नई दिल्ली: कोरोनावायरस (Coronavirus) संक्रमण से बचाव के लिए पूरे देश में लॉकडाउन लागू है. सब कुछ बंद है. इसी बीच दिल्ली यूनिवर्सिटी (Delhi University) के ऑनलाइन एग्जाम का मुद्दा गरमा गया है.

कांग्रेस के छात्र संगठन NSUI ने दिल्ली यूनिवर्सिटी (DU) के ऑनलाइन एग्जाम कराए जाने के फैसले का विरोध किया है नेशनल सोशल मीडिया वाइस चेयरमैन आयुष शर्मा का कहना है कि बहुत से ऐसे छात्र हैं जो आर्थिक स्थिति के चलते ऑनलाइन एग्जाम का हिस्सा बनने में सक्षम नहीं हैं.

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

ऐसे छात्रों का भारी नुकसान होगा. NSUI ने जारी प्रेस रिलीज में कहा, ”जो छात्र पिछड़ी पृष्ठभूमि से हैं, प्रौद्योगिकी का खर्च नहीं उठा सकते हैं. ओबीसी, ईडबल्यूसी, एससी-एसटी श्रेणी के अधिकांश छात्र ऑनलाइन परीक्षाओं के लिए उपस्थित नहीं रह सकते हैं, इससे उन्हें नुकसान होगा.”

संगठन ने इसके अलावा ये भी कहा है कि ऑनलाइन क्लासेज को लेकर भी काफी छात्रों ने शिकायत की है. NSUI का दावा है, ”कई छात्र मोबाइल फोन या लैपटॉप न होने के चलते ऑनलाइन क्लास का हिस्सा ही नहीं बन पाए हैं. खासकर जम्मू-कश्मीर के छात्र इंटरनेट की शिकायत कर रहे हैं, क्योंकि वहां अभी भी 2जी सेवा है, जबकि उत्तर पूर्वी बेल्ट में इंटरनेट की सुविधा नहीं है. कई कॉलेज में रामजस कॉलेज की तरह ऑनलाइन क्लासेज भी नहीं कराई गई हैं.”

इन तमाम मसलों को उठाते हुए एनएसयूआई ने मांग की है कि ऑनलाइन परीक्षा को लेकर पुनर्विचार किया जाना चाहिए. एनएसयूआई ने ये प्रतिक्रिया यूजीसी के उस फैसले पर दी है, जिसमें कहा गया है यूनिवर्सिटी अपने हिसाब से नियमों को ध्यान में रखते हुए ऑनलाइन या ऑफलाइन परीक्षा करा सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here