नई दिल्ली : इजरायल और फिलिस्तीन के बीच दशकों से विवाद चल रहा है, इस बीच इजरायल ने एक बड़ा फैसला लेते हुए देश के पश्‍चिमी तट पर स्थित हेब्रोन शहर के प्राचीन इब्राहिमी मस्‍जिद को बंद करने का एलान किया है, इजरायल ने इस मस्जिद को 10 दिनों के लिए बंद करने की घोषणा की है.

सरकार के इस फैसले को लेकर फिलिस्तीन ने नाराजगी जाहिर की है और इसकी कड़ी निंदा की है, फिलिस्‍तीन के राष्‍ट्रपति महमूद अब्‍बास के धार्मिक व इस्‍लामिक मामलों के सलाहकार महमूद अल हब्‍बाश ने शुक्रवार को कहा कि इजरायल में मस्‍जिद को बंद कराना एक वॉर क्राइम है.

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

अल हब्‍बाश ने आगे कहा कि मस्‍जिद में मुस्‍लिम श्रद्धालुओं के प्रवेश पर रोक के बाद दुनिया भर के मुस्‍लिमों में आक्रोश है.

इजरायल द्वारा इस तरह की कार्रवाई करना अल-वक्‍फ विभाग की ताकतों में हस्‍तक्षेप है, बता दें कि फिलिस्‍तीनी अल वक्‍फ मंत्रालय इन प्राचीन पवित्र तीर्थस्‍थलों मुख्‍यत: फिलिस्‍तीनी इलाकों में मौजूद मस्‍जिद की निगरानी करता है.

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, अधिकारियों ने कोरोना महामारी के मद्देनजर यह फैसला लिया है, अधिकारियों ने यह यहूदी राज्‍य में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए 10 दिनों के लिए हेब्रोन के मस्‍जिदों को बंद करने की घोषणा की.

इब्राहिमी मस्‍जिद हेबी एबु स्‍नीनेह के निदेशक ने कहा, ‘इजरायल का यह फैसला आधारहीन है क्‍योंकि मस्‍जिद आने वाले सभी श्रद्धालु पर्याप्‍त स्‍वास्‍थ्‍य जांच अवश्‍य कराते हैं, साथ ही ये सभी प्रोटोकॉल जैसे मास्‍क पहनना और शारीरिक दूरी का ध्‍यान भी रखते हैं.

मालूम हो कि जॉन्‍स हॉपकिन्‍स यूनिवर्सिटी के आंकड़ों के मुताबिक, दुनिया भर में कोरोना संक्रमितों की कुल संख्‍या 8 करोड़ 88 लाख के पार चली गई है.

जबकि मरने वालों का आंकड़ा 19 लाख से अधिक हो चुका है, इजरायल की बात करें तो कोरोना संक्रमितों की संख्या 4.77 लाख और मरने वालों का आंकड़ा 3,596 हो गई है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here