नई दिल्ली/एमपी : एमपी के राज्यपाल और बीजेपी के वरिष्ठ नेता रहे लालजी टंडन का निधन हो गया है, मंगलवार सुबह उनके बेटे आशुतोष ने इस बात की पुष्टि की, लालजी टंडन कई दिनों से बीमार थे, अस्पताल में भर्ती थे यही कारण था कि राज्यपाल का कार्यभार आनंदीबेन पटेल को सौंप दिया गया था, अब उनके निधन के बाद कई बड़े नेता श्रद्धांजलि दे रहे हैं, लालजी टंडन के निधन के बाद यूपी में तीन दिन का राजकीय शोक घोषित किया गया है.

पीएम मोदी ने लालजी टंडन के निधन पर दुख व्यक्त किया, पीएम ने ट्वीट कर लिखा कि लालजी टंडन को उनकी समाज सेवा के लिए याद किया जाएगा, उन्होंने बीजेपी को यूपी में मजबूत बनाने में अहम रोल निभाया, वह जनता की भलाई के लिए काम करने वाले नेता थे, पीएम ने लिखा कि लालजी टंडन को कानूनी मामलों की भी अच्छी जानकारी रही और अटलजी के साथ उन्होंने लंबा वक्त बिताया, मैं उनके प्रति श्रद्धांजलि व्यक्त करता हूं.

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

राजनाथ सिंह ने लालजी टंडन के निधन पर दुख व्यक्त किया, उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि एमपी के राज्यपाल एवं यूपी की एक कद्दावर शख़्सियत लालजी टंडन के निधन का समाचार बहुत पीड़ादायक है, टंडनजी के साथ मुझे लम्बे समय तक काम करने का अवसर मिला, उनका लम्बा सार्वजनिक जीवन जनता की सेवा में समर्पित रहा और उन्होंने अपने काम से एक अलग छाप छोड़ी है.

राजनाथ ने लिखा कि स्वभाव से बेहद मिलनसार टंडनजी कार्यकर्ताओं के बीच भी बेहद लोकप्रिय थे, विभिन्न पदों पर रहते हुए उन्होंने जो विकास कार्य कराये उसकी सराहना आज भी लखनऊ और उत्तर प्रदेश के लोग करते हैं, ईश्वर समस्त शोक संतप्त परिवार को दुःख की इस घड़ी में धैर्य और संबल प्रदान करे, ओम शान्ति!

सांसद स्मृति ईरानी ने ट्वीट कर लिखा, ‘लालजी टंडन के निधन की खबर सुनकर वह काफी दुखी हैं, वो महान थे, बाबूजी ने कई युवाओं को आगे बढ़ने में मदद की और विचारधारा सिखाई, उनके परिवार को सांत्वना, ओम शांति,’ सीएम योगी ने भी बयान जारी कर लालजी टंडन को श्रद्धांजलि दी,

आपको बता दें कि लालजी टंडन काफी लंबे वक्त से बीमार थे, उन्हें सांस लेने में परेशानी थी और किडनी में दिक्कत थी, यही कारण रहा कि पहले उन्हें 11 जून को अस्पताल में भर्ती कराया गया, फिर उनका ऑपरेशन भी किया गया, लखनऊ के मेदांता अस्पताल में लगातार बड़े डॉक्टर उनकी देखभाल में जुटे हुए थे, हालांकि उनकी हालात लगातार गंभीर बनी हुई थी, लालजी टंडन को पिछले साल जुलाई में ही एमपी का राज्यपाल बनाया गया था, लेकिन इसी साल पिछले महीने तबीयत खराब होने के कारण आनंदीबेन पटेल को अतिरिक्त कार्यभार दे दिया गया.

रिपोर्ट सोर्स, पीटीआई

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here