नई दिल्ली : कृषि बिल का विरोध जताने के लिये दिल्ली जा रहे किसानों को हरियाणा बॉर्डर पर रोक दिया गया है, इससे आक्रोशित किसान राजस्थान-हरियाणा बॉर्डर पर धरना देकर बैठ गए हैं.

वे हरियाणा सरकार के आदेशों की प्रतीक्षा कर रहे हैं, उसके बाद दिल्ली कैसे जाया जाए, इसकी प्लानिंग की जाएगी, किसानों ने उनको दिल्ली जाने से रोके जाने के बाद इसे उनकी आवाज दबाने की साजिश बताया है.

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

रामपाल जाट के नेतृत्व में दिल्ली कूच कर रहे थे, लेकिन शाहजहांपुर से आगे बॉर्डर पर किसानों को हरियाणा पुलिस ने रोक दिया, किसानों के हरियाणा में प्रवेश पर रोक लगाने के बाद वे आक्रोशित हो गये और वहीं धरने पर बैठ गये.

रामपाल जाट ने कहा है कि हरियाणा पुलिस के द्वारा उन्हें दिल्ली जाने से रोका जा रहा है, किसानों की आवाज को दबाने की कोशिश की जा रही है, इसे किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा, BJP सरकार मोदी सरकार के इशारे पर किसानों को रोक रही है.

रामपाल जाट ने कहा कि किसानों की मांगों को सरकार द्वारा पूरा नहीं किया जाने पर जबरन दिल्ली कूच किया जाएगा, वहीं हरियाणा पुलिस के उपनिरीक्षक कर्मवीर ने कहा कि राज्य सरकार के निर्देश पर राजस्थान के किसानों को बॉर्डर पर रोका गया है.

वहीं नीमराणा एसडीएम योगेश देवर ने कहा कि उन्हें कल किसानों के दिल्ली कूच की जानकारी मिल गई थी, उसके बाद तीन थानों के जाब्ता को तैनात कर दिया है और किसानों से बातचीत की जा रही है.

उल्लेखनीय है कि मंगलवार को ही प्रदेश के किसान संगठनों ने राजधानी जयपुर में प्रेसवार्ता कर राजस्थान में भी आंदोलन किये जाने का ऐलान किया था, इसके साथ ही अपने किसान भाइयों के समर्थन में दिल्ली जाने की घोषणा भी की थी.

राजस्थान के किसान गुरुवार को प्रदेशभर में दो घंटे का चक्का जाम करेंगे, किसानों ने उसके बाद जयपुर-दिल्ली हाईवे स्थायी रूप से जाम करने का भी ऐलान कर रखा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here