नई दिल्ली : महाराष्‍ट्र के यवतमाल में अफसरों की लापरवाही का बड़ा मामला सामने आया है, यहां के एक गांव में 12 बच्चों को पोलियो वैक्‍सीन की बूंदों की जगह दो-दो बूंदें सैनेटाइजर के ड्रॉप पिला दिए गए.

इसके बाद सभी 12 छोटे बच्‍चों की तबीयत बिगड़ने लगी, बच्‍चों को उलटियां होने लगीं, इसके बाद उन्‍हें सरकारी अस्‍पताल में भर्ती कराया गया है, मामला सामने आने के बाद जिलाधिकारी ने पूरे मामले के जांच के आदेश दिए हैं.

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

जिले के एक अधिकारी ने कहा कि प्रभावित बच्चों को एक सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां उनकी हालत स्थिर है, सभी बच्चों की उम्र पांच साल से कम थी.

तीन स्वास्थ्यकर्मियों के खिलाफ इस चूक के लिए कार्रवाई की जाएगी, अधिकारी ने बताया कि यह घटना कापसिकोपरी गांव में भानबोरा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर हुई जहां एक से पांच साल के बच्चों के लिए राष्ट्रीय पल्स पोलियो टीकाकरण कार्यक्रम चलाया जा रहा है.

यवतमाल जिला परिषद के सीईओ श्रीकृष्ण पंचाल ने बताया कि पांच साल से कम उम्र के 12 बच्चों को पोलियो की बूंदों के स्थान पर सैनेटाइजर की दो बूंदें दी गयीं, बच्चों ने उल्टी और बेचैनी की शिकायत की.

उन्होंने बताया कि जिन बच्चों को सैनेटाइजर की बूंदे दी गयी थीं उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है, सभी बच्चों की हालत स्थिर है और उन पर निगरानी रखी जा रही है.

उन्होंने कहा कि आरंभिक सूचना के मुताबिक घटना के समय प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर एक डॉक्टर, एक आंगनवाड़ी सेविका और एक आशा कार्यकर्ता मौजूद थीं, जांच शुरू की गयी है और तीनों स्वास्थ्यकर्मियों को निलंबित किया जाएगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here