Urdu

Epaper Urdu

YouTube

Facebook

Twitter

Mobile App

Home भारत कोरोना: बोले मौलाना अरशद मदनी- 'इस प्रकार की मानसिकता को सांप्रदायिकता कहूं...

कोरोना: बोले मौलाना अरशद मदनी- ‘इस प्रकार की मानसिकता को सांप्रदायिकता कहूं या अज्ञानता’

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट आॅफ इंडिया ने मुंबई के तीन मुस्लिम क़ब्रिस्तानों में कोरोना से मरने वाले मुसलमानों की तदफीन के खिलाफ दर्ज याचिका जमीअत उलमा महाराष्ट्र और बांदरा सुन्नी क़ब्रिस्तान के विरोध के बाद खारिज कर दी जिसके बाद मुसलमानों ने राहत की सांस ली। मुंबई के उपनगर बांदरा में रहने वाले प्रदीप गांधी ने पिछले दिनों सुप्रीम कोर्ट आॅफ इंडिया में एक याचिका दाखिल करके बांदरा में स्थित मुस्लिम कोकनी क़ब्रिस्तान, खोजा सुन्नत जमाअत क़ब्रिस्तान और खोजा इस्ना अशरी जमाअत क़ब्रिस्तान में कोरोना से मरने वाले लोगों के शवों को दफनाने के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी,

याचिकाकर्ता प्रदीप गांधी ने अपनी याचिका में लिखा था कि इन क़ब्रिस्तानों में शवों को दफनाने से क्षेत्र में कोरोना वायरस के फैलने का खतरा है, हालांकि इससे पहले 27 अप्रैल को मुंबई हाईकोर्ट ने बी.एम.सी. की ओर से शव को दफनाने की अनुमति दिए जाने के खिलाफ दाखिल याचिका पर चायिकाकर्ता को कोई राहत नहीं दी थी जिसके बाद आज सुप्रीम कोर्ट ने भी इसे कोई राहत नहीं दी, अलबत्ता जस्टिस रोहिंटन नरीमन और जस्टिस इंदिरा बनर्जी ने मुंबई हाईकोर्ट को आदेश दिया कि दो सप्ताह के भीतर याचिकाकर्ता की याचिका पर सुनवाई पूरी कर ले। आज अदालत में जमीअत उलमा-ए-हिंद की ओर से वरिष्ठ वकील नकुल दीवान और एडवोकेट आॅनरिकार्ड एजाज मक़बूल ने बहस करते हुए अदालत को बताया किद विश्व स्वास्थ्य संगठन ने खुद अपने बयान में कहा है कि मरने के बाद अगर शव को ज़मीन में दफन कर दिया जाए तो इससे वायरस फैलने का खतरा नहीं रहता।

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

उन्होंने अदालत को यह भी बताया कि स्वास्थ्य मंत्रालय (भारत सरकार) और विश्व स्वास्थ्य संगठन और अन्य चिकित्सा संस्थानों की ओर से जारी की गई गाईडलाइंस का पालन करते हुए तदफीन की जा रही है, जिस पर आपत्ति करना अनुचित है। इस मामले में जमीअत उलमा की ओर से कानूनी इम्दाद कमेटी के सचिव गुलजार आज़मी पक्ष बने थे जबकि जमीअत उलमा-ए-हिंद ने ही बांदरा मुस्लिम कोकनी क़ब्रिस्तान को भी इस मामले में पक्ष बनाया था। आज की अदालती कार्यवाही पर अध्यक्ष जमीअत उलेमा-ए-हिंद मौलाना अरशद मदनी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले से मुंबई के मुसलमानों ने राहत की सांस ली है क्योंकि सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल करने के बाद से ही बांदरा के मुसलमान परेशान थे क्योंकि कोरोना से मरने वालों के शवों को पहले बी.एम.सी. ने जलाने को कहा था लेकिन फिर जनता के घोर विरोध के बाद मुंबई नगर निगम ने अपने आदेश में परिवर्तन किया था,

इसके बावजूद क़ब्रिस्तान में मुसलमानों की तदफीन रोकने की कोशिश की गई जिसे आज सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया। मौलाना मदनी ने कहा कि जो भी आसमानी धर्म हैं उनके यहां मसला यह है कि अपने मृतक को दफन किया जाए क्योंकि अल्लाह ने ज़मीन को ऐसी ताक़त दी है कि हर चीज़ को नष्ट कर देती है। उन्होंने कहा कि हमारे यहां क़ब्र इस प्रकार से बनाने का आदेश दिया गया है कि मृतक के अंदर दफन करने के बाद जो परिवर्तन आते हैं वह बाहर न आ सकें। याचिकाकर्ता का यह समझना कि कोरोना वायरस का शिकार मृतक अगर ज़मीन में दफन किया जाएगा तो इसकी बीमारी या वायरस के प्रभाव बाहर तक फैलेंगें, इस बारे में मौलाना मदनी ने कहा कि हमारी समझ में नहीं आता कि इस प्रकार की मानसिकता को सांप्रदायिकता कहूं या भय और अज्ञानता, हालांकि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने बहुत पहले यह स्पष्ट कर दिया है

कोरोना वायरस के शिकार मृतक की तदफीन से इस वायरस के फैलने का कोई खतरा नहीं होता लेकिन इसके बाद भी जिस तरह मुसलमानों की तदफीन को एक विवाद बनाने की कोशिश हुई वह बहुत दुखद है, उन्होंने स्पष्ट किया कि कोरोना वायरस से मरने वालों की तदफीन विश्व स्वास्थ संगठन और अन्य चिकित्सा संस्थानों द्वारा जारी की गई गाईडलाईन के अनुसार ही हो रही है इसलिए इस पर किसी तरह का विवाद खड़ा करना अनुचित और तर्कहीन बात है, गुलज़ार आज़मी ने कहा कि जमीअत उलमा हस्तक्षेपकर्ता के रूप में मुंबई हाईकोर्ट जाएगी ताकि मुस्लिम क़ब्रिस्तान में तदफीन के सिलसिले में कोई बाधा न आए, उन्होंने कहा कि आज के सुप्रीम कोर्ट के फैसले से देश के अन्य क्षेत्रों में इस तरह की होने वाली परेशानी से मुसलमानों को राहत मिलेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

राम मंदिर : भूमिपूजन से पहले बोले लालकृष्ण आडवाणी- ‘पूरा हो रहा मेरे दिल का सपना’

नई दिल्ली : अयोध्या में बुधवार को होने वाले राम मंदिर के भूमिपूजन से पहले लालकृष्ण आडवाणी ने वीडियो संदेश जारी किया...

मुझे खुशी है कि दिल्ली मॉडल को दुनिया भर में पहचाना जा रहा है : सीएम केजरीवाल

नई दिल्ली : दक्षिण कोरिया के राजदूत एच.ई. शिन बोंग-किल ने मंगलवार को कोविड महामारी से निपटने के लिए दिल्ली मॉडल की...

दिल्ली : नगर निगम के चुनाव के मद्देनजर आप अपने संगठन का पुनर्गठन करेगी : गोपाल राय

नई दिल्ली : आम आदमी पार्टी के दिल्ली प्रदेश संयोजक गोपाल राय ने एक बयान जारी करते हुए बताया कि आगामी दिल्ली...

दिल्ली दंगा: प्रोफेसर अपूर्वानंद से स्पेशल सेल ने पांच घंटे की पूछताछ, फोन भी जब्त

नई दिल्लीः दिल्ली विश्वविद्यालय के प्रोफेसर और विचारक अपूर्वानंद से सोमवार को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने पांच घंटे लंबी पूछताछ की....

वोट के लिए दलितों को ठगने वाली BJP क्या राम मन्दिर निर्माण मंच पर भी उन्हें जगह देगी: कुँवर दानिश अली

शमशाद रज़ा अंसारी श्रीराम जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण का शुभारम्भ 5 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भूमि पूजन के...