पाकिस्तान के लिए जासूसी के आरोप में परमजीत के बाद अब सुरेन्द्र गिरफ़्तार

हरियाणा
पलवल पुलिस ने पाकिस्तान की गुप्तचर एजेंसी को भारतीय सेना की गुप्त सूचनाएं मुहैया कराने के आरोप में हरियाणा पुलिस में सिपाही के पद पर तैनात सुरेंद्र नामक कर्मचारी को गिरफ्तार किया है। सुरेंद्र पहले भारतीय सेना में तैनात था। रिटायर के बाद पुलिस में शामिल हुआ था। एक्स सर्विस मेन के कोटे से इसकी भर्ती हुई थी। आरोपित पुलिसकर्मी सुरेंद्र हरियाणा के अंबाला के वंदना एनक्लेव गांव बोह का रहने वाला है। सुरेन्द्र पर आरोप है कि वह फेसबुक के ज़रिए एक महिला के सम्पर्क में आया। जिसके बाद उसने तन-मन-धन के लिए वतन को भी दाँव पर लगा दिया।
आरोपित सिपाही वर्ष 2018 में फौज से रिटायर होकर हरियाणा पुलिस में सिपाही के पद पर भर्ती हुआ था।
अंबाला छावनी में ही सेना टू कोर का मुख्यालय है। इसे खड्ग कोर के नाम से भी जाना जाता है। कोर पश्चिमी कमान के तहत थे, जो 1984 तक चंडीमंदिर कैंटोनमेंट में 1984 तक रही। इसके बाद इसे 1985 में अंबाला मूव कर दिया गया। भारत-पाक युद्ध में टू कोर की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। इस महत्वपूर्ण टू कोर में भी सुरेंद्र कुमार सेना पुलिस में तैनात रहा है। अंबाला से ही रिटायर होने के बाद सुरेंद्र कुमार ने पुलिस सेवा को ज्वाइन किया। माना जा रहा है कि वह 2018 से ही भारतीय सेना की गुप्त सूचनाएं पाकिस्तानी एजेंसी को मुहैया करा रहा था।
सुरेंद्र कुमार को इंटरनेट मीडिया प्लेटफॉर्म पर अपनी आर्मी की वर्दी वाली फोटो डालने का शौक था। सुरेंद्र कुमार इंटरनेट मीडिया अकाउंट पर अपनी और अपने मित्रों की फोटो भी पोस्ट करता था। उसने 2017 में इंटरनेट मीडिया अकाउंट बनाया था। सुरेन्द्र पाकिस्तनी एजेंसी के लिए काम करने वाली एक महिला से फेसबुक पर इश्क़ लड़ाने लगा। जिसके बाद इसने वाट्सएप के माध्यम से लगातार गुप्त सूचनाएं लीक करके पाकिस्तान भेजनी शुरू कर दीं। इसकी एवज में आरोपी सिपाही पाकिस्तानी एजेंसी से पैसे ले रहा था। सुरेंद्र कुमार के बैंक खाते में करीब छह बार विदेश से पैसा आया है, जिसकी अकाउंट डिटेल भी खंगाली जा रही है।


अंबाला से दो मोबाइल और उससे बरामद किए गए मोबाइल को गुरुग्राम फोरेंसिक साइंस लैब (एफएसएल) भेजा जाएगा। इन तीनों फोन की लैब में जांच होगी कि इन मोबाइल फोन में अब तक क्या डाटा पर सेव हुआ या फिर गैलरी में सेव करने के बाद डिलीट किया गया। इसके अलावा इंटरनेट मीडिया अकाउंट भी जांच एजेंसियां खंगाल रही हैं। लैब की रिपोर्ट आने के बाद ही तथ्य सामने आएंगे। सुरेंद्र कुमार का एक बेटा सेना में कार्यरत है, जबकि उसका एक रिश्तेदार हरियाणा पुलिस मधुबन में कार्यरत है।
इससे पहले दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने बुधवार को आगरा कैंट में तैनात सेना के एक लांस नायक को भी गिरफ्तार किया था। विशेष आयुक्त क्राइम ब्रांच प्रवीर रंजन के मुताबिक परमजीत सिंह, पूर्वी उत्तर प्रदेश का रहने वाला है। दो साल पहले उसकी तैनाती जैसलमेर के पोखरण स्थित सेना के कैंप में रसद आपूर्ति विभाग में थी। पुलिस अधिकारी का कहना है कि पूछताछ में जासूसी मामले में सेना के कई अधिकारियों व कर्मचारियों के के जुड़े होने की जानकारी मिली है। जल्द ही तीन-चार अन्य सैन्यकर्मियों की भी गिरफ्तारी हो सकती 

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here