शमशाद रज़ा अंसारी

शनिवार को जनपद के शहरी क्षेत्र में दो अलग-अलग थाना क्षेत्रों में दुर्घटना होने के बाद बवाल हो गया। “तूफ़ान” ने दोनों जगह मौके पर जाकर बलवाइयों को समझा बुझा कर शांत किया। इस दौरान हल्का लाठीचार्ज भी करना पड़ा। पहला मामला विजयनगर थाना क्षेत्र में सम्राट चौक के पास दोपहर के करीब घटित हुआ। जहाँ बाइक सवार एक व्यक्ति को बस ने टक्कर मार दी। टक्कर मारने के बाद ड्राइवर बस लेकर भाग गया। सड़क पर घायल व्यक्ति को तड़पते देख भीड़ जमा हो गयी। घटना के करीब बीस मिनट बाद सर्वप्रथम प्रताप विहार चौकी इंचार्ज राघवेंद्र सिंह घटनास्थल पर पँहुचे। देरी से पँहुची पुलिस को देख कर भीड़ उत्तेजित हो गयी। भीड़ ने पुलिस पर देरी से पँहुचने तथा वाहन के भाग जाने पर हंगामा शुरू कर दिया। हंगामा बढ़ने की सूचना पर विजयनगर कोतवाल राजीव कुमार, एसएसआई इमाम ज़ैदी, जलनिगम चौकी इंचार्ज राम गोपाल मौके पर पँहुचे।

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

तमाम प्रयासों के बाद भी भीड़ शांत नही हुई। भीड़ घायल का इलाज कराने तथा बस ड्राइवर को गिरफ्तार करने की मांग पर अड़ी रही। इस दौरान पुलिस को हल्का लाठीचार्ज भी करना पड़ा। आला अधिकारियों को सूचना मिलने पर क्षेत्राधिकारी प्रथम राकेश कुमार मिश्रा “तूफ़ान” घटनास्थल पर पँहुचे। सीओ ने भीड़ को समझाते हुये कहा कि सबसे पहले घायल को उपचार मिलना चाहिए। देरी करने से घायल की जान को खतरा हो सकता है। क्षेत्राधिकारी द्वारा समझाने पर भीड़ शांत हुई और घायल को अस्पताल ले जाने दिया।

अभी यह मामला शांत ही हुआ था कि इसके कुछ घन्टे बाद नगर कोतवाली क्षेत्र के घन्टाघर रामलीला मैदान में पैदल जा रहे युवक को एक बाइक सवार टक्कर मार कर भाग गया। बाइक की ज़ोरदार टक्कर से युवक गम्भीर रूप से घायल हो गया। घटनास्थल पर मौज़ूद लोगों ने पुलिस को सूचना दी। सूचना मिलने के लगभग आधे घन्टे बाद कैला भट्टा चौकी इंचार्ज संजीव कुमार घटनास्थल पर पँहुचे। चौकी इंचार्ज को देखते ही भीड़ उग्र हो गयी। भीड़ ने आरोप लगाया कि पुलिस हमेशा देर से ही पँहुचती है। इस पर संजीव कुमार ने जाम लगे होने का हवाला दिया। लेकिन भीड़ फिर भी उग्र बनी रही। हंगामा बढ़ने पर नगर कोतवाल विष्णु कौशिक, एसआई शिवभूषण दीक्षित, एसआई प्रह्लाद सिंह, एसआई मंजू सिंह, एसआई सचिन तोमर, एसआई श्रीनिवास गौतम, हेडकांस्टेबल अशोक कुमार, हेडकांस्टेबल राधेश्याम, कांस्टेबल देव कुमार कांस्टेबल सुरेश आदि घटनास्थल पर पँहुचे। भीड़ उग्र होकर पुलिस प्रशासन मुर्दाबाद, टक्कर मारने वाले को गिरफ़्तार करो के नारे लगाने लगी।

नगर कोतवाल ने एम्बुलेंस बुला कर भीड़ से घायल को उपचार के लिए ले जाने की बात कही तो भीड़ उच्च अधिकारियों को घटनास्थल पर बुलाने की मांग करने लगी। नगर कोतवाल विष्णु कौशिक ने क्षेत्राधिकारी प्रथम राकेश मिश्रा को सूचना दी। सूचना मिलने पर सीओ प्रथम राकेश कुमार मिश्रा “तूफ़ान” तथा सीओ द्वितीय अवनीश सिंह घटनास्थल पर पँहुचे। राकेश मिश्रा ने घायल का मुआयना किया। घायल की गम्भीर हालत देखते हुये सीओ ने भीड़ से कहा कि घायल का बहुत खून बह चुका है। देरी करने पर कोई भी अनहोनी हो सकती है। आप सबकी ज़िद के कारण किसी माँ की गोद सूनी हो जायेगी। इसलिये पहले घायल को अस्पताल ले जाने दें। मैं आश्वासन देता हूँ कि दो दिन के अंदर टक्कर मारने वाले को गिरफ़्तार कर लिया जायेगा। लेकिन भीड़ फिर भी नही मानी तथा सीओ से अभद्रता करने लगी। जिस पर पुलिस ने लाठीचार्ज करके भीड़ को तितर-बितर किया। भीड़ के हटने के बाद नगर कोतवाल की निगरानी में घायल को अस्पताल ले जाया गया।

इस तरह दोनों थानों में पुलिस द्वारा किया गया मॉक ड्रिल पूरा हुआ।

दोनों जगह जब जनता को यह पता चला कि यह कोई घटना नही,केवल पुलिस की रिहर्सल थी, तो लोग यह सुनकर अवाक रह गये। सबने कहा कि लगा ही नही यह पुलिस की रिहर्सल है। दरअसल शनिवार को पुलिस ने उपद्रवियों से निपटने के लिए मॉक ड्रिल करने का कार्यक्रम बनाया था। मॉक ड्रिल के दौरान सभी जवान सशस्त्र एवं दंगा विरोधी साजो-समान से लैस रहे। क्षेत्राधिकारी प्रथम राकेश कुमार मिश्रा ने बताया कि किसी भी विषम परिस्थिति से निपटने के लिए यह मॉक ड्रिल किया गया। उन्होंने कहा कि हालात किसी भी प्रकार के क्यों न हों लेकिन जवानों को अपना धैर्य बना कर रखना चाहिए। ताकि किसी भी परिस्थिति से बिना किसी नुकसान के शांतिपूर्वक निपटा जा सके। घन्टाघर पर हुई मॉक ड्रिल में एसपी सिटी मनीष कुमार मिश्रा भी पँहुचे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here