नई दिल्ली : बिहार चुनाव के नतीजे आने लगे हैं, दोपहर 1 बजे तक के रुझानों में NDA को अच्छी बढ़त मिलती दिख रही है, हालांकि, बिहार में एक बार फिर CM बनने का नीतीश कुमार का सपना इस बार पूरी तरह से उनकी सहयोगी पार्टी BJP के भरोसे पर रह गया है, सुबह 11,30 बजे तक के रुझानों के मुताबिक, BJP को बिहार में सबसे ज्यादा सीटें मिलती दिखाई दे रही हैं.

खुद नीतीश कुमार की परफॉर्मेंस अपेक्षा के मुताबिक खराब रही है और पहली बार ऐसा हो रहा है कि वो पीएम मोदी की पार्टी के साथ गठबंधन के जूनियर पार्टनर बनते दिख रहे हैं, हालांकि, नीतीश कुमार के करीबी नेताओं का कहना है कि ‘ब्रांड नीतीश’ अभी धूमिल नहीं पड़ा है, लेकिन उनका यह मानना है कि इस बार एंटी-इन्कंबेंसी नीतीश का खेल बिगाड़ सकती है.

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

विजयवर्गीय ने कहा ‘मोदी जी की छवि ने हमें इस चुनाव में आगे बढ़ाया है, हम शाम तक सरकार गठन और नेतृत्व पर फैसला लेंगे,’उनके इस बयान से ऐसा प्रतीत होता है कि BJP राज्य में CM के नए चेहरे पर विचार कर सकती है, जब उनसे इस इस संबंध में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि चुनावी रुझान के हिसाब से नतीजे आते हैं तो BJP नीतीश कुमार को CM बनाने के ‘वादे को निभाएगी’.

नीतीश कुमार की टीम ने चुनावों में जेडीयू के खराब प्रदर्शन के पीछ कोविड और चिराग पासवान को जिम्मेदार ठहराया है, 38 साल के चिराग, जो केंद्र में बीजेपी के सहयोगी हैं, ने बिहार में पूरे कैंपेन के दौरान नीतीश कुमार को निशाना बनाए रखा है, इसपर जेडीयू के प्रवक्ता केसी त्यागी ने कहा कि ‘बीजेपी को चिराग पासवान को शुरू से ही अलग-थलग करना चाहिए था, उनपर शुरू से नियंत्रण किया जाना चाहिए था,’ पार्टी का मानना है कि चिराग पासवान ने नीतीश के वोट बैंक में सेंध लगाई है.

दिलचस्प है कि बीजेपी के आलोचकों और नीतीश कुमार व उनके सहयोगियों का पूर्वानुमान था कि चिराग पासवान को बीजेपी ने ही बगावत करने को कहा था, या फिर कम से कम, उन्हें बीजेपी से इसकी अनुमति मिली थी, ताकि नीतीश का दायरा छोटा किया जा सके, ऐसा होने की स्थिति में पुराने सहयोगी के भविष्य का फैसला बीजेपी के हाथों में आ जाएगा.

ब्यूरो रिपोर्ट, दिल्ली

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here