महोदय

भारत सरकार के निर्देशानुसार कोरोना (Covid-19) मरीजों के संपर्क में आने वाले संदिग्ध लोगों को 14 से 21 दिन तक क्वॉरेंटाइन सेंटर में रखने का प्रावधान किया गया है।

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

पूरे उत्तर प्रदेश में जिन हजारों लोगों को प्रथम चरण के लॉक्डाउन से ही क्वॉरेंटाइन सेंटर में रखा गया था विशेष रूप से मेरे लोक सभा क्षेत्र अमरोहा में पिछले 45 दिनों से 25 लोगों को क्वॉरेंटाइन किया हुआ है जिन में कोरोना वायरस के न कोई लक्षण है और उनकी टेस्ट रिपोर्ट भी निगेटिव आयी हुयी है।  उनका क्वॉरेंटाइन समय समाप्त होने के बावजूद उन्हें घर नहीं भेजा जा रहा है। जिसके कारण यह लोग मानसिक रूप से आहत है। ऐसी स्थिति उत्तर प्रदेश के कई अन्य जिलों में उत्पन्न है।

ऐसे में सरकार की मंशा पर सवाल उठना लाज़िमी है। क्यूँ बेक़सूर लोगों को जानबूझ कर परेशान किया जा रहा है? यह आम आदमी के मौलिक अधिकारों का हनन है। ऐसी स्थिति में क्वॉरेंटाइन रखे गए लोग किसी और बीमारी के शिकार न हो जाएँ, इसलिए उनकी मनस्थिति को समझा जाए और इन्हें तुरंत उनके घरों तक भेजा जाए।

अतः आपसे अनुरोध है कि संबंधित अधिकारियों को उचित निर्देश देकर क्वॉरेंटाइन में रखे लोगों को जिनका क्वॉरेंटाइन समय समाप्त हो चुका है उन्हें उनके घर उचित सुविधा के साथ शीघ्र  पहुँचाया जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here