शमशाद रज़ा अंसारी

थाना टीला मोड़ पुलिस ने एकतरफ़ा प्यार में युवती की हत्या करने वाले युवक को गिरफ़्तार कर लिया है। युवक की टिकटॉक पर बड़ी फैन फॉलोइंग है। युवक को संरक्षण देने के आरोप में युवक के भाई तथा बहनोई को भी गिरफ़्तार किया गया है। युवक के तीन साथी पहले ही पकड़े जा चुके हैं। प्यार एक ऐसा नशा है जो इंसान को पागल बना देता है। जब यह नशा सर चढ़ कर बोलता है तो इंसान जान देने और जान लेने को भी तैयार हो जाता है। प्यार में पागलपन या यूँ कहिए कि वहशीपन का नज़ारा थाना टीला मोड़ में देखने को मिला था।

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

दरअसल 17 जून को गाजियाबाद के टीला मोड़ थाना पुलिस को सूचना मिली कि एक युवक ने एक युवती की चाकू से गोदकर हत्या कर दी। जिसके बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने छानबीन की तो पता चला कि मामला एकतरफा प्रेम का है। दोनों के अलग अलग समुदाय के होने के कारण मामला संवेदनशील हो गया जिससे पुलिस के हाथ पाँव फूल गये। पुलिस तुरन्त आरोपियों की गिरफ्तारी में जुट गयी। जांच के दौरान पुलिस को पता चला कि हत्या करने वाला शख़्स शेरखान टिकटॉक स्टार है। पुलिस ने देखा कि शेर खान के टिक टॉक पर काफी अच्छी फैन फॉलोइंग हैं। इसके बाद पुलिस ने शेर खान को गिरफ्तार करने के प्रयास शुरू कर दिए, जानकारी के अनुसार बलदेव सिंह अपने पूरे परिवार के साथ टीला मोड़ थाना क्षेत्र के तुलसी निकेतन इलाके में रहते हैं।

हाल ही में उन्होंने अपनी 19 वर्षीय पुत्री नैना की शादी तय की थी। बलदेव सिंह के घर शेरखान नामक युवक का आना जाना था। नैना और शेरखान लंबे समय से एक-दूसरे को जानते थे। दोनों में काफी बातचीत होती रहती थी। उसी दौरान शेरखान पागलपन की हद तक नैना के प्यार में डूब गया । नैना इस बात से पूरी तरह अनभिज्ञ शेरखान से सामान्य होकर बातचीत करती रही। उसी बीच नैना के परिवार वालों ने नैना की शादी कहीं और तय कर दी। जब शेरखान को नैना की शादी कहीं और होने की बात पता चली तो नैना को खोने के डर से शेरखान परेशान हो गया। शेरखान लगातार नैना पर शादी का दबाव बनाने लगा। नैना और उसके परिवार वाले शेरखान को काफी समझाते रहे लेकिन वो नहीं माना। तमाम प्रयासों के बावज़ूद नैना की शादी न रुकने पर शेरखान पर पागलपन सवार हो गया।

जब यह पागलपन वहशीपन में तब्दील हो गया तो शेरखान ने साथियों के साथ मिलकर नैना की हत्या की योजना बनाई। योजनानुसार 17 जून की रात 8 बजे शेरखान नैना के घर पँहुचा और नैना से शादी करने की ज़िद करने लगा। जब नैना ने शादी करने से मना कर दिया तो उसके बाद शेरखान नैना पर हमलावर हो गया। उसने नैना को चाकू से गोद कर घायल कर दिया और मौके से फरार हो गया। नैना की माँ आसपास के लोगों से मदद की गुहार लगाती रही लेकिन शेरखान के वहशिपन को देख कर सब मूकदर्शक बने रहे। शेरखान के भाग जाने के बाद घटनास्थल पर मौजूद लोगों ने आनन-फानन में नैना को दिल्ली के जीटीबी अस्पताल में भर्ती करवाया। जहां डॉक्टरों ने नैना को मृत घोषित कर दिया। मामला दो समुदाय से जुड़ा होने के कारण मामले की गंभीरता को समझते हुए टीला मोड़ थाना पुलिस ने 24 घंटे के भीतर मामले में आईपीसी धारा 302 के तहत तीन आरोपियों सलमान, आशिक और आमिर को गिरफ्तार कर लिया। काफी खोजबीन के बाद जब शेरखान टीला मोड़ थाना पुलिस के हाथ नहीं लगा। तब एसएसपी कलानिधि नैथानी ने शेरखान पर 20 हजार रुपए का इनाम घोषित किया। साथ ही अभियुक्त की जल्द से जल्द गिरफ्तारी के लिए 2 टीमों का भी गठन किया।

पहली टीम का गठन सीओ सिटी फर्स्ट जबकि दूसरी टीम का गठन सीओ सिटी फोर्थ की अगुवाई में किया गया। वहीं दूसरी तरफ लगातार क्राइम ब्रांच भी शेरखान की तलाश में जुटी हुई थी। क्राइम ब्रांच लगातार शेरखान के जान-पहचान, यार-दोस्त और रिश्तेदारों के घर पर लगातार छापेमारी कर रही थी। उसी दौरान क्राइम ब्रांच को सूचना मिली कि शेरखान आज रात अपने घर F-1/62 शनि बाजार, मेन रोड, सुंदर नगरी दिल्ली से होते हुए अपने रिश्तेदार के घर छिपने जा रहा है। तत्काल प्रभाव से मिली सूचना के आधार पर क्राइम ब्रांच ने शेरखान को टीला मोड़ थाना क्षेत्र के अंतर्गत दबोच लिया। पुलिस ने शेर खान को छुपाने के आरोप में उसके भाई इमरान और बहनोई रिजवान को भी गिरफ़्तार कर लिया। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कलानिधि नैथानी ने बताया कि शेरखान को गिरफ्तार कर लिया गया है। शेरखान की गिरफ्तारी पर मेरे द्वारा 20 हजार रुपए का इनाम रखा गया था। जोकि अब शेरखान को गिरफ्तार करने वाली टीम को दिया जाएगा। एसएसपी ने सन्देश देते हुये कहा कि सोशल मीडिया की  इतनी न हो कि पागलपन बन कर आपको और आपके खानदान को बर्बाद कर दे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here