Urdu

Epaper Urdu

YouTube

Facebook

Twitter

Mobile App

Home भारत कोविड-19: जामिया नहीं लेगा ऑफलाइन एग्जाम, कोरोना के चलते लिया ये फैसला

कोविड-19: जामिया नहीं लेगा ऑफलाइन एग्जाम, कोरोना के चलते लिया ये फैसला

नई दिल्ली: जामिया मिल्लिया इस्लामिया की कुलपति प्रो नजमा अख़्तर की अध्यक्षता में विश्वविद्यालय की स्टैंडिंग एकेडमिक काउंसिल की हाल में एक बैठक हुई। इसमें कोविड-19 महामारी के मौजूदा कठिन माहौल में, जुलाई 2020 के महीने में टर्मिनल सेमेस्टर / वर्ष के लिए ऑफ़लाइन परीक्षा आयोजित करने की व्यवहार्यता से जुड़े सभी मुद्दों का गहराई से मूल्यांकन करके इस नतीजे पर पंहुचा गया कि अभी ऑफ़लाइन मोड में परीक्षा का संचालन व्यवहारिक नहीं है।

बैठक में यह राय बनी कि कोविड-19 मरीज़ों की संख्या में बढ़ोतरी की आशंका के चलते विश्वविद्यालय के छात्रों, (जो अलग-अलग राज्यों से हैं) के स्वास्थ्य से समझौता नहीं किया जा सकता । इसमें कहा गया कि चूंकि कोरोना वायरस महामारी को देखते हुए यूजीसी ने परीक्षाएं आदि कराने को लेकर, विश्वविद्यालयों से लचीला रूख अपनाने को कहा है, इसलिए जामिया मिल्लिया इस्लामिया ने जुलाई/अगस्त में दिल्ली में टर्मिनल क्लास के छात्रों के फेस टू फेस एक्ज़ाम/ओपन बुक एक्ज़ाम आदि नहीं कराने का फैसला किया है।

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

यह निर्णय भी किया गया कि शैक्षणिक सत्र 2019-2020 के लिए (एम.फिल/ पीएचडी कोर्सवर्क सहित) विश्वविद्यालय के छात्रों के सभी टर्मिनल/फाइनल सेमेस्टर , आनलाइन परीक्षाओं और मूल्यांकनों के आधार पर आंके जाएंगे। इंटरमीडिएट सेमेस्टर की तरह, अंतिम वर्ष के प्रैक्टिकल भी हर विभाग / केंद्र द्वारा आयोजित किए जाएंगे । यही नियम इंटरमीडिएट सेमेस्टर / वर्ष के छात्रों के वाइवा-वॉयस, साक्षात्कार पर भी लागू होंगे। जामिया के परीक्षा पोर्टल पर छात्रों के अंकों का अपलोड 20 जून 2020 को या उससे पहले पूरा किया जाएगा।

पर्यटन और आतिथ्य प्रबंधन विभाग के लंबित पाठ्यक्रम के लिए सभी पेपरों की पढ़ाई बिना अवकाश के उस समय तक जारी रह सकती है, जब तक कि पूरा पाठ्यक्रम संतोषजनक रूप से समाप्त नहीं हो जाता है यूजीसी के दिशानिर्देशों के अनुरूप, जामिया में आनलाइन परीक्षाएं/ असाइनमेंट के आधार पर इवन सेमेस्टर/ इअर-एंड परीक्षाएं आयोजित की जा रही हैं। 

बैठक में यह फैसला भी हुआ कि वॉकआउट / बहिष्कार के व्यवधान की वजह से जो छात्र, दिसंबर 2019 / फरवरी 2020 में आयोजित किए गए आॅड सेमेस्टर की परीक्षाओं में उपस्थित नहीं हो सके, उन्हें सितंबर / अक्टूबर 2020 में आयोजित एक विशेष परीक्षा में उपस्थित होने की अनुमति दी जाएगी । इसमें कम्पार्टमेंट वाले छात्र भी परीक्षाएं देंगे।

दंत चिकित्सा और वास्तुकला के छात्रों की परीक्षा, इंटर्नशिप, प्रोजेक्ट आदि का तरीका डेंटल काउंसिल ऑफ इंडिया और अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के अनुरूप होगा। इन संकायों के डीन इस बारे में परीक्षा नियंत्रक को सूचित करेंगे।

ये सारी जानकारी www.jmicoe.in पर उपलब्ध होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

WHO ने भी माना- ‘कोरोना का हो सकता है हवा से संक्रमण, मिले हैं सबूत’

नई दिल्ली:  कोरोना वायरस का खतरा दिन प्रतिदिन दुनिया में बढता जा रहा है अब इस वायरस से हवा के ज़रिये भी...

लोक-पत्र संभाग- क्या लोकतंत्र का लोक अपने लोक की समस्या पढ़ना चाहेगा?

रवीश कुमार  1. सर बैंक से कृषि लोन लिया था जिसमे मात्र 7 प्रतिशत का व्याज लिया जाता है...

कांग्रेस ने PM मोदी पर तंज कशते हुए पूछा- ‘सेना अपने ही इलाक़े से क्यों पीछे हट रही है?’

नई दिल्ली: भारत–चीन के बीच सीमा विवाद में कल लद्दाख में चीनी सेना के साथ-साथ भारतीय सेना भी पीछे हटी, इसी मुद्दे...

पंजाब: बेअदबी कांड में डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम मुख्य साजिशकर्ता, राजनीतिक दलों में हड़कंप

अमरीक गुरमीत राम रहीम सिंह का नाम अब नए विवाद में सामने आया है, श्री गुरु ग्रंथ साहिब बेअदबी...

हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे का राइट हैंड अमर दुबे एनकाउंटर में ढेर

नई दिल्ली: विकास दुबे का सहयोगी और 8 पुलिसकर्मियों की हत्या के मुख्य आरोपियों में से एक अमर दुबे पुलिस मुठभेड़ में...