Urdu

Epaper Urdu

YouTube

Facebook

Twitter

Mobile App

Home भारत प्राइवेट कंपनियां कृषि क्षेत्र में उतरेंगी तो वैल्यू एडिशन होगा : एमजे...

प्राइवेट कंपनियां कृषि क्षेत्र में उतरेंगी तो वैल्यू एडिशन होगा : एमजे खान

नई दिल्ली : कृषि क्षेत्र में सरकार द्वारा लाये गए तीन अध्यादेशों को विपक्ष और तमाम किसान संगठनों के विरोध के बावजूद भी सोमवार को लोकसभा में पेश किया गया जहां इसे मंजूरी भी मिल गई है। लोकसभा में अपना पक्ष रखते हुए केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि इस बिल में किसान विरोधी कुछ भी नहीं है। सरकार की मंशा बिल्कुल स्पष्ट है लेकिन, दूसरी तरफ किसान परेशान हैं। उन्हें लगता है कि इन अध्यादेशों के कानून बन जाने के बाद कृषि क्षेत्र में भी कॉर्पोरेट का बोल बाला होगा और सरकार अपने हाथ खींच लेगी।

एमजे खान ने कहा कि कृषि क्षेत्र के लिये ये बिल सकारात्मक हैं लेकिन आज किसानों के मन में आशंका इसलिये है क्योंकि उन्हें पहले विश्वास में नहीं लिया गया। सरकार ने अध्यादेश लाने से पहले किसान संगठनों से इस पर चर्चा करने की बजाय उद्योग और व्यापार से जुड़े संगठनों से चर्चा की और जल्दबाजी में अध्यादेश ले आई।

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

अब किसान सोच रहे हैं कि इनके दूरगामी परिणाम कहीं उद्योग जगत को फायदा पहुंचाने वाले तो नहीं होंगे। हालांकि तकनीकी रूप से ऐसी कोई बात नहीं है, जो किसानों के खिलाफ जाती हो। सरकार और किसान संगठनों के बीच इस पर कोई चर्चा या संवाद नहीं हुआ और इसलिये ये आशंकाएं पैदा हो रही हैं और इन्हीं कारणों से इसका विरोध भी हो रहा है।

एमजे खान ने आगे कहा कि निजी तौर पर वह मानते हैं कि किसानों और कॉर्पोरेट के बीच में कोई झगड़ा नहीं है। अगर प्राइवेट कंपनियां कृषि क्षेत्र में उतरेंगी तो वैल्यू एडिशन होगा। इंफ्रास्ट्रक्चर बेहतर होगा और प्रसंस्करण से ले कर खरीद तक में कई विकल्प उपलब्ध होंगे। हालांकि दुनिया में तमाम ऐसे उदाहरण भी मौजूद हैं जहां लोग इसका गलत फायदा भी उठाते हैं लेकिन यदि किसानों को इसके प्रति जागरुक कर उनके बीच विश्वास बनाया जाए तो बेहतर होगा। क्योंकि बहरहाल किसान इनमें खामियां ही देख रहे हैं।

आज किसानों को लग रहा है कि इन अध्यादेशों के कानून बनने के बाद जब सरकार अपना हस्तक्षेप कम कर देगी तो एमएसपी भी खत्म हो जाएगी और सब्सिडी भी धीरे धीरे बन्द हो जाएगी। इसलिये किसानों को ये समझाना जरूरी है कि इन कानूनों के साथ-साथ सरकार ने क्या अंकुश प्राइवेट क्षेत्र पर रखने का प्रावधान किया है और किसानों को क्या सुरक्षा मिलेगी। आम तौर पर जहां सरकार का हस्तक्षेप खत्म होता है वहां प्राइवेट कंपनियां ज्यादा से ज्यादा मुनाफा कमाने पर जोर देती हैं इसलिये आशंकाएं बनी हुई हैं।

आईसीएफए के अध्यक्ष मानते हैं कि इन बिल के आने से कृषि क्षेत्र में कई विकल्प खुलेंगे और निवेश बढ़ेगा। सप्लाई चेन की प्रणाली बेहतर होगी साथ ही सरकार हो यह भी देखना होगा कि जब बहुत सारी प्राइवेट कंपनियां आएंगी तो उन्हें किस तरह से नियंत्रित रखा जाता है. कृषि क्षेत्र में पोस्ट हार्वेस्ट मैनेजमेंट की बहुत आवश्यकता थी जो प्राइवेट सेक्टर के आने से बेहतर होगा।

रिपोर्ट सोर्स, पीटीआई

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

TIME वाली दबंग दादी हापुड़ की रहने वाली हैं, गाँव में जश्न का माहौल

नई दिल्ली : दादी बिलकिस हापुड़ के गाँव कुराना की रहने वाली हैं। टाइम मैगज़ीन में दादी का नाम आने से गाँव...

बिहार विधानसभा चुनाव : तेजस्वी यादव का बड़ा वादा, कहा- ‘पहली कैबिनेट में ही करेंगे 10 लाख युवाओं को नौकरी का फैसला’

पटना (बिहार) : बिहार विधानसभा चुनाव तारीखों का ऐलान हो गया है, 10 नवंबर को चुनावी नतीजे भी आ जाएंगे, पार्टियों ने...

हापुड़ : गंगा एक्सप्रेस-वे एलाइनमेंट बदला तो होगा आंदोलन : पोपिन कसाना

हापुड़ (यूपी) : मेरठ से प्रयागराज के बीच प्रस्तावित गंगा एक्सप्रेस-वे के एलानइमेंट बदले जाने को लेकर स्थानीय निवासियों ने विरोध जताया...

चाचा की जायदाद हड़पने के लिए “क़ासमी” बन्धुओं ने दिया झूठा हलफनामा, दाँव पर लगा दी “क़ासमी” घराने की इज़्ज़त, तय्यब ट्रस्ट भी सवालों...

शमशाद रज़ा अंसारी मुसलमानों की बड़ी जमाअत सुन्नियों में मौलाना क़ासिम नानौतवी का नाम बड़े अदब से लिया जाता...

पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह का निधन, बीते 6 साल से थे कोमा में, PM मोदी ने शोक व्यक्त किया

नई दिल्ली : दिग्गज बीजेपी नेता जसवंत सिंह का 82 साल की उम्र में निधन हो गया, पीएम मोदी ने उनके निधन पर...