नई दिल्ली : उच्चतम न्यायालय ने कुरान की 26 आयतों को हटाने संबंधी याचिका सोमवार को खारिज कर दी। न्यायमूर्ति रोहिंगटन फली नरीमन की अध्यक्षता वाली खंडपीठ ने उत्तर प्रदेश शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिजवी की याचिका खारिज करते हुए उन पर 50 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया। न्यायमूर्ति नरीमन ने कहा, “यह पूरी तरह से अगम्भीर रिट याचिका है।”

जब मामले की सुनवाई के दौरान न्यायमूर्ति नरीमन ने पूछा कि क्या याचिकाकर्ता याचिका के बारे में गम्भीर हैं। उन्होंने कहा, “क्या आप याचिका की सुनवाई के लिए जोर दे रहे हैं? क्या आप वाकई गम्भीर हैं?”

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

रिज़वी की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता आर के रायजादा ने जवाब दिया कि वह अपनी अर्जी मदरसा शिक्षा के नियमन तक सीमित कर रहे हैं। उसके बाद उन्होंने अपने मुवक्किल का पक्ष रखा, जिससे खंडपीठ संतुष्ट नजर नहीं आयी और उसने याचिका को 50 हजार रुपये के जुर्माने के साथ खारिज कर दिया।

दरअसल, रिजवी की याचिका में कहा गया था कि इन आयतों में इंसानियत के मूल सिद्धांतों की अवहेलना है और ये धर्म के नाम पर नफरत, घृणा, हत्या, खून खराबा फैलाने वाला हैं, इसके साथ ही ये आयतें आतंक को बढ़ावा देने वाला है।

रिजवी का कहना था कि मदरसों में बच्चों को कुरान की इन आयतों को पढ़ाया जा रहा है, जिससे उनका ज़हन कट्टरपंथ की ओर बढ़ रहा है, याचिका में कहा गया था कि कुरान की इन 26 आयतों में हिंसा की शिक्षा दी गई है और कोई भी ऐसी तालीम जो आतंकवाद को बढ़ावा देती है, उसे रोका जाना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here