Urdu

Epaper Urdu

YouTube

Facebook

Twitter

Mobile App

Home भारत चीन पर PM मोदी की सर्वदलीय बैठक में सोनिया गांधी आक्रामक, बाक़ी...

चीन पर PM मोदी की सर्वदलीय बैठक में सोनिया गांधी आक्रामक, बाक़ी विपक्षी नेता रहे नरम

नई दिल्ली: लद्दाख में चीनी सेना की घुसपैठ के मामले में पीएम की सर्वदलीय बैठक में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी जहाँ आक्रामक रहीं वहीं बाक़ी विपक्षी नेताओं का रूख नरम दिखा, सोनिया ने सरकार से तीखे सवाल किए हैं और कहा कि देश को भरोसा दिलाएँ कि लद्दाख क्षेत्र में पहले की स्थिति बहाल होगी और चीन पीछे हटेगा, इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि इस संकट के मामले में पारदर्शिता आनी चाहिए, उन्होंने आधिकारिक बयान जारी कर सरकार के सामने कई सवाल दागे, दूसरे दलों के नेताओं ने भी अपनी चिंताएँ जताईं, लेकिन उनका रूख नरम बना रहा, हालाँकि सभी नेताओं ने कहा कि इस मामले में वे सरकार के साथ हैं, बैठक में सोनिया गाँधी, ममता, उद्धव समेत कई दलों के नेताओं ने भाग लिया, सोनिया गाँधी ने बैठक के दौरान कहा कि पीएम को यह सर्वदलीय बैठक और पहले जब लद्दाख के कई क्षेत्रों में पाँच मई को चीन की घुसपैठ हो गई थी, तभी बुलानी चाहिए थी,

सोनिया गाँधी ने सर्वदलीय बैठक के दौरान केंद्र सरकार से पूछा, ‘क्या सैन्य इंटेलिजेंस ने सरकार को एलएसी पर घुसपैठ और बड़े पैमाने पर बलों की तैनाती के बारे में सचेत नहीं किया, चाहे वह चीनी क्षेत्र में हो या भारतीय क्षेत्र में? सरकार के विचार में क्या इंटेलिजेंस की विफलता थी?’ कांग्रेस प्रमुख ने पूछा- “हमारे पास सरकार के लिए कुछ विशिष्ट सवाल हैं: चीनी सैनिकों ने किस तारीख़ को लद्दाख क्षेत्र में घुसपैठ की? सरकार को हमारे क्षेत्र में चीनी अतिक्रमण के बारे में कब पता चला? क्या यह 5 मई को था जैसा कि रिपोर्ट की गयी है, या इससे पहले? क्या सरकार को नियमित रूप से, हमारे देश की सीमाओं के उपग्रह चित्र प्राप्त नहीं होते हैं?’

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

सोनिया गाँधी ने कांग्रेस के समर्थन का आश्वासन देते हुए कहा, ‘सवाल यह है कि आगे क्या है? आगे का रास्ता क्या है? पूरा देश एक आश्वासन चाहेगा कि यथास्थिति बहाल की जाएगी और चीन वास्तविक नियंत्रण रेखा पर मूल स्थिति में वापस आ जाएगा, सोनिया ने जोर देकर कहा कि ‘मूल्यवान समय 5 मई और 6 जून के बीच बर्बाद कर दिया गया,’ सोनिया ने कहा कि किसी भी ख़तरे से निपटने के लिए सुरक्षा बलों की तैयारियों के बारे में भी जानकारी दी जानी चाहिए,

इसके साथ ही एनसीपी प्रमुख और पूर्व रक्षा मंत्री शरद पवार ने कहा कि सैनिकों ने हथियार उठाए या नहीं इसका फ़ैसला अंतरराष्ट्रीय समझौतों से होता है और हमें ऐसे संवेदनशील मामलों का सम्मान करने की ज़रूरत है, अकाली दल के सुखबीर सिंह बादल ने कहा- ‘स्थिति से निपटने के लिए सवाल उठाने का सही समय नहीं है, भारत पीएम के साथ है, आइए, चीन को यह संदेश दें कि हम पीएम के साथ हैं,’ जदयू प्रमुख और बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने कहा- ‘चीन के ख़िलाफ़ देशव्यापी ग़ुस्सा है, हमारे बीच कोई मतभेद नहीं होना चाहिए, हम साथ हैं,’

समाजवादी पार्टी के रामगोपाल यादव ने कहा कि ‘राष्ट्र एक है, पाकिस्तान और चीन की ‘नीयत’ अच्छी नहीं है, भारत चीन का डंपिंग ग्राउंड नहीं होगा चीनी सामानों पर 300% शुल्क लगाएँ,’ टीवी रिपोर्ट के मुताबिक़, पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने कहा- देश की अखंडता के लिए हम सरकार के साथ हैं, इसके अलावा ममता बनर्जी ने चीन के मामले पर केंद्र सरकार से पारदर्शिता की माँग की,

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा, ‘हम सब एक हैं, यही हमारी भावना है, प्रधानमंत्री जी हम आपके साथ हैं, हम अपनी सेना और उनके परिवारों के साथ हैं,’ बीजू जनता दल के पिनाकी मिश्रा बोले- ‘हम पूरी तरह से और बिना शर्त सरकार के साथ खड़े हैं,’

सिक्किम क्रांतिकारी मोर्चा के प्रमुख और सिक्किम के मुख्यमंत्री प्रेम सिंह तमांग ने बैठक के दौरान कहा, ‘हमें प्रधानमंत्री पर पूरा भरोसा है, इससे पहले भी जब राष्ट्रीय सुरक्षा की बात आई है तो प्रधानमंत्री ने ऐतिहासिक फ़ैसले लिए हैं,’

लद्दाख में चीनी सेना की घुसपैठ और गलवान घाटी में भारतीय और चीनी सेना के हिंसक झड़प में 20 जवानों के शहीद होने के मामले में हुई इस सर्वदलीय बैठक में भाग लेने वाले दलों के अध्यक्षों को आमंत्रित करने के लिए गुरुवार को ही रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने फ़ोन किया था, हालाँकि अरविंद केजरीवाली की पार्टी आम आदमी पार्टी और लालू यादव की पार्टी आरजेडी को आमंत्रित नहीं किया गया,

चीन पर सर्वदलीय बैठक की घोषणा तब हुई जब सीमा विवाद बढ़ता जा रहा है और चीनी सेना की कार्रवाई का जवाब देने के लिए दबाव बढ़ता जा रहा है, प्रधानमंत्री पर भी इसका दबाव बढ़ता जा रहा है कि वह कुछ ठोस क़दम उठाएँ, इन्हीं दबावों के बीच ही प्रधानमंत्री कार्यालय ने दो दिन पहले सर्वदलीय बैठक की जानकारी दी थी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

जानिए ग़ाज़ियाबाद महापौर आशा शर्मा ने कहाँ किया निर्माण कार्य का उद्घाटन

शमशाद रज़ा अंसारी गुरुवार को पार्षद विनोद कसाना के वार्ड 20 में तुलसी निकेतन पुलिस चौकी से अंत तक...

जानिए क्या रहेगा ग़ाज़ियाबाद में दुकानों के खुलने और बन्द होने का समय

शमशाद रज़ा अंसारी जनपद में कोरोना के बढ़ते मरीजों की संख्या को देखते हुये प्रशासन ने सख़्ती शुरू कर...

ग़ाज़ियाबाद: प्रियंका से घबरा गयी है मोदी और योगी सरकार: डॉली शर्मा

शमशाद रज़ा अंसारी सरकार ने कांग्रेस नेता प्रियंका गाँधी वाड्रा से दिल्ली में सरकारी बँगले को खाली करने को...

निजी विद्यालय का रवीश कुमार के नाम ख़त

प्राइवेट स्कूलों और कॉलेजों के शिक्षक परेशान हैं। उनकी सैलरी बंद हो गई। हमने तो अपनी बातों में स्कूलों को भी समझा...

पासवान कहते हैं 2.13 करोड़ प्रवासी मज़दूरों को अनाज दिया, बीजेपी कहती है 8 करोड़- रवीश कुमार

रवीश कुमार  16 मई को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन ने कहा था कि सभी राज्यों ने जो मोटा-मोटी आंकड़े...