नई दिल्ली : आम आदमी पार्टी ने भाजपा शासित साउथ एमसीडी द्वारा सरफेस पार्किंग के शुल्क को दोगुना करने के फैसले पर आपत्ति जताई है। ‘आप’ की वरिष्ठ नेता आतिशी ने कहा कि एमसीडी नए-नए प्रस्ताव लाकर जनता को लूट रही है और लूट का पैसा भाजपा नेताओं की जेब में जाता है।

साउथ एमसीडी ने जनता से पैसे लूटने के लिए अपनी एरिया में सरफेस पार्किंग का रेट 20 रुपए से बढ़ा कर 40 रुपए प्रति घंटा कर दिया है। उन्होंने कहा कि पिछले एक साल में साउथ एमसीडी ने जनता से पैसे लूटने के लिए सरफेस पार्किंग को दोगुना करने का यह 10वां प्रस्ताव लाई है।

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

भाजपा को पता है कि एमसीडी में चोरी और भ्रष्टाचार करने का यह उसका आखिरी साल है और आगामी चुनाव में जनता उसे एमसीडी से बाहर फेंक देगी, इसलिए वह जनता को परेशान कर रही है। आम आदमी पार्टी मांग करती है कि साउथ एमसीडी सरफेस पार्किंग का रेट दोगुना करने के प्रस्ताव को वापस ले और जनता को लूटना बंद करे।

आतिशी ने दक्षिणी दिल्ली नगर निगम द्वारा सरफेस पार्किंग शुल्क को दोगुना करने के फैसले को लेकर पार्टी मुख्यालय में आज एक प्रेस वार्ता को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि साउथ एमसीडी की स्टैंडिंग कमेटी ने एक प्रस्ताव पारित किया है कि उसके पूरे इलाके में जो सरफेस पार्किंग के रेट हैं, वह अब 20 रुपए की बजाय 40 रुपए प्रति घंटा होगा।

यानी जब हम किसी मार्केट एरिया में जाते हैं और अपनी गाड़ी को पार्क करते हैं, मेट्रो स्टेशन के बगल में गाड़ी लगाते हैं, जिसका एमसीडी रेट तय करती है, उस रेट को साउथ एमसीडी ने दोगुना करने का निर्णय लिया है।

अभी साउथ दिल्ली के किसी भी इलाके में 20 रुपए प्रति घंटे के आधार पर पार्किंग का रेट है, लेकिन साउथ एमसीडी की स्टैंडिंग कमिटी के इस फैसले को मंजूरी मिलने और नोटिफाइड होने के बाद साउथ दिल्ली में रहने वाले हर व्यक्ति, यहां पर आफिस जाने वाले हर व्यक्ति या यहां पर किसी भी मार्केट में जाने वाले हर व्यक्ति को अब 40 रुपए प्रति घंटे के आधार पर पार्किंग शुल्क देनी पड़ेगी।

आतिशी ने कहा कि हम पिछले एक साल से देखते आ रहे हैं कि भाजपा शासित एमसीडी खासकर साउथ एमसीडी पिछले एक साल से बार-बार जनता का पैसा लूटने और टैक्स बढ़ाने के नए-नए प्रस्ताव लेकर आ रही है।

यह वही एमसीडी है, जो प्रस्ताव लेकर आई थी कि प्रोफेशनल टैक्स लगाया जाएगा। यह वही साउथ एमसीडी है, जो प्रॉपर्टी टैक्स बढ़ाने का प्रस्ताव लेकर आई थी। यह वही साउथ एमसीडी है, जिसने प्रॉपर्टी के ट्रांसफर पर एक फीसद टैक्स बढ़ाया। यह वही साउथ एमसीडी है, जिसने कमर्शियल टैक्स बढ़ाया। यह सरफेस पार्किंग को दोगुना कर जनता से पैसा लूटने का साउथ एमसीडी का इस साल का 10वां प्रस्ताव है।

यह इसलिए हो रहा है, क्योंकि अब भाजपा को पता है कि एमसीडी में यह उसका आखरी साल है। उसे पता है कि जनता उससे परेशान है। जनता उसके भ्रष्टाचार से परेशान है। जिस तरह से भाजपा शासित एमसीडी ने दिल्ली को कूड़ेदान बना दिया है, जनता उससे परेशान है और आने वाले 2022 के निगम के चुनाव में दिल्ली की जनता नगर निगम से भाजपा को निकाल कर बाहर फेंकने वाली है।

यही कारण है कि पिछले एक साल से भाजपा ने यह तय कर लिया है कि जनता को जितना लूट सकते हो, उतना लूट लो। जनता से जितना पैसा उगाह सकते हो, उगाह लो, जितना टैक्स बढ़ाकर लोगों को परेशान कर सकते हो, परेशान कर लो, क्योंकि इसके बाद चोरी करने और पैसा कमाने का मौका नहीं मिलेगा।

उन्होंने आगे कहा कि यह भी स्पष्ट है कि जो पैसा भाजपा टैक्स बढ़ाकर दिल्ली की जनता से लेती है, वह पैसा जनता के हक में नहीं जाता है। हम हर कुछ महीने में देखते हैं कि एमसीडी अपने हाथ खड़े कर देती है और कहती है कि हमारे पास सफाई कर्मचारियों को तनख्वाह देने के लिए पैसे नहीं है।

हमारे पास टीचरों को तनख्वाह देने के लिए पैसा नहीं है। हमारे पास डॉक्टरों और नर्सों की तनख्वाह देने का पैसा नहीं है। अगर आप प्रॉपर्टी टैक्स, कमर्शियल टैक्स को बढ़ाते हो, पार्किंग को भी दुगना करते हो और प्रॉपर्टी ट्रांसफर टैक्स को भी बढ़ाते हो, तो यह पैसा आखिर जाता कहां पर है? जनता को लूट-लूट कर आप पैसा भरते हो और फिर भाजपा के नेता उस सारे पैसे को अपनी जेब में डालते हैं।

पिछले साल में दक्षिणी नगर निगम ने सिर्फ एक मद में पैसा बढ़ाया है कि अब हर एक पार्षद को एक करोड़ रुपए का फंड दिया जाएगा। यह भी स्पष्ट है कि जो जनता से पैसा लिया जाता है, जो बार-बार टैक्स बढ़ाए जा रहे हैं, जो कोरोना काल के ऐसे समय में जब हर परिवार को अपनी आर्थिक स्थिति चलाने में दिक्कत आ रही है,

लोगों की नौकरियां गई हैं, बिजनेस बंद हुए हैं, उस समय पर साउथ एमसीडी न सिर्फ टैक्स बढ़ा रही है, बल्कि अपने पार्षदों को पैसा दे रही है कि जाओ जितना चोरी करना चाहो, कर लो, जितना भ्रष्टाचार करना चाहो, कर लो, क्योंकि यह तुम्हारे चोरी और भ्रष्टाचार करने का आखिरी साल है।

आतिशी ने कहा कि साउथ एमसीडी का यह जो प्रस्ताव है कि साउथ एमसीडी में सरफेस पार्किंग के रेट दोगुना किया जाएगा, हमारी यह मांग है कि इस प्रस्ताव को वापस लिया जाए। जनता के साथ एमसीडी ने जो यह लूट खसोट मचाई हुई है, इस लूट खसोट को खत्म किया जाए।

यह जो सरफेस पार्किंग का रेट दोगुना हुआ है, इस प्रस्ताव को साउथ एमसीडी अप्रूव न करें और इस प्रस्ताव को वापस ले। एमसीडी दिल्ली की जनता को परेशान न करें और वह जनता के साथ जो लूट मचाई हुई है, वह उनके साथ लूट न मचाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here