Urdu

Epaper Urdu

YouTube

Facebook

Twitter

Mobile App

Home भारत UP: अयोध्या में मस्जिद निर्माण के लिए सुन्नी वक्फ बोर्ड ने किया...

UP: अयोध्या में मस्जिद निर्माण के लिए सुन्नी वक्फ बोर्ड ने किया ट्रस्ट का गठन, ट्रस्‍ट में होंगे 15 सदस्‍य

नई दिल्ली : अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए भूमिपूजन की जोरदार तैयारियों के बीच उत्तर प्रदेश सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड ने भी ताल ठोक दी है, बोर्ड की ओर से बुधवार को जारी प्रेस रिलीज में कहा गया है कि अयोध्या में मसजिद के निर्माण के लिए 15 सदस्यों वाले ट्रस्ट का गठन किया गया है, ट्रस्ट का नाम ‘इंडो इसलामिक कल्चरल फ़ाउंडेशन’ रखा गया है, ग़ौरतलब है कि अयोध्या विवाद मामले में सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश सरकार को मुसलिम पक्ष को 5 एकड़ ज़मीन देने का आदेश दिया था, उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा अयोध्या के धन्नीपुर गांव में यह ज़मीन दी गई है और बोर्ड की ओर से इसे फ़रवरी, 2020 में स्वीकार कर लिया गया था.

बोर्ड ने प्रेस रिलीज में कहा है कि सुन्नी सेंट्रल वक्फ़ बोर्ड इस ट्रस्ट का फ़ाउंडिंग ट्रस्टी होगा, ज़ुफ़र अहमद फ़ारूख़ी को ट्रस्ट का अध्यक्ष बनाया गया है, फ़ारूख़ी बोर्ड के भी अध्यक्ष हैं, बताया गया है कि कोरोना वायरस का संकट ख़त्म होने के बाद ट्रस्ट की ओर से मसजिद के निर्माण का काम शुरू किया जाएगा, मसजिद के साथ-साथ इस 5 एकड़ के दायरे में चैरिटेबल अस्पताल, म्यूजियम, लाइब्रेरी, पब्लिशिंग हाउस बनाया जाएगा व मेडिकल सुविधाएं भी उपलब्ध कराई जाएंगी.

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

पिछले साल 9 नवंबर को दिए अपने फ़ैसले में सुप्रीम कोर्ट ने विवादित स्थल रामलला को देने का आदेश दिया था, सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को आदेश दिया था कि वह मंदिर निर्माण के लिए 3 महीने के भीतर ट्रस्ट बनाए, इसके बाद केंद्र सरकार की ओर से फ़रवरी, 2020 में श्री रामजन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र ट्र्स्ट का गठन किया गया था.

पांच एकड़ ज़मीन को लेकर मुसलिम संगठनों में सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले के बाद मतभेद के स्वर सुनाई दिए थे, ऑल इंडिया मुसलिम पर्सनल लॉ बोर्ड (एआईएमपीएलबी) ने कहा था कि उसे मसजिद के बदले में दूसरी जगह पर दी जाने वाली पांच एकड़ ज़मीन मंजूर नहीं है, बोर्ड ने कहा था कि उसने हक़ की लड़ाई लड़ने के लिए अदालत का दरवाजा खटखटाया था न कि दूसरी जगह ज़मीन पाने के लिए, लेकिन बाद में यह आमराय बन गई थी कि बोर्ड अब सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले पर किसी तरह का विवाद नहीं चाहता है और ज़मीन को स्वीकार कर लेगा.

उधर, बीते कुछ दिनों से समाचार चैनलों और अखबारों में यह बात प्रचारित की जा रही थी कि राम मंदिर की नींव डालते समय यहां स्टील का एक टाइम कैप्सूल काफी गहरे तक दबाया जाएगा, इस टाइम कैप्सूल में राम मंदिर के इतिहास, आंदोलन, प्रमुख घटनाओं की जानकारी मौजूद रहेगी, लेकिन मीडिया रिपोर्टों का खंडन करते हुए राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के पदाधिकारी चंपत राय ने इसे कोरी अफ़वाह बताया है, उन्होंने कहा कि टाइम कैप्सूल दबाए जाने की न तो पहले कभी योजना थी और न अब है, चंपत राय ने कहा कि इस तरह की सभी बातें फर्जी हैं.

रिपोर्ट सोर्स, पीटीआई

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

6 साल की मासूम बच्ची के साथ हुए दुष्कर्म को लेकर कांग्रेस का धरना प्रदर्शन, दोषियों को जल्द नहीं पकड़ा तो दोबारा आंदोलन करेंगे...

नई दिल्ली : सोमवार को राष्ट्रीय महासचिव व उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी की प्रभारी श्रीमती प्रियंका गांधी और उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी...

आँडियो रिकाॅर्डिंग से साफ है, महिला पार्षद के जेठ निशांत पांडे ने अलग-अलग मामलों में बिल्डर समेत तीन लोगों से लाखों रुपये लिए :...

नई दिल्ली : आम आदमी पार्टी ने भाजपा शासित एमसीडी में चल रहे भ्रष्टाचार का बड़ा खुलासा किया है। पार्टी के वरिष्ठ...

लेख : “तहजीब मर जाने की कहानी है अयोध्या” : विवेक कुमार

कहते हैं अयोध्या में राम जन्मे. वहीं खेले कूदे बड़े हुए. बनवास भेजे गए. लौट कर आए तो वहां राज भी किया....

सऊदी अरब से लेबनान के लिए रवाना हुए सहायता विमान, बेरुत हादसे के बाद भेजी मानवीय सहायता

सऊदी अरब (नई दिल्ली) :  सऊदी अरब ने लेबनान की राजधानी बेरुत में हुए धमाके को दुःखद बताते हुए लेबनान की मदद...

लखनऊ : अखिलेश यादव ने क्रान्ति दिवस पर विशेष रूप से अपना डिजिटल पत्र जारी किया, कहा- गांधी जी ने इस मौके पर करो...

लखनऊ (यूपी) :  समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने आज जनता के नाम ‘अगस्त क्रांति की समाजवादी...