नई दिल्‍ली : असम के पूर्व CM तरुण गोगोई का अंतिम संस्कार 26 नवंबर को होगा, रिपुन बोरा ने ये जानकारी देते हुए कहा कि ‘गोगोई की आखिरी इच्छा के अनुसार उनके पार्थिव शरीर को अंतिम संस्कार से पहले मंदिर, मस्जिद और गिरजाघर ले जाया जाएगा, गोगोई के निधन पर तीन दिन के राजकीय शोक की घोषणा की.

संवाददाता सम्मेलन में बोरा ने कहा कि मंगलवार सुबह गोगोई के पार्थिव शरीर को अस्पताल से दिसपुर में उनके आधिकारिक आवास पर ले जाया जाएगा.

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

जीएमसीएच में सोमवार को गोगोई का निधन हुआ, राज्यसभा सदस्य बोरा ने कहा, ‘डॉक्टर पार्थिव शरीर को तीन दिन तक सुरक्षित रखने के लिये रात में आवश्यक चिकित्सा औपचारिकताएं पूरी करेंगे.’

गोगोई के पार्थिव शरीर को राज्य के सचिवालय जनता भवन ले जाया जाएगा, जहां वह 15 साल तक मुख्यमंत्री की कुर्सी पर विराजमान रहे.

इसके बाद अपराह्न 3 बजकर 30 मिनट पर पार्थिव शरीर को राज्य के कांग्रेस मुख्यालय राजीव भवन ले जाया जाएगा.

बोरा ने कहा, ‘उनकी पत्नी डॉली और बेटे गौरव ने राज्य के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल से एक दिन के लिए पार्थिव शरीर को अंतिम दर्शन के लिये आम जनता के लिये रखने का अनुरोध किया.

परिवार की इच्छा के अनुसार, मंगलवार शाम पार्थिव शरीर को गुवाहाटी में श्रीमंत शंकरदेव कलाक्षेत्र ले जाया जाएगा और 25 नवंबर को पूरे दिन उसे वहीं रखा जाएगा.’

उन्होंने कहा कि 26 नवंबर को कलाक्षेत्र से गोगोई की अंतिम यात्रा शुरू होगी और उनके पैतृक नगर तीताबोर के बजाय गुवाहाटी में अंतिम संस्कार किया जाएगा, बोरा ने कहा, ‘गोगोई की आखिरी इच्छा के अनुसार उनके पार्थिव शरीर को अंतिम संस्कार से पहले मंदिर, मस्जिद और गिरजाघर ले जाया जाएगा.’

बोरा ने कहा कि राहुल गांधी समेत पार्टी के कई नेता गोगोई को श्रद्धांजलि देने के लिये अगले तीन दिन में असम आ सकते हैं.

गोगोई का कोविड-19 के बाद की दिक्कतों का इलाज चल रहा था, 84 वर्ष की आयु में उनका निधन हो गया, वह 2001 से 2016 तक असम के मस रहे , इसके अलावा वह छह बार सांसद और दो बार केन्द्रीय मंत्री भी रहे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here