पटना (बिहार) : बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कृषि क्षेत्र का और विकास, सड़क परिवहन का विस्तार तथा लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने के लिए राजधानी पटना में आज कृषि भवन, अंतर्राज्यीय बस टर्मिनल और सार्वजनिक-निजी भागीदारी (पीपीपी) के तहत बने जयप्रभा मेदांता अस्पताल का उद्घाटन किया।

कुमार ने शुक्रवार को 125.23 करोड़ रुपये की लागत से 23.80 एकड़ क्षेत्र में मीठापुर, पटना में नवनिर्मित कृषि भवन का उद्घाटन किया। इसके बाद उन्होंने कृषि भवन में कृषि विभाग की उपलब्धियों, संस्थानों, धरोहरों से संबंधित लगाई कई प्रदर्शनी का भी अवलोकन किया। उन्होंने बिहान ऐप एवं पुस्तिका बिहार एग्री इंवेस्टमेंट प्रमोशन इको सिस्टम का भी लोकार्पण किया।

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर TheHindNews Android App

कृषि भवन परिसर में निर्मित सभी भवनों के डिजाइन हरित भवन संकल्पना पर आधारित है। सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) से निकले हुये जल का उपयोग फ्लशिंग एवं बागवानी में किया जाएगा। सम्पूर्ण परिसर में ड्रेन एवं सड़कें बनायी गयी हैं। इस भवन के निर्माण के क्रम में पर्यावरण एवं जल संरक्षण का पूर्ण ध्यान रखा गया है। सम्पूर्ण परिसर जीरो वाटर डिस्चार्ज पर डिजाइन किया गया है। परिसर में 17 वाटर हार्वेस्टिंग स्ट्रक्चर एवं एक वाटर बॉडी का निर्माण किया गया है। कार्यालय के लिए 36 वाहन पार्किंग एवं आवासीय परिसर में 91 वाहन पार्किंग की व्यवस्था है। भवनों का निर्माण भूकम्परोधी तकनीक से किया गया है। पूरे भवन में फायर फाइटिंग, सीसीटीवी आधुनिक सुविधाओं के साथ केंद्रीकृत वातानुकूलन की व्यवस्था की गई है।

परिसर में हरित क्षेत्र को विशेष प्राथमिकता दी गयी है। इस परिसर में राज्य स्तरीय कृषि भूमि संरक्षण उद्यान निदेशालय एवं इससे जुड़े सभी कार्यालय, बिहार राज्य बीज निगम, बिहार राज्य बीज एवं जैविक प्रमाणन एजेंसी, राज्य स्तरीय मिट्टी, बीज, उर्वरक एवं कीटनाशी जांच प्रयोगशाला, पटना प्रमंडल स्तरीय कृषि, उद्यान, भूमि संरक्षण संबंधित कार्यालय, जिला स्तरीय कृषि, उद्यान, भूमि संरक्षण से संबंधित कार्यालय, जिला स्तरीय आत्मा कार्यालय तथा जिला स्तरीय मिट्टी एवं बीज परीक्षण प्रयोगशाला हैं। प्रशासनिक कार्यालयों एवं प्रयोगशालाओं के एक साथ कार्यरत होने से पटना जिले के साथ-साथ पूरे राज्य के किसानों को इसका लाभ मिलेगा। पटना जिले के लिए कृषि भवन राज्य स्तरीय कृषि भवन के साथ ही स्थापित हुआ है।

मुख्यमंत्री ने पटना में पहाड़ी, पटना-गया रोड पर नवनिर्मित अन्तर्राजीय बस टर्मिनल (आईएसबीटी) के साथ रिमोट के माध्यम से आरा, औरंगाबाद, नवादा एवं झाझा के बसअड्डों का भी उद्घाटन किया। उन्होंने आईएसबीटी के विभिन्न भागों का निरीक्षण कर जानकारी ली और आवश्यक निर्देश दिये। इसके बाद उन्होंने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि आईएसबीटी का नाम बदलकर अब पाटलिपुत्र बस टर्मिनल कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि इतना बड़ा बस टर्मिनल शायद ही कहीं और मिलेगा। इस बस टर्मिनल में सारी सुविधाओं और सुरक्षा का भी ध्यान रखा गया है।

ब्यूरो रिपोर्ट, पटना

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here