नई दिल्ली : दिल्ली की परिवहन व्यवस्था को प्रभावी बनाने की दिशा में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के अथक प्रयास रंग लाया है। दिल्ली सरकार ने डीटीसी के बेड़े में 1000 लो फ्लोर एसी बसें खरीदने का आदेश शुक्रवार को दे दिया।

डीटीसी के बेड़े में 12 साल के बाद नई बसें जुड़ने जा रही हैं। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि सभी बसें 20 सितंबर तक सड़क पर आ जाएंगी। डीटीसी के बेडे में अब कुल बसों की संख्या अभी तक के उच्चतम स्तर 7693 पर पहुंच जाएगी।

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

दिल्ली सरकार विश्व स्तर की सार्वजनिक परिवहन प्रणाली बनाकर दिल्ली को प्रदूषण मुक्त बनाने के लिए प्रतिबद्ध है। परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने कहा कि दिल्ली की परिवहन व्यवस्था को दुनिया की सबसे बेहतरीन परिवहन व्यवस्था बनाने के मुख्यमंत्री केजरीवाल के संकल्प को आगे बढ़ाने के लिए हम दिन रात काम कर रहे हैं।

मुख्यमंत्री केजरीवाल ने दिल्लीवासियों को बधाई देते हुए ट्विट किया कि 12 साल के इंतजार के बाद डीटीसी द्वारा 1000 लो फ्लोर एसी सीएनजी बसों को शामिल करने के आदेश दिए गए हैं।

ये सभी बसें 20 सितंबर तक सड़क पर आ जाएंगी। दिल्ली सरकार विश्व स्तर की सार्वजनिक परिवहन प्रणाली बनाकर प्रदूषण मुक्त दिल्ली के लिए प्रतिबद्ध है।

इन 1000 बसों के साथ डीटीसी का बेड़ा 4760 तक बढ़ जाएगा। दिल्ली में कुल बसों की संख्या अभी तक के उच्चतम स्तर 7693 पर पहुंच जाएगी।

पिछले वर्षों में खरीद से जुड़ी कई बाधाओं के बावजूद हमारी सरकार फैसले पर कायम रही और खरीद का आदेश दिया गया।

दिल्ली परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने कहा कि दिल्ली की परिवहन व्यवस्था को दुनिया की सबसे बेहतरीन परिवहन व्यवस्था बनाने के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के संकल्प को आगे बढ़ाने के लिए हम दिन रात काम कर रहे हैं।

इसी के तहत अथक प्रयासों से तमाम बाधाओं को पार कर 1 हजार एसी बसें आ रही हैं। इसके साथ ही डीटीसी को बंद करने की अफवाहों पर विराम लग गया है। हम शुरू से ही डीटीसी को मजबूत करने के काम में जुटे हुए हैं।

डीटीसी दिल्ली के परिवहन व्यवस्था की रीढ़ की हड्डी है। इससे पहले 2011 में बसें डीटीसी के बेड़े में शामिल हुईं थी। पिछली बार 2008 में डीटीसी बस खरीदने के आदेश दिए गए थे। वर्तमान में 3760 बसें सड़क पर चल रही हैं।

1 हजार नहीं बसें शामिल होने के बाद डीटीसी का बेड़ा 4760 पर पहुंच जाएगा। अभी 6693 कुल बसें हैं इनमें से 3760 डीटीसी और 2933 क्लस्टर बसें हैं।

डीटीसी के बेड़े में शामिल होने वाली 1 हजार बसों में से 700 बसें जेबीएम कंपनी से खरीदी जाएंगी। जबकि 300 बसें खरीदने का आदेश टाटा कंपनी को दिया गया है। दोनों कंपनियों को बसें खरीदने का आदेश बिड के आधार पर दिया गया है।

15 जनवरी को आदेश देने के बाद 16 सप्ताह के भीतर 80 बसें डीटीसी के बेडे में शामिल हो जाएंगी, जबकि 24 सप्ताह के भीतर 660 बसें डीटीसी में शामिल होंगी। सभी 1 हजार बसें सितंबर तक डीटीसी के बेड़े में शामिल करने की डेडलाइन है।

पिछले 2 वर्षों में दिल्ली के बस बेड़े में 1681 नई बसें शामिल हुईं हैं। यह बसें बीएस -6 मानक अनुपालित, वातानुकूलित बसें रियल-टाइम यात्री सूचना प्रणाली, सीसीटीवी, पैनिक बटन, जीपीएस और अन्य सुविधाओं से लैस होंगी। इन बसों में शारीरिक रूप से विकलांग लोगों के लिए भी उचित सुविधा उपलब्ध होंगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here