नई दिल्ली/दोहा : तालिबान के राजनीतिक कार्यालय के प्रवक्ता सुहैल शाहीन ने कहा है कि अफगानिस्तान में एक स्थायी युद्ध विराम तभी हो पाएगा जब देश में सरकारी व्यवस्था इस्लामी हो जाएगी। शाहीन ने दोहा में अफगान सरकार के साथ जारी वार्ता के इतर शनिवार को कहा, “इस्लामी अमीरात चाहता है कि सरकार की व्यवस्था इस्लामी हो जाए। जिस दिन ऐसा किया जाता है तो उसी दिन युद्ध विराम हो जाएगा।” अफगानिस्तान सरकार और तालिबान आंदोलन के बीच शांति समझौते के लिए शनिवार को कतर की राजधानी दोहा में अंतर अफगान वार्ता शुरू हुई।

गौरतलब है कि इसी वर्ष फरवरी में दोहा में ही अमेरिका और आतंकवादी समूह के बीच शांति समझौता हुआ था जिसमें दोनों पक्षों (अफगान सरकार और तालिबान) की ओर से कैदियों एवं बंदियों की रिहाई की शर्त रखी गयी थी। इस प्रक्रिया के पूरा होने के बाद ही अंतर अफगान वार्ता शुरू होने की शर्त रखी गयी थी। आज से शुरू हुई वार्ता के एजेंडे के प्रमुख विषयों में स्थायी युद्ध विराम, अफगानिस्तान की भविष्य की राजनीतिक प्रणाली और सामाजिक मुद्दों की एक श्रृंखला शामिल है।

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

रिपोर्ट सोर्स, पीटीआई

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here