लखनऊ (यूपी) : समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा है कि भाजपा अपने राजनीतिक विरोधियों को फर्जी मुकदमें लगाकर प्रताडि़त और बदनाम करना चाहती है। साजिशन मुकदमें दर्ज किए जा रहे है।

प्रदेश के अलावा शायद ही किसी राज्य में नेताओं पर तमाम मुकदमें दर्ज हुए है। लोकतंत्र के पक्ष में आवाज उठाने वालों को यह तानाशाही तरीके से रोकना चाहती है। किसान आंदोलन का विरोध करने वाले किस श्रेणी में आयेंगे, ये राष्ट्र विरोधी है अथवा नहीं?

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

अखिलेश यादव ने आज पार्टी मुख्यालय, लखनऊ में पत्रकारवार्ता को सम्बोधित करते हुए कहा कि किसान आंदोलन के दौरान समाजवादी पार्टी कार्यकर्ताओं पर 10 हजार से ज्यादा मुकदमें दर्ज हुए हैं।

4 साल से झूठे मुकदमें लगाकर लोगों को अपमानित करने का काम जारी है। मंहगाई के खिलाफ बोलने पर गम्भीर धाराओं में मुकदमें लगा दिए जाते हैं।

यादव ने कहा भाजपा साजिशन जौहर विश्वविद्यालय को बंद कराना चाहती है। मोहम्मद आजम खां प्रदेश में काबीना मंत्री रहे है, रामपुर से सांसद है, उनकी पत्नी राज्यसभा सदस्य रही अब विधायक हैं, उनके अलावा उनके बेटे मोहम्मद अब्दुल्ला पर भी तमाम मुकदमें लगाए गए है।

ये सारे मुदकमें राजनीतिक किस्म के हैं, साजिश के तहत है। इस सम्बंध में महामहिम राज्यपाल महोदया को ज्ञापन दिया गया है। उम्मीद है कि वे इस सम्बंध में कुछ काम करेंगी।

अखिलेश यादव ने कहा कि नौजवानों के पास काम नहीं है। सरकार दावा करती है कि प्रतिव्यक्ति आय वृद्धि हुई है। दुःखद है कि मुख्यमंत्री जी भाजपा के संकल्प पत्र को गीता की तरह पवित्र मानते हैं।

इस भाजपा सरकार ने 4 वर्षों में कुछ किया नहीं, समाजवादी सरकार के कामों को ही अपना बता रहे हैं। उस समय जो प्रोजेक्ट बने थे उन पर शिलान्यास के अपने पत्थर लगाए जा रहे हैं।

यादव ने कहा कि यूपी की सरकार बताये कितने वादे उसने पूरे किए। जिस लोकभवन में बैठते हैं उसमें बैठकर झूठ नहीं बोलना चाहिए। इस सरकार में सबसे ज्यादा एनकाउण्टर हुए हैं।

लोगों को चिह्नित करके मारा गया है, जेल में हत्याएं हुई हैं। मुख्यमंत्री जी कहते है कि ठोको तो पुलिस क्या करें? पंचायत चुनाव से सरकार भाग रही है।

यादव ने कहा कि कई सांसद देने के बावजूद उत्तर प्रदेश के लोगों से धोखा हो रहा है। डीजल-पेट्रोल का मुनाफा कहां जा रहा है? कर्मचारियों के वेतन में कटौती हुई। प्रतिव्यक्ति आय दुगनी कहां हुई? किसानों को फसलों की एमएसपी नहीं मिली, महंगाई से कृषि लागत जरूर बढ़ गई।

सरकार बड़े-बड़े विज्ञापन देकर झूठे दावे कर रही है। उत्तर प्रदेश में जो भी इन्फ्रास्ट्रक्चर के काम हुए है वह चाहे एक्सप्रेस-वे, मेट्रो, बिजली के कारखाने या अस्पताल हो, शिक्षा के लिए विश्वविद्यालय हों या सिंचाई सभी समाजवादी सरकार के समय के काम हैं।

अखिलेश यादव ने कहा भाजपा सरकार ने उत्तर प्रदेश को बीमारू प्रदेश बना दिया है। भाजपा का कोई विजन नहीं, भाजपा के पास सिर्फ टेलीविजन है। जनता को भरोसा है कि जब 2022 में समाजवादी सरकार आयेगी तभी यूपी आगे बढ़ेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here