नई दिल्लीःकिसानों के प्रतिनिधियों और केंद्रीय गृह मंत्री अमित साथ के बीच मंगलवार रात चल रही बैठक खत्म हो गयी और इसमें यह फैसला लिया गया कि सरकार किसानों को बुधवार को ताजा प्रस्ताव देगी। किसान महासभा के नेता हनान मुल्ला ने बताया कि सरकार कल किसानों को एक नया प्रस्ताव देगी, जिस पर किसान संघ और सभी शामिल वर्ग सिंघू सीमा पर दोपहर 12 बजे होने वाली बैठक में विचार-विमर्श करेंगे।

हन्नान मुल्ला ने बताया कि सरकार और किसानों के बीच बुधवार को होने वाली छठे दौर की वार्ता स्थगित कर दी गयी है और सरकार के नए प्रस्ताव के बाद नयी तारीख तय की जाएगी। उन्होंने इस बात के संकेत दिए कि सरकार तीनों कृषि कानूनों को वापस नहीं लेगी। श्री मुल्ला ने कहा कि केंद्र शायद प्रस्ताव में न्यूनतम समर्थन मूल्य के जारी रखने का लिखित भरोसा दे सकती है।

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

उल्लेखनीय है कि केंद्र सरकार के कृषि कानून के खिलाफ किसानों का 13 दिन से प्रदर्शन जारी है। प्रदर्शनकारियों ने मंगलवार को इसके विरोध में भारत बंद बुलाया था। सरकार और किसानों के प्रतिनिधियों के बीच अबतक पांचवें दौर की वार्ता हो चुकी है लेकिन इसका कोई सामाधान नहीं निकला है।

प्रकाश जावेड़कर का विपक्षी दलों पर निशाना

केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने मंगलवार को कहा कि राजनीतिक पार्टियों का भारत बंद को समर्थन करने महज एक पाखंड है। जावड़ेकर ने ट्वीट कर कहा,“कांग्रेस के नेतृत्व वाली सप्रंग सरकार एपीएमसी को खत्म करने के लिए कानून लायी थी और इनकी पार्टियों की सरकार ने इसे लागू करने पर सहमित जतायी थी। इससे इनके पाखंड की पोल खुलती है।”

उन्होंने कहा,“मैं एक बार फिर कहना चाहता हूं कि किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य मिलता था और आगे भी मिलता रहेगा। यह पिछले 55 वर्षों से दिया जा रहा है और भविष्य में भी इसे जारी रखा जाएगा। किसानों की भलाई ही हमारी सरकार का मूल मंत्र है।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here