नई दिल्ली : आम आदमी पार्टी की महिला विंग ने कृषि कानून के विरोध में प्रदर्शन कर रहे देशभर के किसानों के समर्थन में महिला विंग ने आईटीओ चौराहे पर ह्यूमन चेन बनाकर शांति पूर्वक प्रदर्शन किया,

ह्यूमन चेन के माध्यम से केंद्र में बैठी भाजपा की सरकार से किसान विरोधी तीनों काले कानूनों को वापस लेने की अपील की है, प्रदर्शन में महिला विंग की प्रदेश अध्यक्ष के साथ प्रदेश स्तर से लेकर बूथ स्तर तक की महिला पदाधिकारी उपस्थित रहीं.

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

 महिला विंग की ओर से किए गए प्रदर्शन को लेकर बयान जारी करते हुए महिला विंग की प्रदेश प्रभारी सरिता सिंह ने कहा कि किसान इस देश का अन्नदाता है, केंद्र सरकार के तीन काले कानूनों के खिलाफ किसान पिछले कई दिनों से सड़कों पर है.

हम सब किसान के बेटे हैं, आखिर केंद्र सरकार किसानों से बात क्यों नही कर रही है और ऐसी क्या मजबूरी है? क्यों एमएसपी पर बीजेपी की केंद्र सरकार अपना रुख साफ नही करती है? जब देश के किसी भी किसान ने इस कानून की मांग नही की तो क्यों यह काला कानून किसानों पर थोपा जा रहा है?

उन्होंने कहा कि यह तो वही बात है कि सरकार कह रही है, हमें किसानों की मदद करनी है, पर किसान मदद नहीं लेना चाहता, यह बहुत ही विचित्र बात है, सरिता सिंह ने कहा यूं तो इस देश की धरती को भारत माता कहकर पूजा जाता है.

लेकिन आज देश के बेटे-बेटियां, देश का अन्नदाता लाठी डंडे खाकर, भूखे रहकर अपने अधिकारों के लिए आंदोलन कर रहे हैं, केंद्र में बैठी अंधी बहरी भाजपा सरकार सुनने को तैयार ही नही है, उन्होंने कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने देश के सच्चे बेटे होने का परिचय दिया है, राजनीति से हटकर उन्होंने अपनी पूरी सरकार.

पूरी पार्टी के सभी कार्यकर्ताओं को किसानो के समर्थन में मदद करने के लिए उतार दिया है, इसी क्रम में आम आदमी पार्टी की महिला शक्ति ने आज दिल्ली के आईटीओ चैराहे पर अपना विरोध प्रदर्शन दर्ज किया.

प्रदेश, लोकसभा, जिला, विधानसभा, वार्ड तक की सभी महिला कार्यकर्ता अपनी जिम्मेदरी को समझते हुए किसान भाइयों के इस आंदोलन का समर्थन करने के लिए प्रदर्शन में शामिल हुई, कदम से कदम मिलाकर हम किसानों के साथ चलेंगे और जब तक उनकी बातें मानी नहीं जाती, हम तानाशाह मोदी सरकार के खिलाफ आंदोलन जारी रखेंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here