नई दिल्ली/अयोध्या :  राम जन्मभूमि पर बनने वाले भव्य मंदिर के भूमि पूजन समारोह का पहला न्यौता राम मंदिर-बाबरी मसजिद विवाद के अहम पक्षकार रहे हाज़ी इक़बाल अंसारी को भेजा गया है, अंसारी ने कहा है कि वह इस कार्यक्रम में ज़रूर जाएंगे, राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने सोमवार सुबह अंसारी को 5 अगस्त में होने वाले कार्यक्रम के लिए आमंत्रित किया, ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास ने अंसारी को न्यौता भेजा, राम मंदिर के भूमि पूजन कार्यक्रम के लिए अब तक कुल 175 लोगों को न्यौता भेजा गया है, ट्रस्ट की ओर से बताया गया है कि समयाभाव के चलते बहुत से लोगों को फोन पर ही बुलावा भेजा गया है, इनमें बीजेपी के दिग्गज नेता लाल कृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी भी शामिल हैं.

राम मंदिर के भूमि पूजन कार्यक्रम के लिए जिन लोगों को न्यौता भेजा गया है उनमें आधे से ज्यादा साधु-संत हैं, देश के शंकराचार्यों में से केवल उडुपि मठ को ही न्यौता भेजा गया है, सुप्रीम कोर्ट में राम मंदिर में पूजा-अर्चना के अधिकार की लड़ाई लड़ने वाले मंहत धर्मदास को भी बुलावा भेजा गया है, ट्रस्ट की ओर से भेजे गए न्यौते के मुताबिक़, राम जन्म भूमि, अयोध्या धाम, रामकोट में होने वाले मुख्य कार्यक्रम में शामिल होने के लिए इक़बाल अंसारी को बुलावा भेजा गया है, रामकोट में विशेष तौर पर बनाए गए पंडाल में होने वाले आयोजन में भी अंसारी शामिल होंगे.

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

अंसारी को हाल ही में सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड की ओर से अयोध्या में बनने वाली मसजिद के निर्माण के लिए गठित ट्रस्ट में शामिल नहीं किया गया था, इसको लेकर उन्होंने एतराज भी जताया था, ट्रस्ट की ओर से मिली जानकारी के मुताबिक़, भूमि पूजन कार्यक्रम में आडवाणी व जोशी सहित कई प्रमुख लोग वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए शामिल होंगे, आडवाणी के यहां से साफ हो गया है कि वे अयोध्या नहीं आ रहे हैं, मुरली मनोहर जोशी भी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये कार्यक्रम में शामिल होंगे.

ट्रस्ट के अयोध्या प्रभारी प्रकाश गुप्ता के मुताबिक़, सभी प्रमुख लोग, जिन तक निमंत्रण नहीं पहुंच सका है उन्हें फोन कर बुलाया गया है, उमा भारती ने कार्यक्रम के लिए अयोध्या आने की सहमति दे दी है, सोमवार को ही उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य को भी न्यौता दिया गया है, राम मंदिर आंदोलन में प्रमुख भूमिका निभाने वाली और बीजेपी नेता उमा भारती ने अयोध्या आने के बारे में बताया है लेकिन उन्होंने कहा है कि वह मुख्य कार्यक्रम स्थल से दूर सरयू तट पर डेरा डालेंगी, उमा भारती का कहना है कि भोपाल से अयोध्या तक के रास्ते में वह किसी कोरोना संक्रमित के संपर्क में आ सकती हैं, इसलिए मुख्य कार्यक्रम में जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रहेंगे, उनका शामिल होना उचित नहीं होगा, उमा भारती का कहना है कि कार्यक्रम समाप्त होने के बाद वह अलग से रामलला के दर्शन करने जाएंगी.

रिपोर्ट सोर्स, पीटीआई

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here