहे लखनऊ, पूरा देश कोरोना से कराह रहा है। संजय सिंह ने दिनवार संक्रमण के आंकड़े बताते हुए पीएम, गृहमंत्री की रैलियों की गिनती कराई। कहा, चुनाव तो आते जाते रहेंगे, मगर प्रधानमंत्री और गृहमंत्री को इस समय चुनावों में वोट करने वाली जनता के जान की फ़िक्र करनी चाहिए। केंद्र को यूपी के हालात पर नजर रखने के साथ यहां के लिए विशेष मदद की घोषणा करनी चाहिए।

पीएम केयर फंड का मांगा हिसाब

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

संजय सिंह ने कोरोना महामारी की रोकथाम को लेकर केंद्र की व्यवस्था पर सवाल उठाए। कहा कि कोरोना से जुड़े विभिन्न मुद्दों पर दिल्ली सरकार केंद्र को पत्र लिख चुकी है। सरकार को पीएम केयर फंड का पूरा हिसाब देश की जनता को देना चाहिए। इस निधि से राजस्थान में जो वेंटिलेटर खरीदे गए, उसमें 90 से 95% खराब हैं। इसलिए इसमें बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार की आशंका है।

पाकिस्तान से पहले देशवासियों का होना चाहिए था टीकाकरण
संजय सिंह ने विभिन्न देशों में भेजी गई भारतीय वैक्सीन पर भी सवाल उठाया। कहा कि आज देश में श्मशान में लाशें बिछी हैं। यहां वैक्सीन की कमी है और लोग टीकाकरण कराने के लिए परेशान हैं। मोदी जी देशवासियों का टीकाकरण कराने से पहले पाकिस्तान, कनाडा जैसे देशों में टीकाकरण कराने में जुटे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here