कोरोना वायरस की लगातार बढ़ते संक्रमण के कारण अब शैक्षणिक कार्य तथा शैक्षिक सत्र भी प्रभावित हो रहा है । प्रदेश सरकार इसको पटरी पर लाने के प्रयास में नित नए-नए जतन कर रही है। उत्तर प्रदेश के विश्वविद्यालय तथा डिग्री कॉलेजों में स्नातक प्रथम वर्ष व द्वितीय वर्ष के छात्र -छात्राएं अगली कक्षा में प्रोन्नत होंगे । प्रदेश के डिप्टी सीएम तथा उच्च शिक्षा मंत्री डॉ . दिनेश शर्मा ने मीडिया को बताया । कि स्नातक में प्रथम व द्वितीय वर्ष और परास्नातक प्रथम वर्ष के सभी छात्र- छात्राओं को आंतरिक मूल्यांकन व पिछली कक्षा में मिले अंकों के आधार पर प्रोन्नत किया जाएगा।

वहीं स्नातक तृतीय वर्ष और परास्नातक द्वितीय वर्ष के परीक्षार्थियों की परीक्षाएं होंगी। परीक्षाएं ऑनलाइन या ऑफलाइन दोनों मोड में होंगी। परीक्षा का समय कम होगा । और बहुविकल्पीय प्रश्न भी पूछें जा सकेंगे। इसके लिए प्रदेश के विश्वविद्यालय 23 जुलाई तथा अंतिम वर्ष के छात्रों की परीक्षा का कार्यक्रम तैयार कर उच्च शिक्षा विभाग को सौंपेंगे। इसके साथ ही 30 सितंबर तक अंतिम वर्ष और अंतिम सेमेस्टर की परीक्षा ऑफलाइन क्या हुआ ऑनलाइन कराने का भी निर्देश दिया गया है । इसके बाद 15 अक्टूबर तक स्नातक अंतिम वर्ष और 31 अक्टूबर तक परास्नातक अंतिम वर्ष का परिणाम घोषित करने का भी निर्देश दिया गया है।

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here