नई दिल्ली : भाजपा के वरिष्ठ नेता राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अल्पसंख्यक मोर्चा जनाब इरफान अहमद ने अपने बयान में कहा कि पीएम मोदी के नेतृत्व में देश का चौमुखी विकास एवं आत्मनिर्भर भारत बनने की ओर अग्रसर है.

हाल ही में एएमयू के 100 वर्ष पूर्ण होने के शुभ अवसर पर पीएम मोदी ने देश और दुनिया को संदेश दिया कि अलीगढ़ यूनिवर्सिटी हिंदुस्तान की मिनी इंडिया है जिसमें की सभी भाषाओं की शिक्षा दी जाती है.

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

यह भी भरोसा दिलाया कि भारत सरकार अल्पसंख्यकों को सशक्त एवं मुख्यधारा में जुड़ने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है पिछली सरकारों ने अल्पसंख्यक समाज को केवल वोट बैंक के नजरिए से अपने राजनीतिक स्वार्थ के लिए इस्तेमाल किया.

परंतु मोदी जी की सरकार देश को “सबका साथ सबका विकास सबका विश्वास” के साथ लेकर चल रही है उधर देश में कुछ मुट्ठी भर लोग कोरोना वैक्सीन को हराम-हलाल बता कर दुष्प्रचार कर रहे है.

जबकि दुनिया के इस्लामिक खाड़ी देशों ने अपने नागरिकों के लिए सबसे पहले कोरोना वैक्सीन को इस्तेमाल करने की इजाजत दी है, लेकिन कुछ दल एवं  घटिया लोग राजनीति कर, देश के भोले-भाले लोगों को गुमराह करने में लगे हुए है.

पूरी दुनिया में कुल 190 से अधिक देश हैं उनमें से कुल 50 के लगभग विकसित देश हैं करीब 20 देश अतिविकसित श्रेणी में हैं जिसमें 7 देश अति-अति विकसित श्रेणी में है भारत उन 7 विकसित एवं विकासशील देशों में आता हैं.

कोरोना वैक्सीन मात्र 5 देशों ने बनाई जिसमें से एक भारतवर्ष भी है अर्थात हिंदुस्तान विकासशील देश होकर भी अति-अति विकसित देशों को पछाड़ कर भारत के वैज्ञानिकों ने वैक्सीन के निर्माण में ही नही.

बल्कि सदी की सबसे बड़ी महामारी की वैक्सीन निर्माण कर देश व दुनिया में एक मिसाल कायम की है सभी 5 देशों की वैक्सीन में भारत की वैक्सीन सबसे अधिक प्रभावशाली हैं, क्योंकि ये कोविड-19 के नये स्ट्रेन पर भी कार्य करेगी ब्रिटेन जैसे अति-अति विकसित देश जहाँ नया स्ट्रेन हाहाकार मचा रहा हैं.

वह भी भारत की वैक्सीन का बेसब्री से प्रतीक्षा कर रहा हैं. कुल 32 छोटे-बड़े देश भारत को वैक्सीन के लिए प्री ऑर्डर का प्रस्ताव रख चुके हैं। पूरी दुनिया में भारत व भारत के वैज्ञानिकों की उपलब्धि की सराहना कर रही है जोकि भारतवासियों के लिए गर्व का विषय है. दुनिया भारत को मानव रक्षा के लिए आशा भरी नजरों से टक-टकी लगाए देख रही हैं।

परंतु हिंदुस्तान की राजनीतिक विपक्षी पार्टियां कांग्रेस, सपा, बसपा, सी पी एम, वामपंथी, तृणमूल कांग्रेस आदि अपने देश के वैज्ञानिकों की “सराहना” करने की बजाए उनका अपमान करने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ रहे हैं और वैक्सीन का नाम भाजपा वैक्सीन बता कर देश और दुनिया में भ्रम व दुष्प्रचार फैलाने की कोशिश कर रहे हैं.

जबकि हिंदुस्तान के वैज्ञानिकों ने भारत सरकार के नेतृत्व में कड़ी मेहनत कर दुनिया में हिंदुस्तान का नाम रोशन कर, यह बता दिया है कि हिंदुस्तान एवं हिंदुस्तानी वैज्ञानिक दुनिया में किसी भी मुल्क के वैज्ञानिकों से पीछे नहीं है.

हमें गर्व है अपने देश के वैज्ञानिकों एवं मोदी जी की भारत सरकार पर, आज हम दुनिया में सशक्त देशों में एवं विकासशील देशों की श्रेणी में है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here