Urdu

Epaper Urdu

YouTube

Facebook

Twitter

Mobile App

Home भारत लॉकडाउन: बोले दानिश अली- 'बाबा साहब ने संविधान के ज़रिए मज़दूर को...

लॉकडाउन: बोले दानिश अली- ‘बाबा साहब ने संविधान के ज़रिए मज़दूर को जो अधिकार दिए थे योगी सरकार उनको छीनने का काम कर रही है

कुंवर दानिश अली

जब देश का मज़दूर वर्ग कोरोना महामारी के कारण देश में चल रहे लॉकडाउन में दर बदर की ठोकरें खा रहा है ऐसे में उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा तीन साल तक के लिए श्रमिक क़ानूनों को स्थगित कर देना उनके हितों और अधिकारों पर सीधा हमला है। सरकार को ऐसे हालातों में संवेदनशीलता दिखानी चाहिए थी,मज़दूरों के ज़ख्मों पर मरहम लगाने की ज़रूरत थी। उत्तर प्रदेश सरकार को अपने इस तानाशाही फ़ैसले को तत्काल प्रभाव से वापिस लेना चाहिए। यूपी सरकार द्वारा श्रम क़ानूनों को ख़त्म करने से पूँजीवादी ताक़तें और मजबूत होंगी। सरकार ने हमेशा मज़दूरों के हितों को दरकिनार कर पूँजीपतियों का साथ दिया, जब लॉकडाउन में देश का मज़दूर वर्ग ज़िंदगी और मौत के बीच झूल रहा है ऐसे में श्रमिकों को ताक़त देने के बजाए यूपी सरकार ने उनके हितों पर कुठाराघात किया है।

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

मज़दूर देश निर्माण की नींव होते हैं सरकार ने देश की नींव को मज़बूत करने के बजाए कमज़ोर करने का काम किया है जो कि निंदनीय है। अभी देश कोरोना से लड़ रहा है और यह अंदाज़ा नहीं लगाया जा सकता कि यह संकट कब तक जारी रहेगा जिस से देश की आर्थिक स्थिति बिगड़ने की आशंका है । अगर हमने मज़दूरों के हितों की अनदेखी की तो हम देश में उद्योगधंधों को कैसे चलाएँगे और आर्थिक स्थिति को पटरी पर कैसे ला पाएँगे । बाबा साहब ने भी संविधान के ज़रिए मज़दूर वर्ग को जो अधिकार दिए थे सरकार उनको छीनने का काम कर रही है। ऐसे में मज़दूरों का सरकार से भरोसा उठेगा और संकट पैदा होगा।

भाजपा सरकारों द्वारा लाए गए ऐसे अध्यादेश से पूरी कमान मालिकों के हाथों में चली जाएगी मज़दूर अपने अधिकारों के लिए आवाज़ भी नहीं उठा सकते । ना बीमारी की शिकायत, ना बुरे व्यवहार की शिकायत ना सुविधाओं की शिकायत का अधिकार मज़दूरों के पास रह जाएगा। इस से साबित होता है कि भाजपा देश को पुनः वर्णवयस्था और अमीरों की दमनकारी नीतियों पर ले जाना चाहती है जो देशहित में नहीं। इस से मज़दूर वर्ग पर ज़ुल्म बढ़ेगा जिसका पहले से वो शिकार हैं ।सभी दलों को इसके विरोध में आवाज़ बुलंद करनी चाहिए।

काम के घंटों को 8 की जगह 12 करना ज़ालिमाना फ़ैसला है।मैं उत्तर प्रदेश सरकार के श्रमिक विरोधी इस फ़ैसले का विरोध करता हूँ और इसे तुरंत वापिस लेने की मांग करता हूँ । मेरी महामहिम राष्ट्रपतिजी से भी यह अपील हे कि मज़दूर विरोधी इस अद्धियादेश को अपनी मंज़ूरी नहीं दें और मज़दूरों के अधिकारों की रक्षा करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

अलीगढ़ : कीर्ति हॉस्पिटल का कारनामा, हॉस्पिटल में चूहों का आतंक, 1 दिन की नवजात शिशु को खा गए चूहे

अलीगढ़ (यूपी) :  अलीगढ़ के अतरौली थाना क्षेत्र के कीर्ति अस्पताल में लापरवाही का मामला, 22 तारीख को पैदा हुई बच्ची की...

मेरठ में शादी समारोह में कोरोना नियमों का उल्लंघन करने पर पहला मुकदमा दर्ज, दूल्हा-दुल्हन के पिता नामजद

मेरठ (यूपी) : शादी समारोह में कोरोना के नियमों का पालन नहीं करने पर मेरठ में पहला मुकदमा लालकुर्ती थाने में दर्ज...

पंचायत चुनाव में ताकत झोंकेगी BJP, बोले सुनील बंसल- ‘पदाधिकारी-कार्यकर्ताओं की पत्नियां नहीं लड़ सकेंगी चुनाव’

गोरखपुर (यूपी) : UP में पंचायत चुनाव से पहले BJP के प्रदेश संगठन सुनील बंसल ने क्षेत्र के नए पदाधिकारियों के परिचयात्मक...

लेख : लव-जिहाद के नाम पर BJP सरकारें जनता की तवज्जोह असल मुद्दों से हटाना चाहती हैं : कलीमुल हफ़ीज़

प्यार किया कोई चोरी नहीं की’, ‘प्यार किया नहीं जाता हो जाता है’, ‘प्यार किया तो डरना क्या’ ये और इस तरह...

पहलवान बजरंग के साथ शादी के बंधन में बंधेंगी रेसलर संगीता फोगाट

नई दिल्ली : महिला रेसलर संगीता फोगाट की शादी की रस्में शुरू हो गई हैं, संगीता फोगाट की शादी भारत के नंबर...