नयी दिल्लीः देश में चल रहे किसान आंदोलन के बीच जानेमाने सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने किसानों की समस्याओं को लेकर अनशन करने की धमकी दी है। अन्ना हजारे ने कृषि मंत्री को भेजे पत्र में कहा है कि पांच फरवरी 2019 को कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह तथा कई अन्य नेताओ के आग्रह पर अपना अनशन समाप्त कर दिया था। उन्हें लिखित आश्वासन दिया गया था जिसे अब तक पूरा नहीं किया गया है । अब वह कहीं भी और किस समय अनशन शुरू करेंगे सरकार को इसकी जानकारी दे दी जायगी।

अन्ना हजारे ने कहा कि कृषि मूल्य आयोग को निर्वाचन आयोग जैसा संवैधानिक दर्जा देकर पूरी स्वायत्तता देना, स्वामीनाथन आयोग की सिफारिश के अनुसार कृषि उपज का मूल्य सी2+50 निर्धारित करना, फल, सब्जी और दूध के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य लागू करना, किसानों को कर्जा मुक्त करने के बारे में उपाय करना, आयात-निर्यात नीति तय करना, आधुनिक तकनीकी कृषि औजार तथा पानी बचाने के लिए ड्रिप इरिगेशन, स्प्रिंकलर इरिगेशन जैसे साधनों पर 80 प्रतिशत अनुदान लागू करना इन सभी मांगो पर विचार कर सही निर्णय लेने के लिए एक उच्चाधिकार समिति तुरंत गठित करने का आश्वासन दिया गया था । समिति में केंद्रीय कृषि राज्यमंत्री, नीति आयोग के सदस्य रमेशचंद, समेत अन्य अन्य सदस्य होंगे। यह समिति 30 अक्टूबर 2019 से पहले अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत करेगी।

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

उन्होंने कहा कि इस कमेटी के रिपोर्ट के तहत केंद्र सरकार उपरोक्त मुद्दों पर उचित कार्रवाई करेगी इस प्रकार का लिखित आश्वासन पांच फरवरी 2019 को कृषिमंत्री राधामोहन सिंह और महाराष्ट्र के तत्कालीन मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने रालेगणसिद्धी में आकर लिखित दिया था। इसका अभी तक पालन नहीं हुआ। इसलिए पांच फरवरी 2019 का रुका हुआ अनशन फिर से शुरू करने की सोच शुरू हो गई है। जल्द ही अनशन कहां और कब करना है, तिथि तय होने के बाद लिखकर आपको अवगत करूंगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here