नई दिल्ली: भारत-चीन सीमा पर तनाव बढ़ गया है, गलवां घाटी में सोमवार रात को भारत और चीन की सेना में तनातनी ने उग्र रूप ले लिया और हिंसक झड़प में भारतीय सेना के एक अधिकारी और दो जवान शहीद हो गए, इस घटना में चीन की सेना को भी नुकसान हुआ है, इस घटना के बाद दोनों देशों के वरिष्ठ सैन्य अधिकारियों के बीच लद्दाख में हालात सामान्य करने के लिए मीटिंग चल रही है, पूर्वी लद्दाख में हुई घटना को लेकर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत, तीनों सर्विस चीफ और विदेश मंत्री डॉ, एस जयशंकर के साथ मीटिंग की है,

इंडियन आर्मी ने एक बयान में कहा कि गलवां घाटी में डी-एस्केलेशन की प्रक्रिया चल रही है, इसी बीच दोनों देशों की सेनाओं के बीच सोमवार रात को एक हिंसक झड़प हो गई, इसमें भारतीय सेना के एक अधिकारी और दो जवान शहीद हो गए, बता दें कि गलवां घाटी में पिछले 5 हफ्तों से काफी तनाव के हालात हैं, बड़ी संख्या में भारतीय और चीनी सेना आमने-सामने है, हाल ही में इंडियन आर्मी के चीफ जनरल एमएम नरवाने ने कहा था कि गलवां घाटी में दोनों ओर से सेना को कम किया जाना शुरू हो चुका है, ऐसे में अब यह घटना सामने आ गई है,

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

इस घटना को लेकर चीन ने भारतीय सेना पर बॉर्डर क्रॉस करने का आरोप लगाया है, चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने वहां के विदेश मंत्री के हवाले से कहा है कि सोमवार को भारतीय सेना अवैध रूप से दो बार बॉर्डर क्रॉस किया और चीन के सिपाहियों पर उकसाने वाला हमला किया, इसके फलस्वरूप गंभीर ​झड़प हुई, चीन ने भारत से बॉर्डर पर तैनात अपने सैनिकों को बॉर्डर क्रॉस करने या सीमा के हालात को जटिल बना सकने वाली किसी भी एकतरफा कार्रवाई से रोकने की अपील की है, ग्लोबल टाइम्स में चीन के विदेश मंत्री के हवाले से यह भी कहा गया है कि दोनों देश द्विपक्षीय मुद्दों को बातचीत से सुलझाने के लिए तैयार हैं ताकि बॉर्डर पर हालात सामान्य हो सकें और शांति बरकरार रह सके

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here