नई दिल्ली : नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती को 125 साल पूरे हो गए, मोदी सरकार उनके जन्मदिन को ‘पराक्रम दिवस’ के तौर पर मना रही है.

अमित शाह ने कहा कि देश के बच्चों को उनसे प्रेरण लेने की जरूत है, शाह ने कहा कि बच्चे और नौजवान उनसे सीख लेकर देश को आत्मनिर्भर बनाने की कोशिश करे, उन्होंने ये भी कहा कि नेताजी जन्म से ही देशभक्त थे.

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

अमित शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी जी ने निर्णय किया है कि नेताजी के जन्म के सवा सौ साल को देश भर में उत्साह और उमंग के साथ मनाया जाएगा.

उनके जन्मदिन को इस तरह मनाया जाएगा कि सुभाष बाबू के देश की आजादी में योगदान को आने वाली पढ़ियां लंबे समय तक याद रखेगी, सुभाष बाबू एक ओजस्वी विद्यार्थी, जन्मजात देशभक्त, कुशल प्रशासक और सबसे संघर्षील नेता थे.

अमित शाह कहा कि आज ये राष्ट्र उनके प्रति कृतज्ञता व्यक्त करता है, मैं भी मन से और बड़े ह्रदय से उन्हें श्रद्धांजली देता हूं.

मोदी जी ने जो फैसला किया है सुभाष बाबू के जन्म दिन के सवा सौ साल मनाने का हम सब उसके भागीदार बने, और खास कर बच्चों और युवा पीढ़ी को उनके जीवन के बारे में बताएं, बच्चे उनसे सीख लेकर भारत को आत्मनिर्भर बना सकते हैं.

अमित शाह ने कहा कि नेताजी सुभाष चन्द्र बोस के साहस और पराक्रम ने भारतीय स्वतंत्रता संग्राम को नई शक्ति प्रदान की.

उन्होंने विपरीत परिस्थितियों में अपने करिश्माई नेतृत्व से देश की युवाशक्ति को संगठित किया, स्वतंत्रता आन्दोलन के ऐसे महानायक की 125वीं जयंती पर उन्हें कोटि-कोटि नमन.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here