नई दिल्ली : शिवसेना की वार्षिक दशहरा रैली रविवार को दादर स्थित सावरकर ऑडिटोरियम में हुई, इस मौके पर CM ठाकरे ने अपने संबोधन में PM मोदी पर निशाना साधा, उन्होंने कहा कि भारत में अगर कहीं PoK है तो ये PM मोदी की नाकामी है, इसके साथ ही उद्धव ने राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी पर निशाना साधा, उद्धव ने उन्हें ‘काली टोपी’ पहनने वाले व्यक्ति के रूप में पुकारा. 

उद्धव ने कहा कि आज उनसे दशहरा रैली में किए गए मोहन भगवत के भाषण को सुनने के लिए कहते हैं, जिसमें उन्होंने कहा कि हिंदुत्व का मतलब मंदिरों में की जाने वाली पूजा नहीं है, और आप हमसे कह रहे हैं कि अगर आपने मंदिर नहीं खोले तो आप धर्मनिरपेक्ष बन रहे हैं, अगर आप ‘काली टोपी’ के नीचे कुछ दिमाग रखते हैं, तो मुख्य भाषण को सुनें, हम हमेशा से चाहते थे कि मोहन भागवत हमारे देश के राष्ट्रपति बनें, लेकिन वो ऐसा नहीं चाहते.

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

ठाकरे ने BJP पर हमला बोलते हुए कहा कि वो मेरी सरकार को गिराना चाहते हैं, लेकिन मैं सूचित कर दूं, पहले अपनी सरकार को बचाएं, मैं अपील करूंगा कि बिहार के लोग आपकी आंखें खोलें और वोट करें, उन्होंने कहा कि मैं मराठा, ओबीसी समुदाय के लिए न्याय चाहता हूं, मेरा सभी से अनुरोध है कि कोई बंटे नहीं, हमें महाराष्ट्र के लिए संयुक्त रहना है.

कंगना पर निशाना साधते हुए CM उद्धव ने कहा कि आज हम दस चेहरे का प्रतीकात्मक रावण जलाते हैं, एक चेहरे का कहना है कि मुंबई पीओके है, मैं कहना चाहूंगा कि अनुच्छेद-370 हट चुका है, अगर हिम्मत करो तो वहां एक जमीन खरीदने की हिम्मत करो, आप यहां रोजगार के लिए आते हैं और मुंबई को बदनाम करते हैं, मुंबई पुलिस को बदनाम क्यों किया? ये वही पुलिस है जिसने आपको बचाने के लिए अपनी जान कुर्बान कर दी, पीओके के साथ मुंबई की तुलना PM मोदी का अपमान है.

CM ने कहा कि हमारे देश में जो चीजें चल रही हैं, वे बेहद दुखद हैं, कोरोना को भुलाकर BJP केवल विभिन्न राज्यों की सरकार गिराने के लिए बैठी है, मैं लॉकडाउन नहीं चाहता, लेकिन मौजूदा स्थिति को देखता हूं, Modi सरकार बिहार में निशुल्क वैक्सीन देने जा रही है, फिर महाराष्ट्र के लोग बांग्लादेश या पाकिस्तान में रह रहे हैं क्या?

ब्यूरो रिपोर्ट, दिल्ली

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here