नई दिल्ली : मुंबई पुलिस ने TRP घोटाले मामले में अदालत में आरोप-पत्र दाखिल किया, पुलिस की CIU TRP घोटाले की जांच कर रही है.

इस सिलसिले में उसने मजिस्ट्रेट अदालत में आरोप-पत्र दाखिल किया है, अपराध शाखा अब तक इस मामले में रिपब्लिक टीवी के डिस्ट्रिब्यूशन हेड समेत 12 लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है.

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

फर्जी TRP घोटाला पिछले महीने तब सामने आया था जब रेटिंग एजेंसी (बार्क ने ‘हंसा रिसर्च ग्रुप’ के जरिए एक शिकायत दर्ज करवाई थी जिसमें आरोप लगाया गया था कि कुछ टेलीविजन चैनल टीआरपी के आंकड़ों में हेरफेर कर रहे हैं.

‘व्यूअरशिप डेटा’ (कितने दर्शक कौन सा चैनल देख रहे हैं और कितने समय तक देख रहे हैं) दर्ज करने के लिए मशीन लगाने की जिम्मेदारी हंसा को दी गई थी.

बता दें कि दो दिन पहले कथित फर्जी TRP घोटाले के संबंध में ईडी ने भी का एक मामला दर्ज किया है.

जिसकी मुंबई पुलिस जांच कर रही है, आधिकारिक सूत्रों ने पिछले हफ्ते बताया था कि केन्द्रीय जांच एजेंसी ने प्रवर्तन मामला सूचना रिपोर्ट दाखिल की है, जो पुलिस प्राथमिकी के समान है.

ईडी ने अक्टूबर में दाखिल की गई मुंबई पुलिस की प्राथमिकी का अध्ययन करने के बाद यह मामला दर्ज किया है, जिसमें रिपब्लिक टीवी चैनल, दो मराठी चैनलों और कुछ अन्य लोगों को नामजद किया गया था.

रिपब्लिक टीवी और अन्य आरोपी टीआरपी से छेड़छाड़ के आरोपों को खारिज करते रहे हैं, सूत्रों ने कहा कि मुंबई पुलिस ने इस मामले में प्राथमिकी में नामजद जिन समाचार चैनलों के अधिकारियों तथा अन्य लोगों और हंसा रिसर्च एजेंसी के दो पूर्व कर्मचारियों को गिरफ्तार किया था.

प्रवर्तन निदेशालय जल्द ही उन्हें तलब करके उनसे पूछताछ करेगा और उनके बयान दर्ज किये जाएंगे, उन्होंने कहा कि ईडी इस बात की जांच करेगी कि फर्जी टीआरपी घोटाला हुआ था.

नहीं और क्या इससे मिले धन का इस्तेमाल अवैध कोष बनाने और गैर-कानूनी तरीके से संपत्तियां अर्जित करने में तो नहीं किया गया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here